• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • 150 बाद हुए अनोखे चंद्रगहण को देखने उमड़ी लोगों की भीड़, मंदिरों के पट रहे बंद
--Advertisement--

150 बाद हुए अनोखे चंद्रगहण को देखने उमड़ी लोगों की भीड़, मंदिरों के पट रहे बंद

बुधवार को चंद्र ग्रहण के सूतक काल में मंदिरों के पट बंद रहे। लोगों ने इस दौरान अन्न, जल ग्रहण नहीं किया। ग्रहण खत्म...

Danik Bhaskar | Feb 01, 2018, 02:15 AM IST
बुधवार को चंद्र ग्रहण के सूतक काल में मंदिरों के पट बंद रहे। लोगों ने इस दौरान अन्न, जल ग्रहण नहीं किया। ग्रहण खत्म हाेने के पश्चात लोगों ने स्नान, दान कर भोजन आदि ग्रहण किया। शहर में चंद्र ग्रहण के दौरान एस्ट्रोनॉमी क्लब दुर्ग द्वारा सुपर मून, ब्लड मून, ब्लू मून और ग्रहण दिखाने का आयोजन किया गया था। यह आयोजन बैगा पर स्थित एस्ट्रोनॉमी क्लब के अध्यक्ष मणिकांत श्रीवास्तव के निवास पर किया गया। शहर तमाम लोगों ने मौके पर पहुंचकर ग्रहण को देखा। यह दुर्लभ अवसर लगभग 150 वर्षों में एक बार ही आता है, जिसे लेकर लोगों में काफी जिज्ञासा दिखी।

बीआईटी के एस्ट्रो क्लब द्वारा बीआईटी दुर्ग और सिविक सेंटर भिलाई में दूरबीन से चंद्रग्रहण को दिखाया गया। सीएस रॉबिंसन के नेतृत्व में यह गतिविधि हुई।

शाम को 3 घंटे 50 मिनट तक रहा ग्रहण का असर

श्रीवास्तव ने बताया कि खगोलीय गणना के अनुसार दुर्ग-भिलाई में 31 जनवरी की शाम 5.45 से 9.38 बजे तक ग्रहण का प्रभाव रहा। ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटा 50 मिनट की रही। इस दौरान पूर्ण चंद्र ग्रहण 6 बजकर 21 मिनट से 7 बजकर 37 मिनट में देखने के लिए पवन बड़जात्या, सचिव रविंद्र जैन सुमन, प्रहलाद कश्यप, सुरेश पाटनी, महावीर जैन, रजनीश श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।