• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • चार सीट जो मुख्यमंत्री बन जाने के कारण खाली हुईं
--Advertisement--

चार सीट जो मुख्यमंत्री बन जाने के कारण खाली हुईं

सीट फिर से उनकी पार्टी टीडीपी ने जीती। योगी के बाद यह सीट कांग्रेस ने जीत ली। कैप्टन के बाद भी यहां कांग्रेस का...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:25 AM IST
सीट फिर से उनकी पार्टी टीडीपी ने जीती।

योगी के बाद यह सीट कांग्रेस ने जीत ली।

कैप्टन के बाद भी यहां कांग्रेस का कब्जा।

सोनोवाल हटे, लेकिन अब भी भाजपा जीती।

अब कॉनराड संगमा के मेघालय का और नेफियू रियो के नगालैंड का मुख्यमंत्री बनने से तुरा और नगालैंड सीटें खाली होंगी।

दो-दो सीटें जो मोदी और मुलायम ने जीतीं

प्रधानमंत्री
मोदी ने लोकसभा चुनाव के दौरान गुजरात के वडोदरा तथा उत्तरप्रदेश के वाराणसी से चुनाव लड़ा। वे दोनों सीटों पर जीते। बाद में उन्होंने वडोदरा सीट छोड़ दी। मुलायम सिंह यादव ने मैनपुरी और आजमगड़ से चुनाव लड़ा था। बाद में मैनपुरी सीट छोड़ दी।

पार्टी सिर्फ ये 4 सीट रख पाई बरकरार

1. वडोदरा
तेलंगाना में चंद्रशेखर राव ने मेडक सीट छोड़ी।

उत्तरप्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर सीट छोड़ी।

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर सीट छोड़ी।

असम में सर्बानंद सोनोवाल ने लखीमपुर सीट छोड़ी।

ये 4 सीट कांग्रेस ने छीन ली

1. रतलाम
4. अजमेर
ये 2 सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गईं

1. गोरखपुर
2. फूलपुर
यहां चुनाव बाकी उत्तरप्रदेेश की कैराना, महाराष्ट्र की पालघर तथा गोंदियां सीट जो 2014 में बीजेपी के खाते में थीं, खाली हैं। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग सीट खाली है। नगालैंड की एकमात्र सीट और मेघालय में तुरा सीट खाली हुई हैं।

इस तरह सीमा रेखा पर आ गई है सबसे बड़ी पार्टी

282

लोकसभा सीटें भारतीय जनता पार्टी के खाते में आई थीं, 2014 के लोकसभा चुनावों में।

-हालांकि सरकार को खतरा नहीं, भाजपा की 273 और सहयोगी दलों की मिलाकर एनडीए के पास 315 सीट हैं।

2. बीड
2. गुरदासपुर
273

लोकसभा सीटें हैं अब बीजेपी के पास। यानी बहुमत के आंकड़े से सिर्फ 1 सीट ज्यादा।

3. लखीमपुर
जहां गठबंधन में भाजपा, वहां 1 बरकरार, 1 हारी

1. तुरा
2. श्रीनगर
3. अलवर
09

सीटें घटीं। 6 भाजपा हारी। पार्टी की 3 सीट (कैराना, पालघर तथा गोंदिया) खाली हो गई हैं।

4. शहडोल