Hindi News »Chhatisgarh »Durg Bhilai» गर्ल्स शेल्टर होम से 2 नाबालिग गायब 24 घंटे बाद भी क्लू नहीं, मचा हड़कंप

गर्ल्स शेल्टर होम से 2 नाबालिग गायब 24 घंटे बाद भी क्लू नहीं, मचा हड़कंप

देवेंद्र नगर के खुला आश्रय गृह(गर्ल्स शेल्टर होम)से रविवार की रात दो नाबालिग लड़कियों के गायब होने से हड़कंप मचा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 07, 2018, 02:40 AM IST

गर्ल्स शेल्टर होम से 2 नाबालिग गायब 
24 घंटे बाद भी क्लू नहीं, मचा हड़कंप
देवेंद्र नगर के खुला आश्रय गृह(गर्ल्स शेल्टर होम)से रविवार की रात दो नाबालिग लड़कियों के गायब होने से हड़कंप मचा हुआ है। रात 8 बजे भाेजन के बाद सभी 12 लड़कियां अपने-अपने कमरे चली गईं। एक घंटे बाद शेल्टर होम की नाइट शिफ्ट प्रभारी ने राउंड लिया। उसी समय उन्हें लड़कियों के गायब होने का पता चला। तेलीबांधा से मिली 17 और जांजगीर-चांपा की 16 साल की नाबालिग अपने बिस्तर पर नहीं थीं। उन्होंने उनके कमरे के खिड़की में लगा ग्रिल नीचे रखा हुआ था। खिड़की खुली थी। प्रबंधकों का दावा है कि लड़कियां उसी खिड़की से बाहर निकली हैं। बिहार और यूपी के आश्रमों में छात्राओं के साथ दुष्कर्म की चर्चित घटनाओं के बीच राजधानी के शेल्टर होम से दो नाबालिगों के गायब हाेने से पुलिस और प्रशासनिक अमले में खाली हलचल मची है।

नाबालिगों के गायब होने की सूचना मिलते ही देर रात शेल्टर होम के सभी जिम्मेदार पदाधिकारी आनन-फानन में पहुंच गए। पुलिस को भी बुलवा लिया गया। पूरी रात प्रबंधक और पुलिस की टीम नाबालिगों की तलाश करती रही, लेकिन कहीं सुराग नहीं मिला। पुलिस ने प्रबंधकों की रिपोर्ट पर अपहरण का केस दर्ज कर लिया है। देवेंद्र नगर थाना प्रभारी एसएन अख्तर ने बताया कि दुर्ग की प्रतिज्ञा विकास संस्थान का रायपुर में शेल्टर होम चल रहा है। सेंटर में लावारिस हालात में या किसी अपराधिक गतिविधि में पकड़ी जाने वाली नाबालिगों को रखा जाता है। इसका संचालन महिला एवं बाल विकास द्वारा किया जाता है। शेल्टर होम पहले शंकर नगर में था। तीन दिन पहले ही देवेंद्र नगर में शिफ्ट हुआ है। रविवार रात से तेलीबांधा की 17 साल और जांजगीर चांपा की 16 साल की लड़की गायब हैं। पुलिस की जांच में पता चला है कि तेलीबांधा की लड़की को दो दिन पहले ही पुलिस ने सेंटर में छोड़ा है। चांपा की लड़की 25 जुलाई से वहां रह रही है। सोमवार की रात तक दोनों अपने घर भी नहीं पहुंची है। पुलिस ने रेलवे स्टेशन से लेकर बस स्टैंड में जांच की है। वहां लगे कैमरों की जांच की है, लेकिन कहीं उनका फुटेज नहीं मिला।

प्रबंधन का दावा, ग्रिल निकाल भागी दोनों नाबालिग

प्रतिज्ञा विकास संस्थान के अधिकारी राजीव द्विवेदी ने बताया कि लड़कियों का अपहरण नहीं हुआ है। उन्होंने दावा किया कि दोनों शेल्टर होम से भागी है। सेंटर में अभी 10 लड़कियां है। दोनों लड़कियों ने सभी के साथ बैठकर रात का भोजन किया। उसके बाद सब अपने कमरे में चली गईं। दोनों को एक ही कमरे में रखा गया था। रात को मौका देखकर दोनों भाग निकलीं। उन्होंने खिड़की में लगा ग्रिल निकाल लिया। उन्होंने बताया कि शेल्टर का दरवाजा भीतर से बंद रहता है। खिड़कियों को भी बंद करके रखा गया है। सेंटर के के मेनगेट पर स्टाफ रहता है, ताकि कोई बाहर न निकले। उन्होंने बताया कि हर शिफ्ट में 6 महिला स्टाफ रहते हैं। यहां पुरुष स्टाफ की एंट्री भी प्रतिबंधित है।

दीवार कूदना आसान

भास्कर टीम ने शेल्टर होम की बारीकी से पड़ताल की। सेंटर में एक दर्जन नाबालिग लड़कियां होने के बाद भी सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए। गार्ड भी नहीं रहता। सेंटर की चारदीवारी 5-6 फुट से ज्यादा ऊंची नहीं है। इसे आसानी से फांदा जा सकता है।

एक दर्जन भाग चुके

पिछले महीने माना बाल संप्रेषण गृह से 11 बच्चे खिड़की काटकर भाग निकले थे। उसमें से एक भी बच्चे का अब तक पता नहीं चला है। इस घटना के 15 दिन बाद शंकर नगर शेल्टर हाेम से 3 नाबालिग भाग निकले थे। इन्हें भी पुलिस अब तक खोज नहीं पाई है।

अब लड़कियों के शेल्टर होम से दो नाबालिग लड़कियां गायब हो गई हैं। लगातार शेल्टर हाउस से नाबालिग भाग रहे है, लेकिन पुलिस और प्रशासन की आेर से भी सुरक्षा के कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Durg Bhilai

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×