भिलाई + दुर्ग

  • Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • थ्योरी के अलावा प्रैक्टिकल पर भी फोकस करंे छात्र
--Advertisement--

थ्योरी के अलावा प्रैक्टिकल पर भी फोकस करंे छात्र

सीएसआईटी कॉलेज कोलिहापुरी में गुरुवार को नेशनल साइंस डे पर स्टूडेंट्स द्वारा प्रोजेक्ट की प्रदर्शनी लगाई गई।...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 02:35 AM IST
सीएसआईटी कॉलेज कोलिहापुरी में गुरुवार को नेशनल साइंस डे पर स्टूडेंट्स द्वारा प्रोजेक्ट की प्रदर्शनी लगाई गई। इसमें तैयार वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट को कांसेप्ट ने जमकर वाहवाही बटोरी। मौके पर दर्जनभर से अधिक प्रोजेक्ट प्रदर्शित किए गए। इस दौरान आसपास के अन्य कॉलेजों के छात्रों को ग्रुप्स ने इस आयोजन में भाग लिया।

इंजीनियरिंग व फिजिक्स के तत्वावधान में कॉलेज के हॉल में किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ डायरेक्टर डॉ. अनुराग वर्मा नेे किया। चेयरमैन अजय प्रकाश वर्मा प्रमुख रूप से मौजूद थे। उन्होंने कहा कि नेशनल साइंस डे पर यह आयोजन किया जा रहा। आज भारत की टेक्नॉलॉजी पूरे विश्व में पहचानी जा रही। उन्होंने थ्योरी के साथ प्रैक्टिकल पर भी फोकस एजुकेशन की बात कही। फिजिक्स के विभाग प्रमुख डॉ. रेणु त्रिपाठी, प्रोफेसर सुमिता सेनगुप्ता, प्रोफेसर सचिन धावनकर एवं अन्य विभाग के विभाग प्रमुख प्रोजेक्ट का अवलोकन किया। जिसकी सभी ने सराहना की। इस दौरान छात्रों ने पर्यावरण संरक्षण से लेकर वन्य जीव-जंतुओं को बचाने के लिए जरूरी संदेश भी दिए।

सीएसआईटी दुर्ग में हुआ साइंस डे पर आयोजन, इंजीनियरिंग कॉलेजों के छात्रों ने देखा नए मॉडल, संबोधन में बोले एक्सपर्ट्स

सीएसआईटी में गुरुवार को नेशनल साइंस डे हुआ। जहां मॉडल्स भी दिखाए गए।

कैसे होता है पानी ट्रीटमेंट, एक्सपर्ट्स ने बताया

वॉटर ट्रीटमेंट के प्लांट को प्रदर्शित करने के दौरान स्टूडेंट्स ने बताया कि कैसे पानी को इससे जरिए कैसे रिसाईकिल किया जा सकता है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि महाविद्यालय में पारकर हेनिफेन द्वारा निर्मित अत्याधुनिक हाइड्रोलिक्स लैब की स्थापना की गई है, जिसमें विद्यार्थी अत्याधुनिक हाइड्रोलिक तकनीकी से संबंधित एडवांस अध्ययन कर सकते है।

छात्रों के अंदर छिपे टैलेंट को लाना है बाहर

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों मे छिपी टैलेंट को बाहर लाना था। मुख्य रूप से वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के एक प्रोजेक्ट, सौर उर्जा के दो प्रोजेक्ट, हाइड्रोलिक्स के दो प्रोजेक्ट, बायोगैस के एक प्रोजेक्ट, लाईट डिपेंडेंट रजिस्टर, लाई-फाई प्रोजेक्ट, कोडिंग एवं डिकोडिंग प्रोजेक्ट प्रदर्शित किए गए। प्रदर्शित प्रोजेक्ट को पुरस्कृत भी किया गया। वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट प्रोजेक्ट के टीम मेंबर्स कुनिका, गरिमा एवं आरूषी हांडा को प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके अलावा हाइड्रोलिक्स प्रोजेक्ट के टीम मेंबर झालेंद्र व पीयूष ठाकुर को द्वितीय पुरस्कार से नवाजा गए। तीसरे स्थान पर लाई-फाई टेक्नालॉजी प्रोजेक्ट रहा। इसे तैयार करने वाले मिलिंद बघेल, पृथ्वीराज एवं निखिल चन्द्राकर सम्मानित हुए। चेयरमेन अजय प्रकाश वर्मा ने उन्हें सम्मानित किया।

Click to listen..