• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • 70 फीसदी बुकिंग लेकिन नहीं चलाई गोवा की सीधी ट्रेन, सालभर से मांग, फ्लाइट भी एक ही
--Advertisement--

70 फीसदी बुकिंग लेकिन नहीं चलाई गोवा की सीधी ट्रेन, सालभर से मांग, फ्लाइट भी एक ही

Durg Bhilai News - राजधानी से गोवा जाने वाले यात्रियों के लिए इस बार भी गर्मियों की छुट्‌टी में स्पेशल ट्रेन नहीं चलाई गई। इससे...

Dainik Bhaskar

Aug 13, 2018, 03:55 AM IST
70 फीसदी बुकिंग लेकिन नहीं चलाई गोवा की सीधी ट्रेन, सालभर से मांग, फ्लाइट भी एक ही
राजधानी से गोवा जाने वाले यात्रियों के लिए इस बार भी गर्मियों की छुट्‌टी में स्पेशल ट्रेन नहीं चलाई गई। इससे रायपुर के साथ प्रदेशभर के लोगों को गोवा जाने के लिए दो-तीन ट्रेन बदलनी पड़ती है या फ्लाइट से जाना पड़ रहा है। जबकि पिछली बार यहां के लिए बिलासपुर से मडगांव के बीच स्पेशल ट्रेन चलाई गई थी और इससे यात्रियों को बड़ी सुविधा भी मिली। थर्ड एसी वाली इस ट्रेन की 70 फीसदी से ज्यादा बुकिंग मिली। इसके बाद भी इसे कुछ दिन चलाने के बाद रेलवे ने बंद कर दिया। ट्रेन की डिमांड के बाद भी रेलवे प्रशासन की तरफ से कोई पहल नहीं की जा रही है। जबकि रेलवे के सलाहकार समिति की तरफ से लगातार एक साल से इस ट्रेन को चलाने की मांग की जा रही है। गोवा के लिए सीधी ट्रेन नहीं होने बड़ी संख्या में लोग फ्लाइट से सफर कर रहे हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक औसतन हर महीने एक हजार लोग रायपुर से गोवा के लिए फ्लाइट के जरिये जाते हैं। इसके अलावा मुंबई के रास्ते गोवा जाने वालों की संख्या में अधिक है। यह भी एक कारण है कि रायपुर होकर मुंबई जाने वाली सभी ट्रेनों में सालभर वेटिंग रहती है। रेलवे उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के अधिकतर सदस्य साल के शुरूआत में इस ट्रेन को चलाने को लेकर मांग करते रहे हैं। रेल मंत्री से लेकर जोन व मंडल तक के अफसरों तक से इस ट्रेन को दोबारा चलाने को लेकर डिमांड तेज हो गई है। लेकिन इस गर्मी में भी इसे नहीं चलाया गया।

जेब पर भी भारी पड़ रहा ज्यादा किराया

रायपुर से मुंबई रूट से गोवा जाने पर यात्रियों को अधिक किराया देना पड़ रहा है। रायपुर से मडगांव का किराया करीब थर्ड एसी के लिए मात्र 1600 रुपए था, लेकिन अभी ढाई हजार से अधिक खर्च करने पड़ते हैं। मुंबई से गोवा जाने में ही खर्च बढ़ जाता है। इसी तरह फ्लाइट से सफर करने पर लोगों को ऑफ सीजन में भी पांच-छह हजार देने पड़ रहे हैं। पीक में किराया 10 हजार से अधिक पहुंच जाता है।

