--Advertisement--

संबलपुर ने राउरकेला को 2-1 से हराकर जीत लिया खिताब

कुनकुरी में चल रहे अंतरराज्यीय फुटबाल टूर्नामेंट के फाइनल में संबलेश्वरी एकादमी संबलपुर और न्यू स्पोर्टिंग...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 02:30 AM IST
कुनकुरी में चल रहे अंतरराज्यीय फुटबाल टूर्नामेंट के फाइनल में संबलेश्वरी एकादमी संबलपुर और न्यू स्पोर्टिंग राउरकेला के बीच बेहद रोमांचक मुकाबला हुआ। इसमें संबलपुर ने राउरकेला को 2-1 से हराकर खिताब अपने नाम कर लिया। समापन समारोह के मुख्य अतिथि प्रदेश के गृह मंत्री रामसेवक पैकरा थे।

शुरू से ही दोनों ही टीमों के खिलाड़ी खिताब अपने नाम को करने के लिए बेताब दिखे। मैच के 16 वें मिनट में संबलेश्वरी अकेडमी के जर्सी नंबर 10 के खिलाड़ी सुमन पटेल ने पहला गोल दागकर टीम को बढ़त दिलाई। मैच के मध्यांतर से पहले 43 वें मिनट में दूसरा गोल दागकर मैच में संबलपुर ने 2-0 महत्वपूर्ण बढ़त ले ली थी। मध्यांतर के बाद के खेल में सम्लेश्वरी एकेडमी के बड़े डी में हुए फाउल की बदौलत 16 मिनट में मिले पेनाल्टी शूट आउट के जरिए गोल कर राउरकेला की टीम ने मैच में वापसी की और जबरदस्त उत्साह से आक्रामक खेल का प्रदर्शन किया। उन्हें कई मौके भी मिले, पर संबलपुर के रक्षापंक्ति को राउरकेला के खिलाड़ी भेदने में सफल नहीं हो सके। आखिरकार संबलपुर ने 2-1 से यह फाइनल मुकाबला जीत लिया। मैच के मैन ऑफ द मैच सम्लेश्वरी अकेडमी टीम के जर्सी नंबर 10 सुमन पटेल रहे। मैच की समाप्ति के बाद दोनों ही टीमों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया एवं रेफरी पैनल, समिति के पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं को स्मृति चिह्न देकर आयोजन समिति द्वारा उनका सम्मान किया गया। समापन समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में संसदीय सचिव शिवशंकर साय, अनिल सिंह मेजर, भरत साय, जशपुर विधायक राजशरण भगत, कुनकुरी विधायक रोहित साय, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष बालकृष्ण शर्मा एवं वर्तमान अध्यक्ष सुदबल राम यादव मौजूद थे।

फुटबॉल

गृह मंत्री ने अंतरराज्यीय फुटबाल टूर्नामेंट के समापन समारोह में कहा ऐसी स्पर्धाओं से स्थानीय खिलाड़ियों का बढ़ता है मनोबल

स्तरीय मैच देखकर स्थानीय खिलाड़ियों को मिलता है सीखने का मौका

विजेता ट्रॉफी के साथ टीम के सारे खिलाड़ी।

समापन समारोह में मुख्य अतिथि प्रदेश के गृह मंत्री रामसेवक पैकरा ने कहा कि इस प्रकार के स्तरीय टीमों के बीच होने वाले मुकाबले को देखकर स्थानीय खिलाड़ियों को काफी कुछ सीखने का मौका मिलता है। साथ ही वे इन खिलाड़ियों से मिलकर खेल की अन्य बारीकियों के बारे में चर्चा भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि खेल में हार-जीत कोई बड़ी बात नहीं है, यह बात सबसे महत्वपूर्ण है कि मैच के दौरान हमने अपनी कमजोरियां का आंकलन कितना किया और उसे दूर करने का कितना प्रयास किया। कार्यक्रम को अन्य अतिथियों ने भी संबोधित किया।