--Advertisement--

ग्राम जोकरी और जुड़वानी में हुआ 5 कुंडीय गायत्री महायज्ञ

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में जशपुर विकासखंड के ग्राम जोकरी, पोरतेंगा एवं जुड़वानी में 5 कुंडीय...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:00 AM IST
अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में जशपुर विकासखंड के ग्राम जोकरी, पोरतेंगा एवं जुड़वानी में 5 कुंडीय गायत्री महायज्ञ का आयोजन हुआ। 25 से 27 फरवरी तक जोकरी मे 5 कुंडीय गायत्री महायज्ञ एवं अखंड रामायण का पाठ हुआ। 48 घंटों तक अखंड रामायण पाठ से पूरा गांव का वातावरण भक्तिमय हो गया। अखंड रामायण में श्रद्धालुओं की अच्छी भीड़ जुटी। अखंड रामायण के पश्चात महायज्ञ हुआ, जिसमें वैदिक मंत्रोच्चार से सभी ने यज्ञाग्नि में आहुतियां प्रदान की। जुड़वानी, ठूठीअंबा में भी 27 से 28 फरवरी तक 5 कुंडीय महायज्ञ सम्पन्न हुआ। इस दो दिवसीय कार्यक्रम में प्रथम दिवस में भव्य कलश यात्रा निकाली गई, जिसमें माताओ बहनों ने कलश उठाकर ग्राम का भ्रमण किया एवं भक्तिमय गीतों एवं भजन कीर्तन के साथ सभी कलश यात्रा में शामिल हुए। इसके बाद कलश की स्थापना यज्ञ मंडप में हुई। संध्याकाल में प्रवचन एवं संगीत रखा गया था। इसके साथ ही दीपयज्ञ भी शाम को हुआ। कार्यक्रम के दूसरे दिन महायज्ञ किया गया, जिसमें गायत्री मंत्र एवं महामृत्युंजय मंत्र से यज्ञाग्नि में आहुतियां प्रदान करते हुए ग्राम एवं विश्व कल्याण ली कामना की गई । उक्त कार्यक्रम में 8 लोगों ने दीक्षा संस्कार ग्रहण किया। साथ ही 14 विद्यारंभ संस्कार संस्कार कराए गए। जुड़वानी में कार्यक्रम के दौरान टोली नायक रामेश्वर विश्वकर्मा ने कहा श्रद्धा, भक्ति, प्रेम, त्याग, समर्पण की भावना को विकसित करना चाहिए एवं अपने अंदर ईर्ष्या, द्वेष, छल, कपट की भावनाओं को त्यागकर सबसे भाईचारे का व्यवहार करना चाहिए। कार्यक्रम में युग संगीत द्वारा जीवन जीने की कला बताई गई। लखपति सिंह ने कहा कि युगऋषि पं श्रीराम शर्मा आचार्य ने मनुष्य में देवत्व के उदय और धरती पर स्वर्ग के अवतरण के उद्देश्य से गायत्री परिवार की स्थापना की थी और आज करोड़ों लोग इसमें जुड़कर अपने जीवन का नैतिक, चारित्रिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक उत्थान कर रहे है। कार्यक्रम में सरपंच फूलदानी बाई, मिट्ठू राम, पंकज साय एवं गायत्री परिवार के सदस्यों की सराहनीय सहभागिता रही।

धार्मिक आयोजन

अखिल विश्व गायत्री परिवार ने कराए विभिन्न संस्कार, 48 घंटों तक हुआ अखंड रामायण का पाठ, आयोजन से गांव का माहौल हुआ भक्तिमय

8 ने दीक्षा और 14 ने विद्यारंभ संस्कार ग्रहण किया

महायज्ञ में आहुतियां देते गायत्री परिवार के सदस्य।