• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • गैंगस्टर तपन की रवानगी के बाद उसके 12 गुर्गों को अंबिकापुर रायपुर, जगदलपुर और बिलासपुर जेल में किया जाएगा शिफ्ट
--Advertisement--

गैंगस्टर तपन की रवानगी के बाद उसके 12 गुर्गों को अंबिकापुर रायपुर, जगदलपुर और बिलासपुर जेल में किया जाएगा शिफ्ट

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 02:15 AM IST



तपन का गैंग तोड़ने पुलिस की बड़ी कार्रवाई

क्राइम रिपोर्टर | भिलाई

दुर्ग जेल से गैंगस्टर तपन सरकार की रवानगी के बाद अब उसके गुर्गों की बारी आ गई है। बुधवार को तपन के अंबिकापुर जेल शिफ्ट करने के बाद शुक्रवार को उसके गुर्गों को दूसरी जेल में शिफ्ट करने का फरमान जारी हो गया।

सुरक्षा का हवाला देकर जेल अधिकारियों ने उनकी रवानगी लेने वाले कैदियों का खुलासा नहीं किया। लेकिन सूत्रों का कहना है कि कुल 12 कैदियों को तीन-तीन के ग्रुप में अंबिकापुर, रायपुर, बिलासपुर और जगदलपुर जेल में शिफ्ट किया जाएगा। जानकारों का कहना है कि आने वाले हफ्ते में सभी कैदियों को उनके नई जेल में भेज दिया जाएगा। 12 में से 3 कैदियों को अंबिकापुर जेल शिफ्ट किया जाएगा।

दुर्ग जेल से खत्म होगा तपन का गैंग

रायपुर जेल

बिलासपुर जेल





शिफ्टिंग के आदेश में इन गुर्गों के नाम...

अंबिकापुर जेल




जगदलपुर जेल

महादेव हत्याकांड में शामिल सभी 12 कैदी, अब शिफ्टिंग

सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय जेल दुर्ग से जिन 12 कैदियों को शिफ्ट करने का आदेश जारी हुआ है। उसमें सभी कैदी गैंगस्टर तपन सरकार के ही गुर्गे हैं। सभी महादेव हत्याकांड के उसके सहयोगी रहे थे।

जेल अधिकारियों की सांठगांठ उजागर होते ही हुई कार्रवाई

गैंगस्टर तपन सरकार के ऊपर हत्या, मारपीट, फिरौती, धोखाधड़ी जैसे गंभीर अपराध दर्ज थे। हत्या मामले में सजा भुगतने पर जेल के अंदर रहकर गैंगस्टर अपनी वसूली की सरकार चला रहा था।

जहां रहेगा तपन, वहां उसके खास गुर्गों को ही शिफ्टिंग

पुलिस सूत्रों की माने तो अंबिकापुर जेल में अब्दुल जायद उर्फ अशरफ उर्फ बच्चा, पीतांबर साहू और रंजीत को शिफ्ट करने का आदेश है। इसमें पीतांबर और अशरफ तपन सरकार का सबसे खास गुर्गा है।

इधर...तपन के माध्यम से वसूली करने वाले बाप-बेटे हुए गिरफ्तार

भिलाई|गैंगस्टर तपन सरकार से फोन पर बात कराकर फ्लोर मिल व्यापारी नीरज अग्रवाल से ब्याज की रकम वसूलने वाले आरोपी ज्ञानचंद और उसके बेटे अंकुश जैन को मोहन नगर पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। वहीं, गल्ला व्यापारी ज्ञानचंद का दूसरा बेटा सोहन जैन पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। पुलिस अब तपन और इनकी कड़ी जोड़ रही है।

ज्ञानचंद जैन

अंकुश जैन

कारोबार हड़पने तपन का सहारा

सालभर से तपन दे रहा था धमकी: मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारियों को नीरज अग्रवाल ने बताया कि आरोपी ज्ञानचंद की नीयत उसका पूरा कारोबार हड़पने की थी। इसके चलते पिछले पांच में मूल रकम से ज्यादा पैसे पहुंचने पर भी उसके 85 लाख रुपए की रकम खत्म नहीं हो रही थी। तपन सालभर से रकम के लिए धमकी दे रहा था।

अब पुलिस जोड़ रही कड़ी: मोहन नगर टीआई राकेश बांगड़े ने बताया कि अब पुलिस गैंगस्टर और ज्ञानचंद के बीच के रिश्ते की छानबीन कई बिंदुओं पर कर रही है। इसमें पिता-पुत्र कैसे तपन के संपर्क में आए। उन्होंने नीरज के अलावा किसी अन्य को भी तपन के माध्यम वसूली के लिए धमकाया तो नहीं?