--Advertisement--

लाइसेंस की प्रक्रिया होगी सरल: रमन

लोहारों को औजार बनाने के लिए लिए जाने वाले लाइसेंस की प्रक्रिया सरल होगी। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने विश्वकर्मा...

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 03:45 AM IST
लोहारों को औजार बनाने के लिए लिए जाने वाले लाइसेंस की प्रक्रिया सरल होगी। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने विश्वकर्मा समाज के महासम्मेलन के अवसर पर यह बात कही। उन्होंने कहा उपकरण बनाने लकड़ी की आसान उपलब्धता सुनिश्चित कराने की दिशा में भी कार्य किया जाएगा। अगले महीने वे समाज के प्रमुख पदाधिकारियों से मिलेंगे और उनसे मिले सुझावों से प्रदेश में लौहकर्म एवं काष्ठशिल्प की तरक्की की रणनीति बनाएंगे। उन्होंने कहा कि लौहकर्म आदिमकर्म है और आज यह बहुत बड़े रूप में पहुंच गया है। भारत की पहचान उसके स्टील उद्योग से है और इसके पीछे विश्वकर्मा समाज का बड़ा योगदान है।

उन्होंने कहा कि विश्वकर्मा दुनिया के पहले इंजीनियर हैं उन्होंने इस सृष्टि को अपने कलात्मक निर्माण से सुंदर बनाया। वे समाज के भी इष्ट हैं और हम सबके भी इष्ट हैं। उन्होंने कहा कि हुनर को निखारने के लिए आगे लाने के लिए शासन द्वारा कौशल विकास पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

समाजसेवी गौतम पारख की पुस्तक विचार प्रवाह का विमोचन मुख्यमंत्री सिंह के हाथों हुआ। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर श्री पारख के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि कबीर अपनी बात खरी-खरी कहने का साहस रखते थे, इतनी सच्चाई विचारों की गहरी पवित्रता से आती है। मैं लंबे समय से श्री पारख से जुड़ा हुआ है।

मुख्यमंत्री ने कहा, उपकरण बनाने लकड़ी की आसान उपलब्धता के लिए बनेगी नीति

शेखर के चित्र से खुश हुए मुख्यमंत्री, 21 हजार रुपए देने की घोषणा

समाज के एक सदस्य शेखर विश्वकर्मा ने मुख्यमंत्री की तस्वीर उन्हें भेंट की। मुख्यमंत्री इस तस्वीर से बेहद खुश हुए। उन्होंने कहा कि यह तस्वीर बिल्कुल फोटोग्राफ की तरह लग रही है। उन्होंने प्रसन्न होकर शेखर को स्वेच्छानुदान से 21 हजार रुपए देने की घोषणा की।

आर्थिक आय बढ़ाने का प्रयास: अभिषेक- सांसद अभिषेक सिंह ने कहा कि सामाजिक सम्मेलन से बहुत से लाभ होते हैं। उन्होंने कहा कि कौशल उन्नयन के माध्यम से आर्थिक आय बढ़ाने का प्रयास शासन द्वारा किया जाता है।