गरियाबंद

  • Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Gariyaband
  • बाल डेस्क का भ्रमण करा चाइल्ड हेल्प लाइन व एफआईआर की जानकारी दी
--Advertisement--

बाल डेस्क का भ्रमण करा चाइल्ड हेल्प लाइन व एफआईआर की जानकारी दी

स्कूली बच्चों को यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करने, समाज में उनकी भूमिका बताने तथा कैरियर संबंधित...

Dainik Bhaskar

Jul 25, 2018, 02:50 AM IST
बाल डेस्क का भ्रमण करा चाइल्ड हेल्प लाइन व एफआईआर की जानकारी दी
स्कूली बच्चों को यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करने, समाज में उनकी भूमिका बताने तथा कैरियर संबंधित मार्गदर्शन देने के उद्देश्य से 23 जुलाई को सिटी कोतवाली पुलिस ने मिशन गाइड द यूथ, चेंज द नेशन अभियान की शुरुआत की। शुरुआत में नगर के एंजल्स एंग्लो स्कूल के बच्चों को थाना परिसर का भ्रमण कराया गया और विभिन्न कानूनी कार्रवाई संबंधित प्रक्रियाओं की जानकारी दी गई।

बच्चों को थाना के मुख्य द्वार स्थित संत्री पोस्ट के कार्य, एफआईआर दर्ज कराने की प्रक्रिया, विशेष किशोर पुलिस अधिकारी की भूमिका, थाना अभिलेख, बंदी गृह और विवेचक कक्ष के बारे में बताया गया। साथ ही बाल डेस्क का भ्रमण कराकर बच्चों को चाइल्ड हेल्पलाइन की जानकारी दी गई। इस दौरान पुलिस ने बच्चों से निर्भिक व निःसंकोच होकर अपनी समस्या बताने की अपील की। इस मौके पर थाना प्रभारी ने बताया कि अभियान से बच्चों को जागरूक किया जा रहा है ताकि वे समाज में अपनी भूमिका समझ सके और अच्छे नागरिक बन अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें।

गरियाबंद. थाने में छात्र-छात्राओं को कानूनी कार्रवाई की जानकारी देते हुए थाना प्रभारी।

रोड पर कमेंट पास करने पर पुलिस को सूचना दे

थाना भ्रमण के बाद पुलिस अफसरों एवं बच्चों के मध्य सामाजिक समस्याओं पर मीटिंग हॉल में चर्चा-परिचर्चा की गई। जहां रक्षित निरीक्षक नीलेश द्विवेदी व थाना प्रभारी सचिन सिंह ने बच्चों को यातायात नियमों, साइबर क्राइम, चेतना कार्यक्रम आदि की जानकारी दी। यहां बच्चों ने जिज्ञासावश पुलिस से कई रोचक सवाल जवाब भी किए। एक बच्ची ने रास्ते में आने-जाने दौरान कमेंट-पास करने वाले लड़कों पर क्या कार्रवाई होती है, इसके बारे में पूछा। इस पर अफसरों ने ऐसे तथ्यों पर तुरंत पुलिस को सूचित करने तथा कड़ी कार्रवाई करने के लिए आश्वस्त किया। इसी प्रकार बच्चों ने थानेदार कैसे बनते हैं? पुलिस कितने प्रकार की होती है? एसपी साहब का क्या काम है? सहित कई अन्य प्रश्न पूछे, जिसका अफसरों ने जवाब देकर उनकी जिज्ञासा शांत की।

नाट्य से विवेचना, जांच कार्य अपराध पहचानने को बताया

मुहिम के तहत बच्चों को नाट्य रूपांतरण के माध्यम से प्रथम सूचना पत्र दर्ज कराने, पुलिस विवेचना और जांच कार्य और कैसे आपराधिक गतिविधियों को पहचानने की जानकारी दी गई। इस दौरान एक छात्र ने प्रार्थी बनकर बाइक चोरी की रिपोर्ट सउनि मोहन ठाकुर के समक्ष दर्ज कराई। इसके बाद बच्चों को स्कूल बस में रखे प्राथमिक उपचार की सुविधा, अग्निशमन यंत्र के उपयोग तथा गुड सेमेरिटन के संबंध में जानकारी दी गई।

पैसा उगाही की जिज्ञासा शांत करने की गाड़ियों की चेकिंग

बच्चों से पुलिस द्वारा रोड पर पैसा लेने संबंधी बात सामने आने पर बच्चों के समक्ष यातायात प्रभारी गंगाधर चंद्राकर ने बच्चों के सामने मोटरयान अधिनियम के तहत गाड़ियों की चेकिंग कर चालानी कार्रवाई की। बच्चों को बताया गया चालानी कार्रवाई के दस्तावेज संबंधित को दिए जाते हैं तथा पैसा शासन के खाते में जमा होता है।

X
बाल डेस्क का भ्रमण करा चाइल्ड हेल्प लाइन व एफआईआर की जानकारी दी
Click to listen..