• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • सिगड़ी जलती छोड़ बच्चों के साथ सोने चली गई मां, दम घुटने से तीन बच्चों की मौत
--Advertisement--

सिगड़ी जलती छोड़ बच्चों के साथ सोने चली गई मां, दम घुटने से तीन बच्चों की मौत

भास्कर न्यूज | लखनपुर (अंबिकापुर) सरगुजा जिले के गुमगरा गांव में कोयले की सिगड़ी जलाकर कमरे में सो रहे परिवार के...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:15 AM IST
सिगड़ी जलती छोड़ बच्चों के साथ सोने चली गई मां, दम घुटने से तीन बच्चों की मौत
भास्कर न्यूज | लखनपुर (अंबिकापुर)

सरगुजा जिले के गुमगरा गांव में कोयले की सिगड़ी जलाकर कमरे में सो रहे परिवार के तीन बच्चों की दम घुटने से मौत हो गई, जबकि बच्चों की मां को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने महिला की हालत खतरे से बाहर बताई है। पुलिस के मुताबिक हीरा बाई (35) के पति मोहर साय गांव के साथियों के साथ आदिवासी सम्मेलन में शामिल होने के लिए डोंगरगढ़ गए हुए थे। हीरा बाई बुधवार रात खाना खाने के बाद कोयले की जलती सिगड़ी छोड़कर बेटे प्रेमचंद (13), प्रीतम (11) और बेटी आरती (10) के साथ कमरे में सो गई। दोनों बेटे एक चारपाई पर सोए हुए थे जबकि हीरा बाई बेटी को लेकर दूसरी चारपाई पर थी। भोर में हीरा बाई को बेचैनी लगने लगी। उसकी नींद खुली तो बेटी आरती चारपाई से नीचे गिरी हुई थी। शेष|पेज 7

उसे भी अच्छा नहीं लग रहा था। वह किसी तरह उठकर पड़ोसी पातर साय के घर गई और बताया कि बेटी चारपाई से गिर गई है और अब उठ नहीं रही है। पातर ने कमरे में जाकर देखा तो तीनों बच्चों की दम घुटने से मौत हो चुकी थी। इसके कुछ देर बाद हीरा बाई भी बेहोश हो गई।

कमरे में कार्बन मोनोआक्साइड की मात्रा बढ़ने से हुई मौत

बंद कमरे में कोयला जलने से उससे निकले कार्बन मोनोआक्साड की मात्रा बढ़ गई। कमरे में ऑक्सीजन के आने की जगह नहीं होने से उसमें सो रहे लोग कार्बन मोनाआक्साडड ही सांस से लेते रहे। यह जहरीली गैस है। शरीर में ऑक्सीजन खत्म हो गया और धीमे श्वसन से बच्चों की मौत हो गई। महिला पर भी इसका असर हुआ लेकिन बड़ी होने के कारण उसकी जान बच गई।

एसके सिंह, वरिष्ठ वैज्ञानिक, एफएसएल, अंबिकापुर

मृत बच्चे और उनकी बीमार मां।

बेमेतरा में वाहन पलटने से 3 की मौत, 27 घायल

बेमेतरा | बेरला ब्लॉक के सिवार गांव में तेज गति के कारण एक मालवाहक वाहन अनियंत्रित होकर पलट गया। घटना में दो महिला सहित तीन लोगों की मौत हो गई और 27 घायल हैं। इनमें से गंभीर रूप से घायल 11 लोगों को रायपुर रेफर किया गया है। पुलिस के मुताबिक बुधवार को सहसपुर लोहारा थाने के ढोरली गांव से 50 लोग एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए टाटा-407 (सीजी 09 जेई 7020) से अहिवारा थाने के सेमरिया गांव गए थे। शेष|पेज 7

वहां से वापस लौटते समय रात लगभग 8.30 बजे सिवार गांव में तालाब के पास तेज रफ्तार होने के कारण वाहन बेकाबू होकर पलट गया। घटना में जानकी बाई यादव (35) और रैमत बाई निषाद (40) की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। गंभीर रूप से घायल चिंतू ध्रुवे (55) की इलाज के दौरान मौत हो गई। हादसे में 19 महिला, 8 बच्चे और 2 पुरुष घायल हैं। इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

X
सिगड़ी जलती छोड़ बच्चों के साथ सोने चली गई मां, दम घुटने से तीन बच्चों की मौत
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..