Hindi News »Chhatisgarh »Fharshabhar» दो साल पहले हुई मरम्मत, अब खंडहर बना शौचालय

दो साल पहले हुई मरम्मत, अब खंडहर बना शौचालय

शौचालय मरम्मत के नाम पर रुपयों का बंदरबांट किया जा रहा है। फरसाबहार विकासखंड में वर्ष 2014-15 में कई स्कूलों के शौचालय...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 26, 2018, 03:45 AM IST

दो साल पहले हुई मरम्मत, अब खंडहर बना शौचालय
शौचालय मरम्मत के नाम पर रुपयों का बंदरबांट किया जा रहा है। फरसाबहार विकासखंड में वर्ष 2014-15 में कई स्कूलों के शौचालय मरम्मत का काम लिया गया था। काम कैसा हुआ है इसका उदाहरण खुटगांव पंचायत के विदुरपुर स्कूल का शौचालय है।

विदुरपुर कोरवा बाहुल्य गांव है। इस गांव में वर्ष 2014-15 में मरम्मत करने का बोर्ड तो लगा है। किंतु आज की स्थिति में शौचालय खंडहर के रूप में ही दिखाई पड़ रहा है। बच्चे स्कूल के शौचालय का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। स्कूली बच्चों व अभिभावकों ने बताया कि इस स्कूल के बच्चे लघुशंका या शौच के लिए खुले में जाते हैं। शौचालय का दरवाजा नाम मात्र को है। लोहे के इस दरवाजे में सिर्फ एंगल बचे हैं। स्कूल में बच्चों की दर्ज संख्या 25 है। इस शौचालय का मरम्मत कार्य भी शाला विकास समिति से छीन लिया गया था। अधिकारियों ने निर्देश जारी कर शाला समिति के बजाए संकुल समन्वयक को कार्य करने को कहा था।

लिहाजा संकुल समन्वयक ने सिर्फ कागजों में शौचालय की मरम्मत कराकर वहां एक बोर्ड लगा दिया। उनसे मरम्मत को लेकर सवाल किए जाने पर उनका कहना था कि शौचालय मरम्मत के कई साल बीत चुके हैं। थोड़ा बहुत उपर नीचे होता रहता है।

अनदेखी

टायलेट के दरवाजे में सिर्फ एंगल, मरम्मत कराने वाले संकुल समन्वयक कह रहे सब ठीक है

शौचालय निर्माण के नाम गड़बड़ी की

माध्यमिक शाला का शौचालय हुआ खंडहर

संकुल समन्वयक ने कराया था मरम्मत

वर्ष 2014-15 में शौचालय एवं भवन मरम्मत कराया गया। यह कार्य शाला प्रमुख व समिति द्वारा कराया जाना था। किंतु उच्चाधिकारियों द्वारा संकुल समन्वयक को कार्य दिए जाने के कारण उनके द्वारा काम कराया गया है। '' चंदन राम बैगा, प्रधान पाठक

ठीक है शौचालय

शौचालय ठीक है,थोड़ा रंग-रोगन नहीं होने से खराब दिख रहा है। मरम्मत कार्य किए 2-3साल बीत गया है। थोड़ी-बहुत कमीं-बेसी हो सकती है। '' गोपाल प्रसाद सिंह, संकुल समन्वयक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Fharshabhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×