--Advertisement--

3 दिन बाद भी नहीं पकड़े जा सके तीनों हाईवा

लंबे समय से बारूका में चल रहे अवैध उत्खनन पर आखिरकार रोक लगाने की मांग स्वयं सरपंच एवं अन्य ग्रामवासियों ने की है।...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 02:50 AM IST
3 दिन बाद भी नहीं पकड़े जा सके तीनों हाईवा
लंबे समय से बारूका में चल रहे अवैध उत्खनन पर आखिरकार रोक लगाने की मांग स्वयं सरपंच एवं अन्य ग्रामवासियों ने की है। 12 अप्रैल को जिला प्रशासन ने कार्रवाई कर हाईवा में रेत भर रहे चैन मशीन जेसीबी और तीन हाईवा को जब्त किया गया था। लेकिन तीनों हाईवा रातोंरात मौके से गायब हो गए थे। तीन दिन गुजरने के बाद भी प्रशासन गायब हाईवा को जब्त नहीं कर सकी है। पंचायत की छवि खराब होने से परेशान सरपंच ने रेत खदान बंद करने के लिए कलेक्टर को आवेदन सौंपा है। हाल ही में हुई कार्रवाई को भास्कर ने प्रमुखता से प्रकाशित किया गया था।

नायब तहसीलदार मनोज गुप्ता ने बताया कि मौके से जब्तशुदा हाईवा के गायब होने की सूचना मिली थी। 13 अप्रैल को मौके पर पंचनामा बनाकर इसकी पुष्टि की गई। सिटी कोतवाली में रिपोर्ट भी दर्ज कराई गई। गायब तीनों हाईवा सीजी 07 बीजी 7300, सीजी 23 0844 तथा सीजी 23 1651 को परिवहन के लिए भरे रेत तथा चालक सहित गिरफ्तार करने की कार्रवाई के लिए पुलिस को पत्र भेजा गया है, परंतु तीन बाद भी पुलिस पकड़ने में असफल रही है। जबकि थाना प्रभारी संतोष भूआर्य ने कहा कि शीघ्र ही गायब तीनों हाईवा को जब्त कर लिया जाएगा। वहीं 28 मार्च को खनिज विभाग ने कार्रवाई कर 39 हजार रुपए जुर्माना वसूला था। इसके बाद भी रेत माफिया के हौसले बुलंद थे। लगातार दिन-रात जेसीबी से रेत का खनन किया जा रहा था।

पंचायत की आड़ में चल रहे इस अवैध खनन की शिकायत पर कलेक्टर श्याम धावड़े ने कार्रवाई के निर्देश अधिकारियों दिए थे। ताबड़तोड़ कार्रवाई में एक जेसीबी व तीन हाईवा मौके पर अवैध रेत उत्खनन और परिवहन करते हुए जब्त किया गया था। इसके बाद सरपंच ने अगले दिन ही पंचायत छवि धूमिल होते देख जिला कार्यालय पहुंच कलेक्टर और खनिज अधिकारी को लिखित ज्ञापन सौंप रेत खदान को बंद करने की मांग की थी।

पंचायत की छवि धूमिल होने से नाराज सरपंच ने कलेक्टर को खदान बंद करने के लिए आवेदन दिया

अवैध खनन से नाराजगी, खदान बंद करने दिया आवेदन

सरपंच ईश्वरी बाई ने बताया कि वे शुरू से ही रेत खदान संचालन के खिलाफ थी, लेकिन ग्रामीणों की सहमति पर अनुमति दी गई थी। जिस प्रकार लगातार अवैध रेत खनन की शिकायत मिली, उससे पंचायत की छवि धूमिल होते देख उन्होंने रेत खदान बंद करने कलेक्टर को आवेदन दिया है।

गरियाबंद. जब्त किया गया हाईवा मौके से गायब हो गया हैं, पकड़ा नहीं जा सका।

X
3 दिन बाद भी नहीं पकड़े जा सके तीनों हाईवा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..