भागवत कथा में बताया गीता का महत्व, भंडारा भी हुआ

Dhamtari News - धमतरी. हवन-पूजन के साथ भागवत कथा का समापन हुआ। भास्कर न्यूज | धमतरी नगर पंचायत आमदी में आयोजित श्रीमद् भागवत...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 02:26 AM IST
Dhamtari News - chhattisgarh news the importance of geeta bhandara also happened in bhagwat katha
धमतरी. हवन-पूजन के साथ भागवत कथा का समापन हुआ।

भास्कर न्यूज | धमतरी

नगर पंचायत आमदी में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का गीता पाठ, हवन-पूजन के साथ समापन हुआ। कथा वाचक पं. झम्मन शास्त्री ने गीता की महत्ता पर प्रकाश डाला। उन्होंने युद्ध के पहले दुर्योधन और भगवान कृष्ण के संवाद का उदाहरण देते हुए कहा कि जब बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है, तो भगवान की बातें भी समझ में नहीं आतीं। दुर्योधन ने साफ कहा था कि उन्हें मालूम है कि धर्म क्या है, लेकिन वह धर्म की राह में चलना नहीं चाहते। जब भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी सेना और स्वयं में से किसी एक को चुनने का मौका दुर्योधन और अर्जुन को दिया, तो दुर्योधन ने तपाक से सेना को लेना स्वीकारा, जबकि अर्जुन ने कहा कि जिसके साथ प्रभु होंगे उसे किसी सेना की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सनातन धर्म में गूढ़ रहस्यों का खजाना छुपा हुआ है, जिसे विदेशी शोध के माध्यम से समझ रहे हैं। पूजा के समय शंख और घंटी के बजाने पर भी शोध हो रहा है और पाया गया कि जहां पर भी शंख नाद होता है, वहां पर नकारात्मक विचारों से मुक्ति मिल जाती है। पुराण के समापन अवसर पर आदित्य वाहिनी, धर्म संघ के सदस्यों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर पूर्व विधायक गुरमुख सिंह होरा, गोपाल शर्मा, नपं अध्यक्ष प्रीति कुंभकार, जितेंद्र शर्मा, तेजराम साहू, विकास शर्मा, आकाश मिश्रा, संजय काजवानी, शंकर साहू, फूलसिंह साहू आदि उपस्थित थे।

कथा का रसपान करने बड़ी संख्या में श्रोता पहुंचे।

X
Dhamtari News - chhattisgarh news the importance of geeta bhandara also happened in bhagwat katha
COMMENT