• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • दफ्तर का घेराव करने पर गार्ड और ठेका श्रमिकों को रुका वेतन देने मिला आश्वासन
--Advertisement--

दफ्तर का घेराव करने पर गार्ड और ठेका श्रमिकों को रुका वेतन देने मिला आश्वासन

एस्सार कंपनी में तैनात 8 सुरक्षा गार्ड और एसएमएस -3 में काम कर रहे 40 ठेका श्रमिकों को तीन महीने का पेंडिंग वेतन...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:20 AM IST
एस्सार कंपनी में तैनात 8 सुरक्षा गार्ड और एसएमएस -3 में काम कर रहे 40 ठेका श्रमिकों को तीन महीने का पेंडिंग वेतन भुगतान करने के लिए प्रबंधन तैयार हो गया है। प्रबंधन ने यह निर्णय तब लिया जब पीड़ित गार्ड और ठेका श्रमिकों ने मामले की जानकारी हिन्दुस्तान इस्पात ठेका श्रमिक यूनियन सीटू को दी। इस पर सीटू ने यूनियन के सदस्यों के साथ कंपनी के दफ्तर का घेराव कर दिया था।

सीटू के योगेश सोनी ने बताया कि एस्सार कंपनी में कार्यरत सुरक्षा गार्ड एवं एसएमएस-3 में निर्माण में लगे ठेका श्रमिक जो कि एस्सार कंपनी में 2014 से कार्यरत थे, वेतन न मिलने पर परेशान हो कर उनसे मामले की शिकायत की। उनकी शिकायत थी कि कंपनी द्वारा तीन माह कार्य करवा कर एक माह का वेतन भुगतान किया जाता है। कोई साप्ताहिक अवकाश नहीं दी जाती। महीने में 30 दिन काम लिया जाता है 26 दिन का भुगतान किया जाता है। इतना ही नहीं 12 घंटे ड्यूटी करवा कर 8 घंटे का भुगतना दिया जाता है। इस पर सीटू सदस्यों के साथ कंपनी दफ्तर का घेराव किया गया।

प्रबंधन से चर्चा के बाद बाहर निकलता श्रमिकों का प्रतिनिधिमंडल।

शिकायत के बाद भी कांट्रेक्ट लेबर सेल के अधिकारी कार्रवाई के बजाय देते हैं धमकी

ठेका श्रमिकों ने बताया कि मामले की शिकायत कर चुके हैं किंतु कांट्रेक्ट लेबर सेल के अधिकारी कार्रवाई करने की बजाए उन्हें ही धमकाने लगते हैं। ऑपरेटिंग अथॉरटी से शिकायत करने पर सीआईएसएफ जवानों को बुलाने की धमकी दी जाती है। शिकायत सुनने के बाद सीटू ने एस्सार के दफ्तर का घेराव किया। इसके बाद प्रबंधन ने सुरक्षा गार्डों को 1 मार्च को दो माह का बकाया वेतन एवं महीने में 30 दिन काम करवाने के एवज में 30 का भुगतान करने का लिखित आवश्वासन दिया।