Hindi News »Chhatisgarh »Gariyaband» डूब रहे व्यक्ति के शरीर से पानी निकालने व प्राथमिक इलाज करने के तरीके बताए

डूब रहे व्यक्ति के शरीर से पानी निकालने व प्राथमिक इलाज करने के तरीके बताए

नगर सेना के जवानों ने मरौदा डेम में माॅक ड्रिल के माध्यम से ग्रामीणों को बाढ़ में डूब रहे व्यक्ति को सुरक्षित बाहर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 04, 2018, 02:51 AM IST

डूब रहे व्यक्ति के शरीर से पानी निकालने व प्राथमिक इलाज करने के तरीके बताए
नगर सेना के जवानों ने मरौदा डेम में माॅक ड्रिल के माध्यम से ग्रामीणों को बाढ़ में डूब रहे व्यक्ति को सुरक्षित बाहर निकालने का तरीका बताया। पानी पी चुके डूबते व्यक्ति के शरीर से पानी बाहर कैसे निकाला जाता है, प्राथमिक उपचार के लिए क्या करना चाहिए, इन सबकी विधि भी बताई गई। प्रभारी जिला सेनानी एके सिंह के मार्गदर्शन में आयोजित माॅक ड्रिल प्रशिक्षण में नगर सेना के जवान, जिला प्रशासन के अफसर-कर्मचारी और ग्रामीण भी शामिल हुए। डूबते हुए को बचाने के उपायों का कई बार प्रदर्शन किया गया।

शिविर में संयुक्त कलेक्टर जेआर चौरसिया ने कहा कि जिले में बाढ़ से प्रभावित होने की संभावना वाले गांवों की सूची बनाकर बाढ़ से बचाव के लिए योजना बनाई गई है। जरूरत पड़ने पर बाढ़ आपदा प्रभावित बसाहटों को सुरक्षित स्थान में ले जाने, आवश्यक दवाइयां, कंबल, खाद्य सामग्री के अग्रिम व्यवस्था की गई है। चिह्नांकित गांव के पीडीएस दुकान में तीन माह की खाद्य सामग्रियों का अग्रिम भंडारण किया गया है। बाढ़ आने पर ग्रामवासियों को ऊंचे और सुरक्षित स्थान पर जाना चाहिए। कई बार ग्रामीण बाढ़ आने पर ही अपने गांव से नहीं हटना चाहते, पर जीवन की सुरक्षा के लिए बाढ़ग्रस्त स्थान से सुरक्षित स्थान में जाना अत्यंत जरूरी है।

नाव, मोटर बोट, लाइफ जैकेट आदि की व्यवस्था : माॅक ड्रिल के प्रदर्शन के दौरान वहां नाव, मोटर बोट, 25 लाइफ जैकेट, 10 लाइफ बाय तथा फस्र्ट एड की व्यवस्था की गई थी। माॅक ड्रिल प्रदर्शन के लिए डेम के पास ही बाढ़ आपदा प्रशिक्षण शिविर भी लगाया गया है। शिविर में अपर कलेक्टर केके बेहार, संयुक्त कलेक्टर, राजिम, गरियाबंद और देवभोग के एसडीएम तथा तहसीलदार, सीएमएचओ, रक्षित निरीक्षक नीलेश द्विवेदी और बाढ़ आपदा की संभावना वाले गांव-कुरूसकेरा, बट्टी, मजरकट्टा, कोचवाय, मालगांव, पाथरमोहंदा, चिखली, भिलाई सहित अनेक गांव के ग्रामीण शामिल हुए। शिविर स्थल में उपस्थित सभी ग्रामीण और प्रतिभागियों के लिए भोजन की भी व्यवस्था की गई थी।

गरियाबंद. माॅक ड्रिल में बाढ़ में फंसे व्यक्ति को बचाने के तरीके बताते नगर सेना के जवान।

बाढ़ आने पर घबराए नहीं, पुलिस-पटवारी को जानकारी दें

राजिम, गरियाबंद और देवभोग के एसडीएम ने भी ग्रामीणों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि किसी भी आपदा से निपटने के लिए हमेशा मानसिक रूप से तैयार रहना चाहिए और आपदा से बचाव के लिए सभी को मिलकर कार्य करना चाहिए। ग्रामीणों को बताया गया कि बाढ़ आने पर घबराना नहीं चाहिए, बल्कि उपलब्ध संसाधनों का प्रयोग करते हुए इससे निपटने का प्रयास करें। बाढ़ जैसी स्थिति में संबंधित थाना और पटवारी को जानकारी दें, ताकि बचाव के लिए जल्द से जल्द कार्रवाई शुरू की जा सकें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gariyaband

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×