• Home
  • Chhattisgarh
  • Bhilaidurg
  • शहीद जवान की पत्नी बोली - 9 साल हो गए बेटे को नौकरी भी नहीं मिली
--Advertisement--

शहीद जवान की पत्नी बोली - 9 साल हो गए बेटे को नौकरी भी नहीं मिली

12 जुलाई 2009 को कोरकोट्टी में शहीद हुए एसपी वीके चौबे सहित 29 जवानों को 9 वीं बरसी पर श्रद्धांजलि दी गई। पुलिस लाइन में...

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 03:30 AM IST
12 जुलाई 2009 को कोरकोट्टी में शहीद हुए एसपी वीके चौबे सहित 29 जवानों को 9 वीं बरसी पर श्रद्धांजलि दी गई। पुलिस लाइन में इसके लिए श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन रखा गया था। जिसमें शहीद एसपी चौबे की प|ी सहित शहीद जवानों के परिजन शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने अपने 9 साल पहले के दर्द को साझा किया।

शहीद पति एसआई गीता भंडारी को श्रद्धांजलि देने पहुंची उनकी प|ी ने मिथलेश भंडारी ने बताया कि नियमों के फेर के चलते अब तक बेटे को नौकरी नहीं मिल सकी है। जिसकी वजह से उन्हें पेंशन में घर चलाना पड़ रहा है। मिथलेश ने बताया कि जब पति शहीद हुए तब उनका बेटा छोटा था, उसे उम्र बढ़ने के बाद नौकरी मिलने की बात कही गई थी। लेकिन जब बेटा बढ़ा हो गया, तो नियमों का फेर बताकर आरक्षक की नौकरी देने की बात कह रहे हैं। जबकि कोरकोट्टी कांड में शहीद हुए सभी जवानों के परिजन को एएसआई रैंक में नौकरी दी गई। मीडिया के सामने परेशानी बताते हुए मिथिला रो पड़ी। उन्होंने मीडिया से मांग की है कि जल्द से जल्द उनकी दिक्कत खत्म कर परिवार के लिए सरकार ठोस कदम उठाए।

राजनांदगांव। परिजन पुिलस लाइन में स्थापित प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए।

शहीद एसपी की प|ी बोली-शहादत व्यर्थ नहीं गई

शहीद एसपी वीके चौबे की प|ी ने कहा कि उनके पति और जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं गई है। आज नक्सली बैकफुट पर हैं। हर जगह जवान पूरी ताकत से नक्सलियों के खिलाफ लोहा ले रहे हैं। उन्होंने कोरकोट्टी से मदनवाड़ा इलाके में हो रहे बदलाव और विकास को भी पुलिस जवानों की देन बताया।

बैकफुट पर धकेलो

अपने पिता, पति और भाई की शहादत काे याद करने पहुंचे परिजन की आंखें नम थीं। इसके बाद उन्होंने जवानों का हौसला बढ़ाया। परिजन ने कहा डटकर नक्सलियों का मुकाबला करें। उन्हें बैकफुट पर धकेलें। हर पुलिस का परिवार अपने सिपाही के साथ खड़ा है।