गरियाबंद

--Advertisement--

किसानों ने 700 लीटर दूध नदी में बहाया

कोपरा नवापारा. दुग्ध महासंघ के इंकार के बाद पैरी नदी में दूध बहाते हुए पोंड के किसान। किसानों का आरोप-महासंघ ने...

Danik Bhaskar

May 18, 2018, 03:25 AM IST
कोपरा नवापारा. दुग्ध महासंघ के इंकार के बाद पैरी नदी में दूध बहाते हुए पोंड के किसान।

किसानों का आरोप-महासंघ ने गुणवत्ता ठीक नहीं होने से लेने से मना किया

भास्कर न्यूज|कोपरा नवापारा

गुरुवार को ग्राम पोंड के दूध उत्पादन करने वाले किसानों ने अनोखा प्रदर्शन करते हुए 700 लीटर दूध को गरियाबंद के पैरी नदी में बहा दिया। इस दौरान अतरमरा के किसान भी शामिल रहे। किसानों ने दुग्ध संघ समिति पर दूध नहीं खरीदने का आरोप लगाया है। इस संबंध में दुग्ध महासंघ के जिलाध्यक्ष सोम प्रकाश साहू ने जल्द ही समस्या का हल निकालने का भरोसा किसानों को दिया है।

किसानों ने बताया कि वे सालों से दूध बेचते आ रहे हैं, लेकिन पोंड दुग्ध महासंघ ने तीन दिन पहले अचानक गुणवत्ता सही नहीं होने की बात दूध खरीदने से इंकार कर दिया। साथ ही समिति बंद करने की भी बात कही है। महासंघ ने केवल पोंड समिति ही नहीं बल्कि जिले की सभी 19 दुग्ध समितियों को गुणवत्ता सुधारने का फरमान सुनाया है, जिसके बाद ही दूध खरीदने की बात कही है। इस बात से नाराज होकर पोंड सहित अतरमरा गांव के किसानों ने अपना 700 लीटर दूध पैरी नदी में बहा दिया। रामलाल तिवारी, लक्ष्मण साहू, फिरतूराम कंवर आदि किसानों ने बताया कि उन्होंने अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए लोन लेकर दूध का उत्पादन शुरू किया था, लेकिन महासंघ के निर्णय से काफी नुकसान हो जाएगा।

समिति बंद होने से रोजी-रोटी की समस्या

दूध उत्पादन किसानों का कहना है कि जिले की दुग्ध संघ समिति उनका दूध नहीं खरीद रही है। साथ ही जिले की दूध समितियां बंद करने का विचार कर रही है। यदि ये समितियां बंद हो गईं तो हम कहां दूध बेचेंगे। यदि समिति दूध नहीं खरीदेगी तो हम कहां से रोजी-रोटी कमाएंगे। इसी को लेकर इन किसानों ने अनोखा विरोध प्रदर्शन करते हुए पैरा नदी में कई लीटर दूध बहा दिया।

Click to listen..