भिलाई + दुर्ग

  • Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • पाइपलाइन बदलने 4 साल पहले 82 लाख का वर्कआॅर्डर हुआ था जारी, 30% काम अधूरा, बार-बार काम बंद कर रहा ठेकेदार
--Advertisement--

पाइपलाइन बदलने 4 साल पहले 82 लाख का वर्कआॅर्डर हुआ था जारी, 30% काम अधूरा, बार-बार काम बंद कर रहा ठेकेदार

नगर निगम के अफसरों की लापरवाही से पाइपलाइन बिछाने का काम 4 साल बाद भी अधूरा है। पद्मनाभपुर वार्ड में 82 लाख रुपए की...

Dainik Bhaskar

Aug 12, 2018, 02:26 AM IST
पाइपलाइन बदलने 4 साल पहले 82 लाख का वर्कआॅर्डर हुआ था जारी, 30% काम अधूरा, बार-बार काम बंद कर रहा ठेकेदार
नगर निगम के अफसरों की लापरवाही से पाइपलाइन बिछाने का काम 4 साल बाद भी अधूरा है। पद्मनाभपुर वार्ड में 82 लाख रुपए की लागत से पुरानी पाइपलाइन को हटाकर नई पाइपलाइन बिछाने का वर्कऑर्डर जारी किया गया था। यह काम आज तक पूरा नहीं हुआ। निगम अफसरों के नोटिस के बावजूद ठेकेदार बार-बार काम बंद कर रहा है।

नगर निगम की पिछली परिषद की आखिरी सामान्य सभा में पद्मनाभपुर वार्ड में पाइपलाइन बदलने के लिए टेंडर प्रस्ताव को मंजूरी दी गई थी। नगर निगम ने चौधरी कंस्ट्रक्शन एजेंसी को पाइपलाइन बदलने का वर्कऑर्डर जारी किया। काम की रफ्तार इतनी धीमी है कि 4 साल बीतने के बाद भी काम अधर में लटका है। निगम प्रशासन से एजेंसी को 3 बार नोटिस जारी किया, लेकिन बार-बार काम रुकने के कारण काम अधूरा पड़ा है।

अफसरों ने बताया कि नोटिस के बाद एजेंसी ने कुछ दिनों तक काम करने के बाद बंद कर दिया। बार-बार काम रुकने से पाइपलाइन बिछाने का काम अधूरा रह गया। हफ्तेभर पहले जनता मार्केट से जैन मंदिर रोड पर पाइपलाइन बिछाने का काम शुरू किया गया। यहां गड्‌ढा खोदने के बाद काम बंद कर दिया गया। गड्ढे में बारिश का पानी भर रहा है।

इस तरह अधूरा पड़ा है पाइप लाइन बिछाने का काम ।

चौधरी कंस्ट्रक्शन एजेंसी को जारी किया था वर्कऑर्डर

जहां जरूरत वहां नहीं जोड़ा कनेक्शन

जिन इलाकों में पाइपलाइन बिछाने का काम पूरा हो चुका है, वहां निजी नल कनेक्शन को शिफ्ट करने का काम नहीं हुआ। अफसरों का कहना है कि वाल्व बदलने और नई पाइपलाइन से कनेक्शन जोड़ने का काम अमृत मिशन से पूरा किया जाएगा।

ठेकेदार पर की है कार्रवाई


पाइप की सप्लाई में देर के कारण अटका काम

पाइप की सप्लाई में देर के कारण पाइपलाइन का काम देर से शुरू हुआ। तीन माह बाद ही काम बंद कर दिया गया। कई बार ठेकेदार को मौखिक रूप से पाइपलाइन का काम पूरा करने कहा गया।

अफसरों और ठेकेदारों की मिलीभगत


एजेंसी ने शहर में पुराने वाॅल्व तक भी नहीं बदले

एजेंसी ने वाॅल्व चेंबर बदलने का काम भी नहीं किया। तीन दशक पुराने वाल्व में लीकेज की समस्या के कारण चेंबर में पानी भर जाता है। दो दर्जन से ज्यादा चेंबरों में गंदा पानी भरा है। वाल्व को बदलने और खुले चैंबरों में पानी भरने की समस्या पर ध्यान नहीं दिया।

X
पाइपलाइन बदलने 4 साल पहले 82 लाख का वर्कआॅर्डर हुआ था जारी, 30% काम अधूरा, बार-बार काम बंद कर रहा ठेकेदार
Click to listen..