--Advertisement--

भिलाई में डेंगू से अब तक 9 लोगों की मौत, 400 से ज्यादा मरीज भर्ती

कुछ मौतों में इलाज की खानापूर्ति का भी आरोप लगा है

Dainik Bhaskar

Aug 09, 2018, 07:53 PM IST
डेंगू से मीमांसा और टोमेंद्र क डेंगू से मीमांसा और टोमेंद्र क

भिलाई। शहर में डेंगू का कहर बढ़ता ही जा रही है। गुरुवार को दो और मौतों के साथ ये आंकड़ा 9 तक पहुंच गया है। अस्पतालों में 400 से ज्यादा मरीज अभी भी डेंगू के दर्द से जूझ रहे हैं। गुरुवार को 13 साल की मीमांसा और टोमेंद्र सेन ने डेंगू से दम तोड़ दिया।

- कुछ मौतों में इलाज की खानापूर्ति का भी आरोप लगा है। मंगलवार को हुई बालिका की मौत में उसके परिजनों ने आरोप लगाया है कि मौत से एक दिन पहले छह अगस्त को सरकारी अस्पताल में डेंगू जांच की किट रहते हुए बालिका की मलेरिया की जांच कर इलाज की खानापूर्ति की गई। वहां से घर आने के बाद तबीयत बिगड़ने पर घर के सदस्य उसे पास के निजी अस्पताल बीएम शाह अस्पताल ले गए। रिपोर्ट में डेंगू की पुष्टि होने पर उस दिशा में इलाज शुरू किया। मंगलवार शाम को उपचार के दौरान मौत हो गई।

पिता बोले- सरकारी सिस्टम से हुई मेरी बेटी की मौत

- दीपाली के पिता अवतार सिंह ने कहा कि, लालबहादुर शास्त्री अस्पताल के डॉक्टर की लापरवाही से मेरी बच्ची की मौत हुई है। मैंने उनसे कहा था कि डॉक्टर साहब दीपाली की डेंगू जांच कराइए, लेकिन उन्होंने मलेरिया की जांच कराई। निगेटिव आने पर इंजेक्शन लगवाकर घर भेज दिया। शाम में तबीयत बिगड़ी तो मैं बेटी को लेकर बीएम शाह अस्पताल गया। जांच करने पर उसे डेंगू होने की पुष्टि हुई।

-प्रभारी चिकित्साधिकारी, सुपेला डॉ. बीपी तिवारी ने कहा कि मेरे संज्ञान में यह मामला नहीं था। हमारे अस्पताल में डेंगू जांच की सुविधा है। इलाज के लिए सबसे जरूरी प्लेटलेट की जांच हमारे यहां सिर्फ जिला अस्पताल में ही होती है। मैं जांच कराने के बाद एक्शन लूंगा।

कंटेंट : यशवंत साहू

फोटो : अनुराग शर्मा

X
डेंगू से मीमांसा और टोमेंद्र कडेंगू से मीमांसा और टोमेंद्र क
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..