--Advertisement--

चिल्लर मांगने का बहाना कर बैंक से निकल रहे 2 लोगों को थमाया रद्दी का बंडल, ठग लिए 12 हजार

एक शख्स कोरे कागजों की गड्डी पर दो 500 के नोट लपेटकर दो मजदूरों से साढ़े 12 हजार ले उड़ा

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 04:57 PM IST

भिलाई। बैंक से पैसे निकालने आए मजदूरों को ज्यादा पैसे का लालच भारी पड़ गया। एक शख्स कोरे कागजों की गड्डी पर दो 500 के नोट लपेटकर दो मजदूरों से साढ़े 12 हजार ले उड़ा। जब पीड़ितों ने घर जाकर नोटों के बंडल को खोला तो उन्हें ठगी की जानकारी हुई। पीड़ितों के शिकायत पर आरोपी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

- पुलिस के मुताबिक रायपुर पावर एंड स्टील कम्पनी रसमड़ा में कार्यरत मजदूर गोविंद कुमार यादव अपने साथ मजदूर मुकेश कुमार शाहीन के साथ दो जुलाई को अकाउंट से पैसा निकालने यूनियन बैंक दुर्ग गया था। गोविंद ने अपने खाते से 9 हजार रुपए निकाले और मुकेश ने साढ़े तीन हजार निकाले।

- इसी बीच उनकी मुलाकात बिहार के छोटू बाबू महतो से हुई। उसने बताया कि वो काम करने चेन्नई गया था। वहां से एक लाख रुपए चोरी करके लाया है। अब बैंक अकाउंट न होने से पैसों को जमा नहीं कर पा रहा है। उसने बताया लाख रुपए की रकम में केवल 500-500 के बंडल है। ऐसे में चिल्लर पैसे न होने से खर्च भी नहीं कर पा रहा है। फिर दोनों को ज्यादा पैसे के बदले चिल्लर लेने का ऑफर दिया। दोनों तैयार हो गए। आरोपी ने दोनों को रद्दी का बंडल धीरे से पकड़ाया और वहां से 12 हजार रुपए लेकर निकल गया। इधर पीड़ित जब घर पहुंचे तो बंडल देखा। नकली होने पर वे वापस बैंक गए।

- पीड़ितों ने आरोपी के खिलाफ कोतवाली थाने में मामला दर्ज करा दिया। वे आरोपी को खोजने हर रोज बैंक जाने लगे। शुक्रवार को उनकी नजर आरोपी पर पड़ी। वो दूसरे शिकार के लिए आया था। इसकी सूचना कोतवाली थाने को दी। इस पर टीम ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को पकड़ लिया। पुलिस को उसने अपना नाम छोटा बाबू महतो पुलवरिया सुगौली पूर्वी चम्पारण बिहार निवासी बताया। तलाशी लेने पर उसकी जेब से मात्र ढाई हजार ही निकले। पूछने पर बताया कि उसने बाकी के 10 हजार रुपए खर्च कर दिए हैं।