भिलाई + दुर्ग

--Advertisement--

बारिश न होने के कारण अभी तक सिर्फ 20 फीसदी बियासी

खरीफ सीजन में नियमित बारिश न होने के कारण बियासी का काम प्रभावित होने लगा है। जिले में 1 लाख 19 हजार 890 हेक्टेयर...

Dainik Bhaskar

Aug 08, 2018, 02:35 AM IST
खरीफ सीजन में नियमित बारिश न होने के कारण बियासी का काम प्रभावित होने लगा है। जिले में 1 लाख 19 हजार 890 हेक्टेयर क्षेत्र में धान की बोवनी की गई है। धमधा एरिया में अवर्षा के कारण बियासी पर ज्यादा असर पड़ा है।

किसानों को सिंचाई पंप, नाले के पानी का उपयोग कर फसल बचाने की सलाह दी जा रही है। जिले में अब तक औसत से 137.03 मिलीमीटर कम बारिश हुई है। जिले में बियासी पद्धति से करीब 77 हजार हेक्टेयर एरिया में धान की खेती होती है। पिछले 15 दिनों से बारिश न होने के कारण सिर्फ 23 हजार 892 हेक्टेयर क्षेत्र में बियासी हो पाई है। बारिश न होने के कारण रोपा पद्धति से खेती करने वाले किसान भी रोपाई नहीं कर पा रहे हैं।

फसल को कीट प्रकोप से बचाने खरपतवार हटाएं

खेत की मेड़ों को खरपतवार से मुक्त रखने कहा गया है। ब्लास्ट रोग के लिए ट्राई साइक्लाजाॅल 120 ग्राम प्रति एकड़, शीथ ब्लाइट के लिए हेक्साकोनाजोल 3 सौ एमएल प्रति एकड़ और तनाछेदक नियंत्रण के लिए कारटाप हाइड्रोक्लोराइड 50 डब्ल्यूपी 3 सौ ग्राम प्रति एकड़ की दर से 150 से 250 लीटर पानी में उपयोग करने की सलाह दी गई है।

अधिकारी रख रहे हैं नजर


X
Click to listen..