--Advertisement--

परंपरा...मुहूर्त में की होलिका पूजा, रात में जलाई होली

डोंगरगढ़| उल्लास व उमंग का पर्व होली नगर में पारंपरिक ढंग से मनाया गया। होलिका दहन के अवसर पर गुरुवार को भद्रा रहने...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 02:35 AM IST
डोंगरगढ़| उल्लास व उमंग का पर्व होली नगर में पारंपरिक ढंग से मनाया गया। होलिका दहन के अवसर पर गुरुवार को भद्रा रहने के कारण सुबह 7 बजे से ही मारवाड़ी समाज की महिलाओं की कतार होलिका पूजन के लिए लगना प्रारंभ हो गई थी। पं. मुन्ना लाल शास्त्री ने बताया कि सुबह 8.57 बजे से रात 9 बजे तक भद्रा होने की वजह से इस काल में पूजन वर्जित है। महिलाओं ने सुबह 7 बजे से 8.45 बजे तक होलिका का पूजन विधि-विधान से किया। सभी विवाहित महिलाएं चुनरी ओढ़कर होलिका का जल छिड़ककर रोली, मौली, गुलाल लगाकर पूजन-अर्चन किया। गोबर से बिड़कुलें बनाकर उन्हें रस्सी में पिरोकर माला पहनाई गई। फेरे लेकर पूजन-अर्चना कर सुख-समृद्धि की कामना की।