• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • सिविल वर्क का पेंच सुलझा, सामान भी आया, फिर भी लिफ्ट का काम है अधूरा
--Advertisement--

सिविल वर्क का पेंच सुलझा, सामान भी आया, फिर भी लिफ्ट का काम है अधूरा

ठेका लेने के दो महीने बाद भी कंपनी ने मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट में लिफ्ट का काम पूरा नहीं किया है। बीच में सिविल...

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 03:25 AM IST
ठेका लेने के दो महीने बाद भी कंपनी ने मदर एंड चाइल्ड केयर यूनिट में लिफ्ट का काम पूरा नहीं किया है। बीच में सिविल वर्क को लेकर उलझन हुई थी जिसे सुलझा लिया गया है। गुजरात से रॉ मटेरियल भी पहुंच चुका है लेकिन काम अभी भी अधर में है। इस फेर में मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन प्रसूता वार्ड को शिफ्ट नहीं कर पा रहा है।

मई में नेशनल हेल्थ मिशन से फंडिंग के बाद यूनिट में लिफ्ट लगाने की प्रक्रिया तेज की गई थी। गुजरात की ओमेगा नामक कंपनी ने टेंडर लिया है। फिलहाल यूनिट में दो की जगह एक लिफ्ट लगाया जाना है। एनएचएम से 19.17 लाख रुपए की स्वीकृति मिली है। लगने वाले लिफ्ट में 16 पैसेंजरों को एक साथ ऊपर से नीचे लाने ले जाने की क्षमता होगी। वर्कऑर्डर मिलने के बाद कंपनी ने काम शुरू किया, लेकिन लिफ्ट वाली जगह पर सिविल वर्क को लेकर झंझट निर्मित हो गई। कंपनी का कहना था कि उन्हें निविदा में सिविल वर्क के बारे में नहीं बताया गया था। यदि वे सिविल वर्क करते हैं तो बजट बिगड़ जाएगा। काफी समय तक काम अटका रहा। हाल ही में अफसरों के साथ हुई चर्चा में कंपनी ने सिविल वर्क साथ में करने की हामी भरी। सामान मंगाया गया। लेकिन अभी भी काम अधर में है। इस बार कंपनी को 15 जुलाई तक लिफ्ट का काम पूरा करने के लिए कहा गया है। लेकिन इन हालातों में काम पूरा हो पाना मुश्किल है।

प्रबंधन ने ओपीडी खोलकर पूरी की औपचारिकता: दूसरी ओर मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन ने यूनिट में ओपीडी खोलकर औपचारिकता पूरी कर ली है। जबकि अस्पताल के प्रसव वार्ड को यूनिट में शिफ्ट किया जाना है।

लिफ्ट लगते ही प्रसव वार्ड को किया जाना है शिफ्ट