• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • जिनके पास रहने के लिए है कच्चा मकान, अब सरकार उन्हें भी जून तक देगी उज्ज्वला योजना का गैस कनेक्शन
--Advertisement--

जिनके पास रहने के लिए है कच्चा मकान, अब सरकार उन्हें भी जून तक देगी उज्ज्वला योजना का गैस कनेक्शन

प्रदेश में दुर्ग एक मात्रा ऐसा जिला बनने जा रहा है, जहां रसोई गैस से खाना बनेगा। इसे लेकर रविवार 1 अप्रैल से मुहिम...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:05 AM IST
प्रदेश में दुर्ग एक मात्रा ऐसा जिला बनने जा रहा है, जहां रसोई गैस से खाना बनेगा। इसे लेकर रविवार 1 अप्रैल से मुहिम शुरू कर दी गई। इसके तहत जिले के सभी करीब 3 लाख 49 हजार परिवारों के घरों तक रसोई गैस कनेक्शन पहुंचाया जाएगा। दावा है कि अब तक करीब 3.10 लाख घरों तक प्रशासनिक स्तर पर रसोई गैस कनेक्शन दिया जा चुका है। शेष 39 हजार कनेक्शन के लिए शुरुआत कर दी गई है। पिछले दिनों सीएम डॉ. रमन सिंह दुर्ग जिले पर आए थे। तब घोषणा हुई थी।

राहत की खबर

जल्द ही जिला बनेगा प्रदेश का पहला जिला, जहां शत्-प्रतिशत घरों में रसोई गैस से बनेगा खाना, कनेक्शन बांटने हुई तैयारी

3.10 लाख परिवार को सरकार पहले ही दे चुकी है गैस कनेक्शन

अब सरकार के नए आदेश के तहत गैस कनेक्शन के लिए ये भी पात्रता

शासन स्तर पर उज्जवला योजना के तहत कुछ नए हितग्राही तय किए गए हैं। इनमें एसटीएससी परिवार, अंत्योदय कार्डधारी, जिनके कच्चे मकान हैं, मकान में छत की जगह चप्पर है। आदिवासी क्षेत्रों में निवास करते हैं। उन सभी घरों पर रसोई गैस कनेक्शन दिया जाएगा। शासन स्तर पर तैयारी है कि जिले को पूरे प्रदेश के लिए एक रोल मॉडल बनाया जाए। इसलिए यहां लगभग सभी घरों पर रसोई गैस कनेक्शन दिया जाना है। प्रशासन के मुताबिक जिन्हें कनेक्शन उपलब्ध कराया जाना है, वे सभी योजना के दायरे में है।

सरकार का दावा: धुएं का प्रदूषण होगा कम, पर्यावरण होगा संरक्षित

दावा किया जा रहा है कि रसोई गैस के उपयोग से घरों से उठने वाला धुआं कम होगा। महिलाओं को खाना बनाते समय होने वाली परेशानियों से मुक्ति मिल सकेगी। गैस के उपयोग से जब चाहे तब चाय-नाश्ते व खाना तैयार किया जा सकेगा। प्रशासनिक स्तर पर इससे लिए ग्रामीण क्षेत्रों में जहां गैस एजेंसियां खोली जा रही। वहीं गैस सिलेंडरों की भी उपलब्धता बढ़ाई जा रही। हालांकि, अब भी भिलाई व दुर्ग के कई ऐसे श्रमिक बस्ती है जहां लोगों को उज्जवला योजना के तहत कनेक्शन नहीं मिला है। ऐसे इलाकों का सर्वे किया जाएगा।

जिले में 53 हजार दिए गए कनेक्शन

वहीं मध्यम वर्गीय व पूंजीपतियों के घरों में पहले से ही रसोई गैस कनेक्शन हैं। उज्जवला योजना के तहत जिले में अब तक 53 हजार कनेक्शन दिए जा चुके हैं, वहीं पूर्व में पात्रता के हिसाब से करीब 71 हजार का लक्ष्य रखा गया है। वर्तमान में नए नियमों में कुछ और नए हितग्राही जुड़ेंगे।

दुर्ग प्रदेश में पहला जिला होगा...


X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..