• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • सेल में कर्मी से अफसर बनने के लिए 2 से 10%तक पदों की संख्या बढ़ाएं, इससे मिलेगा अवसर:बीएमएस
--Advertisement--

सेल में कर्मी से अफसर बनने के लिए 2 से 10%तक पदों की संख्या बढ़ाएं, इससे मिलेगा अवसर:बीएमएस

सेल में कर्मियों को अफसर बनने का अवसर देने के लिए होने वाली ई-जीरो परीक्षा बीते तीन बार से नहीं हुई है। एेसे में...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:10 AM IST
सेल में कर्मियों को अफसर बनने का अवसर देने के लिए होने वाली ई-जीरो परीक्षा बीते तीन बार से नहीं हुई है। एेसे में प्रबंधन को चाहिए कि अधिक से अधिक कर्मियों को अफसर बनने का अवसर प्रदान करे। इसके लिए उसे पदों की संख्या दो प्रतिशत से बढ़ाकर 10 प्रतिशत करना होगा।

यह मांग भिलाई इस्पात मजदूर संघ (बीएमएस) के महामंत्री दिनेश पांडेय ने दिल्ली में डायरेक्टर पर्सनल अतुल श्रीवास्तव के साथ चर्चा के दौरान की। महामंत्री ने डायरेक्टर पर्सनल को बताया कि 2008 और 2010 में ई जीरो की जो लिखित परीक्षा आयोजित की गई थी, वह विवादों में रही। परीक्षा में अनियमितता और भ्रष्टाचार के आरोप लगे। मुद्दा कोर्ट तक गया, जहां आज भी मामला पेंडिंग है। वर्ष 2008 और 2010 के ई जीरो के सर्कुलर में प्रबंधन ने यह स्पष्ट कर दिया था, यह परीक्षा हर 2 वर्ष में आयोजित की जाएगी। वर्ष 2008 के पूर्व तक कर्मचारी से अधिकारी वर्ग पर पदोन्नति सिर्फ इंटरव्यू के माध्यम से होता था, जो कभी भी विवादों में नहीं रहा।

लिहाजा यूनियन की मांग है कि लिखित परीक्षा की अनिवार्यता समाप्त कर प्रमोशन सिर्फ इंटरव्यू के आधार पर दिया जाए। साथ ही वर्ष 2008 में जारी सर्कुलर के अनुसार वर्ष 2012, 2014, 2016 में ई जीरो परीक्षा होनी थी लेकिन प्रबंधन ने नहीं किया। पदों की संख्या पात्र 10 प्रतिशत किया जाए।

िदल्ली में डायरेक्टर पर्सनल से बीएमएस प्रतिनिधि मंडल ने मुलाकात की।

दिल्ली में डायरेक्टर से इन मुद्दों पर भी हुई चर्चा

इसके अलावा यूनियन के महामंत्री ने कर्मचारियों के लंबित वेतनमान के लिए शीघ्र एनजेसीएस की बैठक बुलाने, डिप्लोमा होल्डर को जूनियर इंजीनियर पद नाम देने, ईएल एनकैशमेंट जल्द शुरू करने, एचआरए आदि पर चर्चा हुई।

श्रम अवार्डी के प्रमोशन में भी है कई तरह विसंगति

महामंत्री ने डायरेक्टर पर्सनल को बताया कि प्रधानमंत्री श्रम अवार्ड में एक प्रमोशन दिए जाने का जो प्रावधान है उसमें एक विसंगति है। यदि कर्मचारी पहले से ही एस-11 ग्रेड में है तो उसे प्रमोशन का फायदा नहीं मिल पाता। इस पर संशोधन होना चाहिए।