• Hindi News
  • Rajya
  • Chhattisgarh
  • Janjgeer
  • रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका

रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका / रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका

Janjgeer News - मिट्‌टी परीक्षण करते लैब असिस्टेंट मिट्‌टी की उर्वरक क्षमता बढ़ाने जैविक खेती जरूरी भास्कर न्यूज |...

Bhaskar News Network

Sep 05, 2018, 02:46 AM IST
रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका
मिट्‌टी परीक्षण करते लैब असिस्टेंट

मिट्‌टी की उर्वरक क्षमता बढ़ाने जैविक खेती जरूरी

भास्कर न्यूज | जांजगीर-चांपा

रासायनिक खाद के उपयोग से खेत की मिट्‌टी में अम्ल की मात्रा बढ़ने के साथ अब जिंक और बोरान जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी होती जा रही है। इसका दुष्प्रभाव मिट्टी पर तो पड़ रहा है, इसका दुष्प्रभाव मनुष्य के स्वास्थ्य पर भी पड़ सकता है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार मिट्टी में इन पोषक तत्वों की लगातार कमी से फसल उत्पादन को प्रभावित होगा वहीं जिंक की लगातार कमी से बाल झड़ने के साथ ही शरीर का विकास भी थम सकता है, और यह कुपोषण का कारण भी बनता है। कृषि विभाग द्वारा कराए जा रहे जिले के सभी 9 ब्लॉक के खेतों की मिट्टी जांच की रिपोर्ट में यह चौकाने वाली बात सामने आई है। अप्रैल से अगस् तक 22 हजार 235 नमूनों की जांच में 13 हजार 161 नमूने यानी 59.19% नमूनों में हर ब्लॉक में जिंक की मात्रा कम पाई गई। 9074 नमूनों में ही जिंक की मात्रा सही पाई गई। 19 हजार 508 नमूनों की जांच में 12 हजार 481 सैंपल यानी 63.98% नमूनों में सूक्ष्म पोषक तत्व बोरान अपर्याप्त पाया गया।

जिंक की पूर्ति के लिए जिंक सल्फेट व बोरेक्स पाउडर का करना होगा उपयोग

एक्सपर्ट व्यू

जानिए, जिंक और बोरान की कमी से फसलों को नुकसान क्या

डॉ. केडी महंत, मिट्‌टी वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केंद्र जांजगीर

जिंक की कमी से फसलों में खैरा नामक रोग फैलता है। इसमें पौधे पीले पड़ जाते हैं और जले-जले दिखते हैं। इससे फसल का ग्रोथ रूक जाता है। क्लोरोफिल कम हो जाता है। मिट्‌टी में जिंक की कमी से पैदा हुई फसल में भी जिंक की मात्रा कम रहती है। खाद की असंतुलित मात्रा और जिंक सल्फेट नहीं डालने से जिंक की कमी होती है। खासकर फासफोरस की अधिक मात्रा जिंक की कमी का कारण है। बोरान की कमी से उत्पादन सीधे गिरता है क्योंकि दाने और उनमें दूध नहीं भरते। फल को बढ़ाने का काम बोरान करती है। जिंक की लगातार कमी से बाल झड़ने, रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने और कुपोषण की समस्या आ सकती है।

यहां की 56.84% नमूनों में अम्ल की मात्रा अधिक

खेतों की मिट्टी भी अम्लीय होती जा रही है। बीते पांच महीने में जिले के 9 ब्लॉक से 22 हजार 403 सैंपलों की जांच की गई है। इनमें 12 हजार 733 सैंपल यानी 56.84% नमूनों में अम्ल की मात्रा अधिक मिली है। अम्ल की मात्रा बढ़ने से खेत बंजर भी हो सकते हैं। फसल चक्र नहीं अपनाने, लगातार धान की ही फसल लगाने से मिट्टी अम्लीय हो रही है। क्षार और लवण की मात्रा सही है। 17 नमूनों में ही क्षारीय निकला। गौरतलब है कि मिट्टी में पोटेशियम, मैग्निशियम,आयरन, जिंक सल्फर, बोरान समेत मिट्‌टी के 12 प्रकार के पोषक तत्वों की जांच की जाती है।

जिले की मिट्टी में इन तत्वों की कमी

56.19 जिंक

63.98% बोरान

84.99 नाइड्रोजन

(आंकड़े कृषि विभाग के अप्रैल से अगस्त तक हुए जांच नमूनों के आधार पर )

जिंक फोटिफाइट राइस बना रहे वैज्ञानिक :

जिंक जैसे पोषक तत्वों की कमी को शरीर में होने वाले नुकसान को दूर करने कृषि वैज्ञानिक ऐसे फसल तैयार करने में लगे हैं जिसमें जिंक की मात्रा काफी अधिक हो। डॉ. महंत ने बताया कि इंदिरा गांधी कृषि विवि रायपुर के डॉ. गिरीश चंदेल द्वारा जिंक फाेटिफाइट राइस पर काम कर रहे हैं। इससे तैयार फसल में जिंक की मात्रा काफी अधिक है।

रासायनिक खाद के उपयोग से तत्वों की कमी से होने वाले रोग

सल्फर - मुंहासे, ऑर्थराइटिस, नाखून और विकृत होना, शरीर में ऐंठन,, याददाश्त में कमी, गेस्ट्रिक जख्म भरने में देरी होना, मोटापा

जिंक : बच्चे की औसत लंबाई में कमी या शरीर का विकास रुकना, रोग प्रतिरोध क्षमता घटना, कुपोषण की समस्या

बोरोन - हड्डी में कमजोरी, ऑस्टियोपोरोसिस, ऑर्थराइटिस, बुढ़ापे में हड्डी का कमजोर होना।

जैविक खाद ही विकल्प . जिले में अभी धान की ही फसल ली जाती है, रबी में भी धान ही बोया जाता है, इसके कारण उर्वरकता घटी है। यह जरूरी है कि धान के बाद दलहन तिलहन फसलें लगाई जाए तथा रासायनिक के बजाय जैविक खाद का उपयोग करने पर ही मिट्‌टी की तासीर बदल सकती है।

रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका
X
रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका
रासायनिक खाद से मिट्‌टी में पोषक तत्व घटे, बाल झड़ेंगे, कुपोषण की भी आशंका
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना