Hindi News »Chhatisgarh »Durg Bhilai» लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा

लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा

प्रशासनिक रिपोर्टर|भिलाई. डेंगू जैसे संक्रमण बीमारी के रोकथाम के लिए निगम प्रशासन कुछ नहीं कर सका। पिछले 8 महीने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 10, 2018, 03:20 AM IST

  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
    प्रशासनिक रिपोर्टर|भिलाई. डेंगू जैसे संक्रमण बीमारी के रोकथाम के लिए निगम प्रशासन कुछ नहीं कर सका। पिछले 8 महीने से निगम में ब्लिचिंग पावडर से लेकर झाड़ू और फिनायल पर्याप्त मात्रा में नहीं है। सिर्फ खानापूर्ति हो रही है। 10 दिन पहले ही निगम ने इन संसाधनों की खरीदी की। वह भी तब, जब डेंगू के प्रकोप की खबरें सामने आई। जबकि, यह काम निगम को पहले कर लेना था। यही नहीं, डेढ़ साल से सफाई का ठेका नहीं हुआ। इसकी वजह से मैनपॉवर कमी हुई। वार्डों में सफाई कार्य प्रभावित भी हुआ है।

    50

    मरीज रोज भर्ती हो रहे अस्पताल में

    200

    मरीजों के खून की रोजाना की जा रही है जांच।

    500

    लोगों की टीम कर रही है लार्वा का सर्वे।

    यह ध्यान रखें... बुखार आने पर अपनी मर्जी से नहीं खाएं दवाएं

    अब तक10 की मौत

    स्वास्थ्य महकमा हरकत में

    बुखार आने पर अपनी मर्जी से दवा नहीं खाएं। डॉक्टर की सलाह पर ही दवाएं लें। नॉन स्टेरोइड्स एंटी-इन्फ़्लमेटरी दवाएं जैसे एस्परीन, आइबुप्रोफिन, नेप्रोक्सिन का उपयोग नहीं करें क्योंकि ये शरीर में तेजी से रक्तस्त्राव कर सकती हैं।

    17 लाख रुपए से अगस्त 2017 में निगम की थी सफाई के लिए संसाधन की खरीदी, डेंगू के मरीज सामने आए तो 20 जुलाई को आनन-फानन में निगम ने की खरीदी, इसीलिए शहर की नालियों में निगम नहीं कर रहा था दवा का छिड़काव, आयुक्त के पास थी इसकी फाइल

    पहली बार भिलाई में एक ही दिन में डेंगू से 5 मौतें

    दिनेश दलाई

    ये हैं जिम्मेदार...

    लोगों को अपनी जिम्मेदारी भी समझनी पड़ेगी

    जहां डेंगू से मौतें हो रही है, वहां की सफाई भगवान भरोसे है, ऐसा क्यों? हम सफाई कर रहे हैं। वैसे भी डेंगू गंदगी से नहीं फैलता। साफ पानी में इसका प्रकोप होता है।

    शहर की सफाई के लिए ठेका नहीं हुआ और ब्लिचिंग पावडर से लेकर फिनायल की खरीदी तक नहीं किए? हमारे पास पर्याप्त मात्रा में संसाधन है। कहीं कोई कमी नहीं है। लोगों को अवेयर होना चाहिए।

    प्रियंका

    जिम्मेदार

    केएल चौहान, आयुक्त, नगर निगम भिलाई

    मिमांसा

    20

    अधिकारी और पढ़े-लिखे लोग अवेयर नहीं हुए...

    टाउनशिप में सबसे ज्यादा डेंगू के मरीज क्यों मिले? हमने समझाइश के लिए मई से जून तक जो कुछ भी किया। उच्च अधिकारियों और पढ़े-लिखे लोगों पर उसका असर कम पड़ा।

    इन सबके बावजूद आपने टाउनशिप में क्या किया? टाउनशिप में लगातार फॉगिंग कर रहे हैं। लोगों को समझाइश दे रहे हैं। कूलर की सफाई करवा रहे हैं।

    शहर में डेंगू के मरीज और मौतें

    7

    2016

    मौतों के लिए निगम, बीएसपी और स्वास्थ्य विभाग जिम्मेदार

    टोमेंद्र सेन

    जिम्मेदार

    केके यादव, इंचार्ज, पीएचडी, बीएसपी

    14

    03

    2017

    7 मौतें खुर्सीपार इलाके से, इसमें 5 मासूम शामिल

    बच्चों में प्रतिरोधक क्षमता कम, इसलिए ज्यादा खतरा

    आप खुद अलर्ट रहे, घर के आसपास की सफाई दंे ध्यान

    सफाई का टेंडर प्रशासनिक अधिकारियों ने अटकाया...

