Hindi News »Chhatisgarh »Fingeshwar» 3 साल से शिक्षकों की कमी, स्कूल गेट पर जड़ा ताला, सात सौ बच्चों ने किया हंगामा

3 साल से शिक्षकों की कमी, स्कूल गेट पर जड़ा ताला, सात सौ बच्चों ने किया हंगामा

ग्राम बासीन के हाईस्कूल, हायर सेकेंडरी और मिडिल के सात सौ छात्र-छात्राओं ने तीन साल से शिक्षकों की कमी को लेकर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 08, 2018, 02:40 AM IST

3 साल से शिक्षकों की कमी, स्कूल गेट पर जड़ा ताला, सात सौ बच्चों ने किया हंगामा
ग्राम बासीन के हाईस्कूल, हायर सेकेंडरी और मिडिल के सात सौ छात्र-छात्राओं ने तीन साल से शिक्षकों की कमी को लेकर आक्रोश जताते हुए मंगलवार को स्कूल समय सुबह साढ़े नौ स्कूल के गेट पर ताला जड़ दिया। वे बारिश की फुहार में भीगते हुए अपनी जायज मांगों को लेकर डटे रहे। स्कूल का बहिष्कार कर छात्र-छात्राओं ने शासन-प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर हंगामा मचाया।

दोपहर तीन बज बच्चों की जायज मांगों के समर्थन में सरपंच सहित पंचायत प्रतिनिधि भी शामिल हुए। हालांकि बच्चों के प्रदर्शन एवं हंगामे के लेकर कोई भी जिम्मेदार अफसर मौके पर नहीं पहुंचा। आनन-फानन में तहसीलदार ओपी वर्मा पहुंचे और बच्चों को एक हफ्ते के अंतराल में शिक्षक की कमी पूरी करने की समझाइश देकर आंदोलन समाप्त कराया। लेकिन बच्चों ने मांगें पूरी नहीं होने पर आगामी दिनों में अनिश्चितकालीन आंदोलन कर उग्र प्रदर्शन की चेतावनी दी है।

इस अवसर पर सरपंच राजू सोनी, छात्रा प्रतिनिधि रीना ध्रुव, उप शाला नायक मोहेंद्र साहू, छात्रा प्रतिनिधि प्रिय लहरे, मोहित मांडले, ओम प्रकाश पुर्रे, संजय साहू, आकांक्षा टोंडरे, सरस्वती चतुर्वेदी, तुमेश प्रजापति, काजल, सोनिया सोनी, ज्योति प्रजापति, अमन मल्होत्रा सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं, ग्रामीण, पंचायत प्रतिनिधि और शिक्षक-शिक्षिकाएं उपस्थित रहे।

9वीं में 170 बच्चे एक साथ पढ़ते हैं : शिक्षकों की कमी के कारण 9वीं में दर्ज करीब 170 बच्चे एक ही क्लास में बैठकर पढ़ाई करने के लिए मजबूर हैं। दर्ज छात्रों के अनुपात में विषय वार शिक्षक नहीं होने से बच्चे अपने सालभर की पढ़ाई को लेकर काफी चिंतित हैं।

बासीन में छात्रों ने स्कूल का बहिष्कार कर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की

फिंगेश्वर. शिक्षकों की कमी को लेकर स्कूल में ताला जड़ कर विरोध प्रदर्शन करते हुए छात्र-छात्राएं।

स्कूल में सात सौ बच्चे मगर शिक्षक हैं सिर्फ 12

स्कूल परिसर में हायर सेकेंडरी, हाईस्कूल एवं मिडिल स्कूल के करीब 700 से भी अधिक बच्चों की पढ़ाई के लिए गिनती मात्र के 12 शिक्षक वर्तमान में पदस्थ हैं। इसके कारण शिक्षा का स्तर प्रभावित होने के साथ ही बच्चे आधी-अधूरी पढ़ाई होने से खासे परेशान हैं।

डीईओ बोले-की गई है वैकल्पिक व्यवस्था

डीईओ एसएल ओगरे ने कहा कि स्कूल में शिक्षकों की वैकल्पिक व्यवस्था शाला विकास समिति द्वारा विषयवार कर दी गई है। स्कूल में किसी भी प्रकार से शिक्षकों का कोई अभाव नहीं है। बच्चे जानबूझकर अनावश्यक माहौल खराब कर रहे हैं। वर्तमान में चुनाव के दौरान वर्किंग लोड इतना ज्यादा है कि शिक्षकों की पूर्ति करने की बात असंभव है।

अफसर को जानकारी दी पर व्यवस्था नहीं की गई

तीन सालों से शैक्षणिक संस्थान में शिक्षकों की कमी होने से छात्र-छात्राएं सहित पालकों ने भी शाला प्रबंध समिति के साथ मिलकर जिले के शिक्षा विभाग के आला अफसरों को इसकी जानकारी दी थी। बावजूद वर्तमान में शैक्षणिक सत्र के शुरू होने से फिर अभाव बने रहने के कारण आक्रोशित छात्र-छात्राओं ने आज स्कूल के सामने ताला जड़कर जमकर नारेबाजी करते हुए शासन-प्रशासन के खिलाफ हल्ला बोला और जमकर हंगामा मचाया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Fingeshwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×