डिमांड ज्यादा , रेलवे बोर्ड से की मांग, अब तक फैसला नहीं

रायपुर से गोवा के लिए सीधी ट्रेन की मांग लंबे समय से चल रही है। बिलासपुर जोन के साथ ही रायपुर रेल मंडल ने भी रेलवे बोर्ड को इस बात से अवगत कराया है। रेलवे बोर्ड को बताया गया है कि गर्मी की छुट्टियों में बड़ी संख्या में लोग मुंबई के रास्ते गोवा जाते हैं। इसके अलावा ठंड में छुटि्टयों और क्रिसमस और न्यू ईयर के दौरान गोवा जाने वाले लोगों की काफी संख्या रहती है। यात्रियों की डिमांड को देखते हुए रेलवे बोर्ड को अब स्पेशल चलाने का निर्णय लेना है। यात्रियों की संख्या और रुझान को देखते हुए ट्रेन चलाने की मांग की गई है।

पिछले साल 10 फेरों के लिए चली ट्रेन

बिलासपुर से रायपुर-कल्याण होते हुए ट्रेन मडगांव तक चलाई गई थी। वहां से गोवा केवल 23 किलोमीटर दूर है। ट्रेन पिछले साल 2 अप्रैल से दस फेरे के लिए चली। बिलासपुर से मडगांव के लिए छूटने वाली ट्रेन 2 अप्रैल से 4 जून के बीच 08297 नंबर से चली और लौटने के दौरान ट्रेन 08298 नंबर के साथ आई। इस समर स्पेशल ट्रेन में एसी-3 के 08, एसी-2 के 05, एसी-। के एक कोच के साथ पेंट्रीकार की सुविधा भी थी। बिलासपुर से यह ट्रेन रात 1.25 बजे और मडगांव से आने वाली ट्रेन शाम 4.30 बजे राजधानी पहुंचती थी। यह यात्रियों के लिए बेहतर टाइमिंग थी।

अधिकतर जाने वाले मुंबई रूट की ट्रेन के भरोसे

कई रूट में स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही हैं, लेकिन मडगांव के लिए ट्रेन चलाने पर सहमति नहीं बन सकी है। इस बार अभी तक स्पेशल ट्रेन चलाने की घोषणा रेलवे प्रशासन की ओर से नहीं हुई है। बता दें कि प्रदेशभर से गोवा जाने वाले लोगों की संख्या अधिक है। एक सर्वे के मुताबिक केवल रायपुर से औसतन 20 लोग रोजाना गोवा के लिए फ्लाइट की बुकिंग करते हैं। हालांकि गोवा के लिए मात्र एक ही कनेक्टिंग फ्लाइट की सुविधा है। रायपुर से वाया कोलकाता-इंदौर-गोवा की कनेक्टिंग फ्लाइट की मांग भी बढ़ गई है। रायपुर से गोवा के लिए सीधी ट्रेन नहीं होने की वजह से लोग फ्लाइट को प्राथमिकता देने लगे हैं। यात्रियों के आंकड़े को देखकर ही पिछले साल रेलवे ने बिलासपुर से मडगांव के बीच दस हफ्ते के लिए स्पेशल ट्रेन चलाई थी। छत्तीसगढ़ से सीधे गोवा जाने वाली इस एसी ट्रेन का इंतजार यात्रियों को बेसब्री से है। यह ट्रेन बिलासपुर से रायपुर होते हुए दुर्ग, नागपुर, बडनेरा, भुसावल, इगतपुरी, र|ागिरी और सावंतवाड़ी होकर 31 घंटे में भी मडगांव पहुंचती है।

सबसे ज्यादा बुकिंग रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर से ही रही

रेलवे अफसरों के मुताबिक स्पेशल ट्रेनों में ज्यादा बुकिंग नहीं रहती, लेकिन मडगांव स्पेशल का 70 फीसदी टिकट बुकिंग रहती थी। बिलासपुर, रायपुर और दुर्ग से बुकिंग अधिक होती है। ट्रेन की बुकिंग स्टेटस के बारे में जोन ने रेलवे बोर्ड को फीडबैक भेजा है, लेकिन अभी तक गोवा के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की अनुमति नहीं मिल सकी है।

X
70 फीसदी बुकिंग लेकिन नहीं चलाई गोवा की सीधी ट्रेन, सालभर से मांग, फ्लाइट भी एक ही
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..