    शहर में डेंगू के रोकथाम के लिए प्लानिंग खूब हुई, एक्जीक्यूशन क्यों नहीं करवा पाए? प्रशासन की पहली प्राथमिकता तो मोबाइल तिहार है। प्रशासन की प्राथमिकता में डेंगू जैसी बीमारी नहीं है।

    शहर की सफाई का ठेका डेढ़ साल से नहीं हुआ, ऐसा क्यों? सफाई ठेके के लिए एमआईसी से मंजूरी दे चुके हैं। प्रशासनिक अधिकारियों ने टेंडर रोका हुआ है।

    मरीज

    350

    मौत

    10

    2018

    जिम्मेदार

    देवेंद्र यादव, मेयर, नगर निगम भिलाई

    बचाव के उपाय... कूलर का पानी साफ करें और उसके पुराने खस निकालकर खुला न छोड़े, जला दें

    घर के अंदर टंकी, बाल्टी में जमा पानी को 3 से 4 दिन में खाली कर फिर पानी से भरंे। घर के अंदर पानी में लगाने वाले पौधे जैसे मनीप्लांट, कमल न लगाए। पानी टंकी में प्रति सप्ताह एक कटोरी खाने का तेल जरूर डाले। कूलर में इस्तेमाल किए जाने वाले खस पेड को प्रतिवर्ष जलाकर नष्ट करें अन्यथा इसमे चिपके हुए अंडों को पानी मिलने पर ये तुरंत लार्वा एवं मच्छर में विकसित हो जाएंगी।

    ग्राउंड पर काम नहीं, सीएमओ तो मेरा ही फोन नहीं उठाते...

    डेंगू के रोकथाम के लिए आपने कैंप किया था, डेंगू से मौतें हो रही है, क्यों ? डेंगू पीड़ित मरीज हमारे अस्पतालों में न आकर पहले झोलाछाप डॉक्टरों के यहां भटक रहे हैं। गंभीर स्थिति में जाने के बाद हमारे या निजी अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। इसलिए मौतें हो रही है।

    ऐसा नहीं लगता कि स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के रोकथाम में देरी की? संचालनालय से ऐसी कोई देरी नहीं हुई। सीएमएचओ फोन नहीं उठाते मेरा।

    जिम्मेदार

    गंभीर सिंह ठाकुर, जेडी, स्वास्थ्य विभाग

    भिलाई के 15 निजी अस्पताल और 4 नर्सिंग कॉलेजों में अब डेंगू का मुफ्त में होगा इलाज

    निजी अस्पतालों में डेंगू मरीजों का मुफ्त इलाज करने के लिए पिछले तीन दिनों से चल रही जद्दोजहद गुरुवार को अंजाम तक पहुंच गई। छत्तीसगढ़ शासन के केबिनेट मंत्री व भिलाई विधायक प्रेमप्रकाश पांडेय ने ऐलान किया कि नगर निगम भिलाई क्षेत्र में संचालित 15 निजी अस्पताल और चार नर्सिंग कॉलेज डेंगू के मरीजों का मुफ्त में इलाज करेंगे। कहा, प्रदेश सरकार लोगों के साथ खड़ी हुई है।

    इन्हें दी गई जिम्मेदारी

    वार्ड 4 से 6 और 8 से 9 नोडल दीक्षा पुरी (मो. 9993856706)।

    वार्ड 17 से 20, 12 व 22 डॉ. अशोक सान्याल (मो. 7489385247)।

    वार्ड 21, 25, 26, 28 के लिए डॉ. सुगम सावंत (मो. 9424103727)।

    वार्ड 29, 30, 32, 36 व 37 डॉ. सुदामा चंद्राकर (मो. 9977827108)।

    वार्ड 38 के लिए संजीव दुबे (मो. 9131234707)।

    यहां होगा फ्री इलाज

    गायत्री हास्पिटल प्रियदर्शिनी परिसर, आर्शीर्वाद नर्सिंग होम, सुपेला नर्सिंग होम, सूरज नर्सिंग होम, स्पर्श हास्पिटल, भिलाई नर्सिंग होम, रिवाइवल हास्पिटल, बीएम शाह, प्रज्ञा नर्सिंग होम, करूणा हास्पिटल, अपोलो हास्पिटल, एसआर हास्पिटल, गिरदौड़ी हास्पिटल, चंदूलाल चंद्राकर हास्पिटल, आईएमआई हास्पिटल और सीएम , शंकराचार्य, रस्तोगी शामिल है।

  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
  • लापरवाही से ही मौतें क्योंिक...झाड़ू, फिनायल, ब्लीचिंग पावडर के 3 माह के स्टॉक से साल भर करते रहे सफाई, डेंगू फैला तब खरीदा
    +7और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Durg Bhilai

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×