--Advertisement--

पुलिसकर्मी बनकर महिलाओं को दिखाया हत्या का डर, 1.40 लाख के गहने ले भागे

शहर में ईरानी गैंग की दस्तक : पौन घंटे में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को लूटा

Dainik Bhaskar

Aug 10, 2018, 10:00 AM IST
डमी फोटो डमी फोटो

भिलाई। पुलिसकर्मी बनकर लोगों के साथ ठगी करने वाले ईरानी गैंग ने शहर में दस्तक दे दी है। गुरुवार सुबह नेहरू नगर ईस्ट और वेस्ट में पौन घंटे के अंदर ताबड़तोड़ दो वारदातों को अंजाम देकर फरार हो गए। मॉर्निंग वॉक के लिए निकली दोनों महिलाओं को किसी महिला के मर्डर की जानकारी देकर उन्हें रोका। क्षेत्र में खतरा बताकर उनके गहने को अपने पास एक कागज में रखा। कुछ देर बाद खतरा टलने की बात कहकर नकली गहनों का पुलिंदा थमा 1.40 लाख रुपए के सोने के गहने ले उड़े। वारदात के बाद दोनों महिलाओं ने सुपेला थाने में धारा 420 और 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कराया है। मामले की छानबीन की जा रही है।

बुजुर्ग के अपनी चेन देने पर महिलाओं ने दिए गहने

- नेहरू नगर वेस्ट निवासी रेखा चिंधालोरे पति केएन चिंधालोरे (64) सुबह करीब 5.45 बजे घर से मॉर्निंग वॉक के लिए अकेली निकली थी। स्टेट बैंक कॉलोनी के पास पहुंचे ही दो युवकों ने खुद को पुलिसकर्मी बताते हुए उन्हें रोक क्षेत्र में किसी इंदु के मर्डर होने की जानकारी दी।

- उन्हें खतरा बताकर अपने गहने उतारने को कहा। सहयोग न करने पर 2 हजार फाइन लगाने की धमकी दी। पास से गुजरने वाले 50 वर्षीय युवक को रोककर गले में पहनी सोने की चेन उतारवा लिए।


तीन के समूह में अधिकतर महिलाओं को करते टारगेट
- इस तरह की वारदातों को ईरानी गैंग के लोग अंजाम देते हैं। उनका कहना था कि कद-काठी और हाव-भाव से आरोपी पुलिसकर्मी जैसे दिखते हैं। लेकिन इनकी तिरछी नाक सदस्यों की खास पहचान होती है। उनका कहना था कि तीन के समूह में आरोपी वारदात को अंजाम देते हैं। इसमें दो लोग पुलिसकर्मी की भूमिका में रहते हैं। तीसरा साथी एक बुजुर्ग होता है।


विश्वास करके 20 हजार के सोने की 2 चूड़ियां भी दी
- पुलिसकर्मी होने का विश्वास करके 20 हजार कीमत की दो सोने की चूड़ियां दे दी। आरोपी चूड़ियों को एक कागज में लपेटकर रखकर फरार हो गए। नेहरू नगर ईस्ट की मृदुला रोजीनदार सुबह टहलने निकली। सरस्वती शिशु मंदिर के पास दो युवकों ने रोका। मर्डर की जानकारी देकर उनसे 1 लाख 20 हजार कीमत के सोने की चूडिय़ां, चेन और मंगलसूत्र लेकर फरार हो गए।

आप रहें अलर्ट

- एडिशनल एसपी विजय पांडेय का कहना था कि लोग अक्सर पुलिस का नाम से भयभीत हो जाते हैं। इसी वजह शातिर खुद को पुलिसकर्मी बताकर उनसे अपनी सारी बातें मनवा लेते हैं। उनका कहना था कि जबकि पुलिस विभाग का काई भी अधिकारी या कर्मी इस तरह की हरकतें नहीं करता है।

- उनका कहना था कि अगर भविष्य में किसी भी व्यक्ति द्वारा पुलिसकर्मी बनकर इस तरह की वारदात को अंजाम देने की कोशिश करें तो उसके झांसे में आने की जगह तुरंत थाने को सूचित करें। इसके अलावा अकेली महिलाएं शोर-मचाकर लोगों को एकत्रित करें।

X
डमी फोटोडमी फोटो
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..