--Advertisement--

ढाई साल होगा कार्यकाल

इंटरव्यू में पांच कैंडिडेट पहुंचे पीईएसबी के चयन को पीएमओ ने हरी झंडी दी तो एक जुलाई से चार्ज लेंगे, एक दावेदार...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 02:15 AM IST
इंटरव्यू में पांच कैंडिडेट पहुंचे

पीईएसबी के चयन को पीएमओ ने हरी झंडी दी तो एक जुलाई से चार्ज लेंगे, एक दावेदार नहीं पहुंचे

सिटी रिपोर्टर | भिलाई

सेल के डायरेक्टर फाइनेंस अनिल चौधरी कंपनी के नए चेयरमैन होंगे। पब्लिक इंटरप्राइजेस सलेक्शन बोर्ड (पीईएसबी) ने गुरुवार को इंटरव्यू के बाद उनके नाम की घोषणा की। पीएमओ ने पीईएसबी के चयन को हरी झंडी दी तो एक जुलाई को अनिल चौधरी चेयरमैन का चार्ज लेंगे।

गुरुवार को पीईएसबी के इंटरव्यू में 6 दावेदारों में से 5 ने भाग लिया। इनमें सेल के डायरेक्टर फाइनेंस अनिल कुमार चौधरी, मॉइल के डायरेक्टर तन्मय कुमार पटनायक, सेल के ईडी आलोक सहाय, सेल की डायरेक्टर कामर्शियल सोमा मंडल और सेंट्रल इलेक्ट्रानिक्स लिमिटेड के एमडी नलिन सिंघल शामिल थे। एक अन्य दावेदार ईडी एचएन राय इंटरव्यू में शामिल नहीं हुए।

1983 में जूनियर मैनेजर से नौकरी शुरू करने वाले अनिल चौधरी होंगे सेल के नए चेयरमैन

जानिए सेल के नए चेयरमैन को, समझिए क्या है चुनौतियां

खासियत: फाइनेंस के मामलों में नॉलेज और गहरी पकड़

मूलतः हरियाणा निवासी अनिल चौधरी की ट्रेजरी बैंकिंग आपरेशन, कैपिटल बजटिंग, कास्ट आपरेशन बजट, फाइनेंशियल कॉनक्रेंस में जबर्दस्त पकड़ है। वे इंस्टीट्यूट ऑफ कास्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीडब्लूएआई) व इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरी ऑफ इंडिया (आईसीएसआई) के एसोसिएट मेंबर है।

सेल को नई ऊंचाइयां मिलने की उम्मीद: सेल चेयरमैन के लिए अनिल चौधरी के नाम की अनुशंसा किए जाने पर भिलाई इस्पात मजदूर संघ (बीएमएस) के महासचिव दिनेश पांडेय ने विश्वास जताया है उनके कुशल नेतृत्व में सेल सफलता की नई ऊंचाइयां गढेगा, सेल समृद्ध तथा कर्मचारी खुशहाल होंगे।

चयन पर मुहर लगने में दो महीने लगेंगे

पीईएसबी ने सेल चेयरमैन के लिए भले ही अनिल चौधरी का चयन किया है लेकिन अभी पीएमओ की मुहर लगनी बाकी है। पीईएसबी की रिपोर्ट के आधार पर सेंट्रल विजिलेंस अनिल चौधरी के डिटेल का वेरीफिकेशन करवाएगा।

चुनौती: सेल की इकाइयों को वित्तीय संकट से उबारने की होगी

अनिल चौधरी फाइनेंस से हैं। ऐसे में उनके लिए कंपनी के टेक्निकल एक्सपर्ट के साथ तालमेल बिठाना बड़ी चुनौती होगी। इतनी ही नहीं स्टील मार्केट में मंदी के चलते सेल की वित्तीय स्थिति खराब ठीक नहीं है। वहीं वेज रिवीजन और पेंशन स्कीम लागू करने के लिए फंड की व्यवस्था करना होगा। नए ट्रेंड के मुताबिक ट्रेड स्कीम लानी होगी।

ढाई साल तक रहेंगे चेयरमैन

अनिल चौधरी ने एक मार्च 1983 को सेल में जूनियर मैनेजर फाइनेंस के रूप में ज्वाइनिंग दी। ज्यादातर कार्यकाल कार्पोरेट आफिस में फाइनेंस विभाग संभालने में ही बीता। ईडी बनने पर 6 महीने के लिए बोकारो तबादला हुआ था।