Hindi News »Chhatisgarh »Durg Bhilai» अंतर विभागीय ट्रांसफर के लिए बनी सूची, यूनियन करेगी तीन को प्रदर्शन

अंतर विभागीय ट्रांसफर के लिए बनी सूची, यूनियन करेगी तीन को प्रदर्शन

प्लांट के भीतर अंतर विभागीय स्थानांतरण के लिए शॉप्स, मिल और नान वर्क्स एरिया में काम कर रहे 50 साल से अधिक के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:15 AM IST

प्लांट के भीतर अंतर विभागीय स्थानांतरण के लिए शॉप्स, मिल और नान वर्क्स एरिया में काम कर रहे 50 साल से अधिक के कर्मचारियों की सूची बनाने की जानकारी मिलने पर बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने आक्रोश व्यक्त किया है। इस संबंध में शनिवार को हुई बैठक में विरोध करने का फैसला किया गया है। उन्होंने मान्यता प्राप्त यूनियन पर प्रबंधन से सांठगांठ करने का आरोप भी लगाया है।

बीडब्ल्यूयू के अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता ने कहा कि यूनियनों पर दबाव बनाने की नियत से कर्मियों का स्थानांतरण किया जा रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। प्रबंधन मान्यता प्राप्त यूनियन से सांठगांठ कर कर्मियों की सुविधाओं को काट रहा है। कर्मियों में डर पैदा कर रहा है। विभाग प्रमुख बदला लेने के लिए स्थानांतरण करते हैं। बैठक में नरसिंह राव, आरएल सोनवानी, प्रदीप सिंह, जेपी शर्मा, राहुल श्रीवास्तव, नितिन कश्यप, कृष्णमूर्ति, राजकुमार सिंह, दिलेश्वर राव ने संबोधित किया।

इन मांगों पर 3 अप्रैल को सौंपेंगे ज्ञापन : आंतरिक स्थानांतरण न किया जाए। ई-जीरो की परीक्षा की तिथि घोषित करें। कर्मियों के सेवानिवृत होने पर मकान के मिलने वाले री टेंशन को रोकने गलत। तकनीकी शिक्षा प्राप्त कर्मियों को जूनियर इंजीनियर पदनाम दें।

कर्मचारी नेताओं गिनाई खामि

रि-टेंशन की सुविधा बंद करना गलत : वर्मा

महासचिव खूबचंद वर्मा ने कहा कि सयंत्र प्रबंधक के एनजेसीएस यूनियन से हस्ताक्षर लेकर कर्मियों को सेवानिवृत होने पर मकान का री-टेंशन की मिलने वाली सुविधा को बंद करवा दिया है, जो अन्यायपूर्ण है। अचानक लिए गए इस तुगलकी निर्णय ने कर्मियों की परेशानी बढ़ गई है। अब सेवानिवृत होने वाले कर्मियों के सामने परिवार के साथ तात्कालिक व्यवस्था की समस्याएं आ गई है। इससे उनकी परेशानी और बढ़ गई है। इसे पहले की तरह बहाल किया जाए।

अभी तक ई-जीरो परीक्षा नहीं होने पर

यूनियन के उपमहासचिव शिव बहादुर सिंह ने कर्मियों को अधिकारी पद पर पदोन्नत करने के लिए होने वाली ई-जीरो की परीक्षा अभी तक नहीं लेने पर आक्रोश व्यक्त किया। कहा की प्रबंधन अभी तक ई-जीरो परीक्षा की तिथि नहीं बता रहा है। इस नाम पर प्रबंधक के झूठे आश्वासन के चलते कर्मचारी कोचिंग में अपना भारी धन राशि डूबा चुके है। उपाध्यक्ष लक्ष्मीकांत ने एक्सपांसन प्रोजेक्ट के बढ़ने के बाद भी कर्मचारियों को इंसेंटिव नहीं बढ़ाने पर नाराजगी जताई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Durg Bhilai

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×