--Advertisement--

खरेंगा स्कूल में स्पर्धा से लौटते हुए बच्चों ने खाया रतनजोत,34 बीमार

Dhamtari News - ग्राम खरेंगा के 34 स्कूली बच्चों की रतनजोत खाने के कारण तबियत खराब हो गई है। जिला अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 02:22 AM IST
Dhamtari News - children returning from the competition at kharega school khatia ratanjot 34 sick
ग्राम खरेंगा के 34 स्कूली बच्चों की रतनजोत खाने के कारण तबियत खराब हो गई है। जिला अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया है। उन्हें उल्टी और चक्कर की शिकायत है। करीब 10 बच्चे दो घंटे से ज्यादा समय तक बेहोश रहे। शनिवार को खरेंगा शासकीय हाई स्कूल में खेलकूद प्रतियोगिता चल रही थी। मैदान के पास ही रतनजोत के पेड़ हैं। खेल देखने के बाद प्राइमरी स्कूल के बच्चों ने रतनजोत के फल खा लिए।

रात तक न तो डीईओ को इसके बारे में जानकारी थी और न ही बीईओ, एबीईओ और बीआरसीसी को। बहरहाल बच्चों की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। सभी बच्चों की उम्र छह से 12 साल के बीच है। रात को 4 शिक्षक देखने के लिए पहुंचे थे।

प्राइमरी स्कूल के बच्चों की छुट्टी दोपहर 2 बजे के आसपास हो गई थी। इसके बाद वे हाई स्कूल में चल रहे खेलकूद देखने लगे। शाम 4 बजे के आसपास जब खेलकूद समाप्त हुआ तो वे घर पहुंचे। वहां उल्टी और चक्कर आने लगा। इससे परिजनों को शक हुआ। उन्होंने पड़ोसियों के बच्चों के बारे में पूछा तो वहां भी वही शिकायत थी। फिर बच्चों ने भी बता दिया कि मैदान के पास लगे पेड़ से उन्होंने फल खाया है। पालक तत्काल समझ गए। एंबुलेंस 108 को कॉल किया। एंबुलेंस से ही बच्चों को जिला अस्पताल में लाया गया। सभी बच्चों को एक ही वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा है। जिन बच्चों ने ज्यादा मात्रा में रतनजोत खा लिया था वो दो घंटे से भी ज्यादा समय तक बेहोश रहे।

परेशान पालक गरम कपड़े लेकर अस्पताल पहुंचे : इधर एक ही गांव के 34 बच्चों के एक साथ बीमार पड़ने से गांव में कोहराम जैसे स्थिति बन गई है। बच्चों के पालक गर्म कपड़े लेकर अस्पताल पहुंच गए है। शिक्षकों को जानकारी होने के बाद भी जिला अस्पताल पहुंचकर बच्चों की हालत से अवगत हुए। पुलिस अफसरों भी अस्पताल पहुंचकर बच्चों की हालत देखी और घटनाक्रम से अवगत हुए।

धमतरी. जिला अस्पताल में रतनजाेत के फल खाने से बीमार बच्चों का इलाज चल रहा है।

मची अफरा-तफरी

एक के बाद दूसरे बच्चे के बीमार होने की जानकारी मिली तो पालक और ग्रामीण परेशान हो गए। फिर जब पता चला कि गांव के अधिकतर बच्चों ने रतनजोत खा लिया है और बेहोश हो रहे हैं तो किसी अनहोनी की आशंका से उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। गांव में अफरा तफरी मच गई। चीख पुकार मच गई।

ये बच्चे हुए बीमार

धनेश्वर, मेघराज, रूपेश, दीपांशु, हीरेंद्र, रिया, पियूष, टेमन, इशिता, दुर्गेश, देवेंद्र, अश्वनी, पुरुषोत्तम, समेंद्र, छविकांत, चेतना, चालेंद्र, हर्ष, नीरज कुमार, टुकेश्वर, होमेश्वर, सागर, दिव्या, देविका, लिखेश, देवेश, देवेंद्र, भागवत, संजय, दामन, राहुल, युवरानी, गगन, जागृति बीमार हुए हैं।

सभी खतरे से बाहर

सीएमएचओ डॉ. डीके तुर्रे ने बताया कि रतनजोत खाने से 34 बच्चों की तबियत खराब हो गई है। जिला अस्पताल में उनका इलाज किया जा रहा है। उन्हें उल्टी और चक्कर की शिकायत है। लेकिन सभी बीमार बच्चे खतरे से बाहर हैं। स्वास्थ्य ठीक होने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी जाएगी।

मुझे, बीईओ, एबीईओ को जानकारी नहीं : इस मामले में डीईओ ब्रजेश वाजपेयी ने कहा मुझे जानकारी नहीं है। मैं रायपुर में हूं। न ही बीईओ, एबीईओ और बीआरसीसी को जानकारी है। शायद बच्चों के परिजनों की कोई जानकारी नहीं दी है। मैंने अधिकारियों को जानकारी लेने और बच्चों का हाल-चाल जानने के लिए कहा है।

X
Dhamtari News - children returning from the competition at kharega school khatia ratanjot 34 sick
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..