--Advertisement--

भिलाई में डेंगू से मरने वालों को संख्या 11 हुई, मुख्य चिकित्सा अधिकारी को हटाया गया

400 से ज्यादा डेंगू पीड़ित अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 05:18 PM IST
डेंगू प्रभावित इलाकों में निग डेंगू प्रभावित इलाकों में निग

  • 15 हजार से ज्यादा घरों के कूलर में मिला डेंगू का लार्वा
  • शहर में डेंगू का पहला मरीज जून में ही मिला था तब भी स्वास्थ्य विभाग नहीं चेता

भिलाई। शहर में डेंगू मच्छरों के आतंक ने अब तक 11 लोगों की जानें ले ली हैं। शुक्रवार को ये संख्या 10 थी। शहर में बेकाबू हो रहे डेंगू से लोगों में प्रशासन के प्रति आक्रोश भी बढ़ रहा है। ऐसे में सरकार ने शनिवार को एक आदेश जारी करते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुभाष पांडे को हटाकर डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर को नया सीएमएचओ बनाया है।

- शुक्रवार को मुख्य सचिव अजय सिंह ने प्रशासनिक अमले के साथ रिव्यू मीटिंग की थी। इस मीटिंग में पता चला कि शहर में डेंगू का पहला मरीज जून में ही मिल गया था। इसकी जानकारी सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग को थी। तब स्वास्थ्य विभाग ने नगर निगम भिलाई और बीएसपी मैनेजमेंट को बताना तो दूर उस मरीज को भी ट्रेस नहीं किया। स्थिति ये हुई कि जून से 15 जुलाई तक डेंगू के मच्छर से उसका वायरस पूरे खुर्सीपार और टाउनशिप में फैल गया। इसलिए डेंगू के ये हालात बने।

- सीएस सिंह ने पूछा, आखिर डेंगू इतना भयावह कैसे हो गया? 10 लोग कैसे मर गए?‌ ठोस जवाब किसी के पास नहीं था। तभी हेल्थ डिपार्टमेंट के अफसर और कलेक्टर ने अपनी स्टडी रिपोर्ट बताई। रिपोर्ट में सीएस को बताया कि, सबसे पहला केस जून में मिला था। उसके यहां कूलर था। वह झारखंड से डेंगू लेकर आया था। उसी की वजह से पूरे खुर्सीपार और टाउनशिप इलाके में डेंगू का प्रकोप फैला। इसलिए अब सवाल उठता है कि डेंगू का पहला केस जून में ही मिल गया था तब किसी ने इसके रोकथाम के लिए कदम क्यों नहीं उठाए।

15 हजार से ज्यादा घरों के कूलर में मिला डेंगू का लार्वा

- नगर निगम भिलाई ने डेंगू के रोकथाम के लिए कई इलाकों में जाकर कूलर से पानी खाली करवाया। इसके लिए निगम की टीम ने कैंप इलाके में विशेष अभियान चलाया। खुर्सीपार की तरह यहां के हर दूसरे घरों में कूलर है। यहां डेंगू का लार्वा भी मिला। करीब 13 हजार से ज्यादा घरों के कूलर में डेंगू का लार्वा पाया गया है। कलेक्टर उमेश अग्रवाल, आयुक्त केएल चौहान ने सुबह से ही इस काम को खड़े होकर करवाया। उन्होंने कहा, सभी अपने-अपने घरों के कूलर का पानी खाली कर दें।

सभी ब्लड बैंक में रखें पर्याप्त ब्लड डेंगू के मरीज को दें प्राथमिकता

- चीफ सेक्रेटरी सिंह ने जिले के पांच प्रमुख ब्लड बैंक संचालकों की मीटिंग भी ली। सीएस ने कहा, सभी अपना स्टॉक पूरा रखें। डेंगू के मरीजों को तत्काल ब्लड देना है। स्टॉक मेंटेन करके रखिए। ब्लड सुरक्षित तरीके से निकाले। सभी ब्लड बैंक रोजाना रिपोर्ट देंगे कि उन्होंने किस अस्पताल को कितना ब्लड दिया। मीटिंग में सभी पांच प्रमुख ब्लड बैंक के संचालक मौजूद रहे।


सफाई ठेके पर भी बोले सीएस, क्यों नहीं हुआ ठेका, इसकी लेता हूं खबर
- पत्रकारों से बात करते हुए सीएस सिंह ने कहा कि, डेंगू के रोकथाम के लिए रिव्यू मीटिंग किया है। सभी को जरूरी निर्देश दिए गए हैं। डेंगू कैसे फैला, इसका अध्ययन किया गया है। लोगों ने कूलर का पानी खाली नहीं किया था। शहर की सफाई का ठेका न होने के कारण वैकल्पिक व्यवस्था की होगी। ठेका क्यों नहीं हुआ, इसके बारे में मैं जानकारी लेता हूं।

फोटो : अजीत भाटिया


X
डेंगू प्रभावित इलाकों में निगडेंगू प्रभावित इलाकों में निग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..