Hindi News »Chhattisgarh News »Durg Bhilai News» पीएम आवास और नाला समेत करोड़ों की जमीन दलालों के कब्जे में, शासन को अपनी जमीन की जांच के लिए शिकायत का इंतजार

पीएम आवास और नाला समेत करोड़ों की जमीन दलालों के कब्जे में, शासन को अपनी जमीन की जांच के लिए शिकायत का इंतजार

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:25 AM IST

अमलेश्वर में शासकीय हो या फिर निजी जमीन, सभी पर कब्जा है। दलालों ने यहां पर पीएम आवास की जमीन दबा रखी है। नाले पर रोड...
अमलेश्वर में शासकीय हो या फिर निजी जमीन, सभी पर कब्जा है। दलालों ने यहां पर पीएम आवास की जमीन दबा रखी है। नाले पर रोड बनाकर कब्जा किया जा रहा है। इसमें राजस्व विभाग के अधिकारियों पर जमीन दलालों से मिली भगत की आशंका व्यक्त की जा रही है।

इसके बाद मुख्य कारण बताया जा रहा है कि सीमांकन के दौरान उपस्थित रेवेन्यू इंस्पेक्टर दावा और आपत्ति करने वालों की शिकायत नहीं ले रहे। वहीं इस मामले में आरआई ब्रह्मे का कहना है कि अफसरों की मार्किंग वाले आदेश होने पर ही वे आवेदन स्वीकार करते हैं और नायब तहसीलदार साहू का कहना है कि उन्होंने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया है। वहीं उनका कहना है कि ऐसे मामलों में शिकायत के आधार पर जांच की जाती है। कुछ मामलों की शिकायत हुई है। उसकी जांच रिपोर्ट का उन्हें इंतजार है।

अमलेश्वर में चल रही धांधली, आपत्तिकर्ताओं का नहीं ले रहे आवेदन

अफसर बोले...

अमलेश्लवर में शासकीय जमीन पर लगातार कब्जा हो रहा है, लेकिन अफसरों को इसकी जांच के लिए शिकायत का इंतजार है। कुछ लोगों ने दूसरों की जमीन पर कब्जा कर लिया है तो कुछ लोगों ने शासकीय जमीन पर ही मकान, दुकान तान दिया है। बाउंड्री बनाकर उसे घेर लिया है। यहां पर करीब साढ़े पांच एकड़ शासकीय जमीन अवैध कब्जे में है।

रोड के लिए नाप दी निजी भूमि

मुक्ता राठौर, सौरभ राठौर और स्वप्निल राठौर की जमीन खसरा नंबर 647/1, 648/3, 649/1, 648/4, 649/3, 652 और 653 पर है। सीमांकन में जमीन 10 हजार वर्ग फीट कम हो गई। यहां पर 645/5 की जमीन जो 7 हजार वर्ग फीट है उसे मापा गया, लेकिन इसके स्थान पर 647/1 को भी नाप दिया गया।

88लाख रुपए है शासकीय दर एक एकड़ जमीन की: शासन ने जमीन को मापने का पैमाना हेक्टेयर में तय कर रखा है। इसी आधार यहां जमीन की नपाई की जा रही है।

इसमें जमीन दलालों का कब्जा है।

शिकायतों के आधार पर जांच करने कहा जाता है, रिपोर्ट का हमें इंतजार है

नाले पर बना दी सड़क

अमलेश्वर में एक नाला है। उसे पाट दिया गया है और उस पर सड़क बना दी गई है। इसी तरह खसरा नंबर 136 में मुख्य नाला बताया जा रहा है। यहां प्लाट नंबर 170 बनाकर कब्जा किया गया और दुकानें बनाकर किराए पर दे दी गई है। प्लाट नंबर 135 नाले की जमीन है। इसे पाटकर बाउंड्रीवाल बना दिया गया है।

4.5करोड़ रुपए प्रति एकड़ बेच रहे जमीन: दलालों ने यहां खेतों के मेढ़ों को तुड़़वाया। मुरुम से गड्ढों की फिलिंग कराई। बाउंड्री बनाकर जमीन को घेरे और प्लाट काटकर रखे हैं। इसे 4.5 करोड़ प्रति एकड़ की दर से बेच रहे हैं।

पीएम आवास की जमीन पर

यहां प्रधानमंत्री आवास के लिए खसरा नंबर 589 जमीन रखी गई है, उस पर भी जमीन दलालों ने कब्जा कर लिया है। इसका भी समतलीकरण किया जा रहा है। ग्राम डीह में शासकीय जमीन खसरा नंबर 299 पर कब्जा कर प्लाटिंग और उसे बेच दिया गया शिकायत के बाद भी मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई।

05एकड़ से अधिक शासकीय जमीन पर भी कब्जा: यहां शासकीय जमीन, पीएम आवास की जमीन, नाले की जमीन आदि पर कब्जे की शिकायत की गई है। शिकायतकर्ताओं ने संबंधित पेपर्स भी जमा किए हैं।

डोरेलाल की जमीन पर बना घर

कुछ लोगों ने यहां डोरे लाल नामक एक किसान के जमीन पर कब्जा करके अपना मकान बना लिया। जमीन के सीमांकन में इसकी पुष्टि भी हुई, लेकिन जमीन से कब्जा नहीं हटा। इसकी शिकायत भी की गई है, लेकिन संबंधित विभाग की ओर से अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है।

सीधी बात |

आपत्तिकर्ता कर सकते हैं शिकायत...

अमलेश्वर में शासकीय और निजी जमीन पर लगातार कब्जा हो रहा है, आप कुछ नहीं कर रहे?

ऐसी बात नहीं है। आरआई को निर्देश दिया है। उनकी रिपोर्ट का इंतजार है। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

आरआई कहते हैं कि उन्हें आपत्ति लेने मना किया है?

मंैने आरआई को आपत्तियां लेने से मना नहीं किया है। शिकायतों के आधार पर जांच करने कहा है।

यहां कब्जा हो रहा है और अधिकारी कुछ नहीं कर रहे?

आपत्तिकर्ता दस्तावेजों के साथ शिकायत कर सकते हैं। जांच की जाएगी। इसमें किसी तरह की मिलीभगत नहीं है।

बीएल ब्रह्मे, आरआई पाटन अमलेश्वर

मार्किंग नहीं, इसलिए नहीं लिया आवेदन

नाप जोख के समय आपत्तियां स्वीकार क्यों नहीं की?

आपत्तिकर्ताओं ने नायब तहसीलदार से दस्तावेज में मार्किंग नहीं कराया था। आवेदन नहीं लिया।

क्या नायब तहसीलदार ने मना किया है?

उन्होंने मौखिक आदेश दिया है। उनके आदेश पर हम जमीन की सीमांकन करते हैं।

अमलेश्वर में जमीनों पर कब्जा है, क्या उसकी नाप करेंगे?

ऐसे मामलों की मुझे जानकारी नहीं है, लेकिन शिकायत आएगी तो उसका भी नाप जोक किया जाएगा।

मनीष साहू, नायब तहसीलदार भिलाई-3 पाटन

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Durg Bhilai News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: पीएम आवास और नाला समेत करोड़ों की जमीन दलालों के कब्जे में, शासन को अपनी जमीन की जांच के लिए शिकायत का इंतजार
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Durg Bhilai

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×