पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Tapkara News After 27 Days Bohni Who Came To Kotba Center Came In Three Days Only 457 Quintals Grain

27 दिन बाद कोतबा केंद्र में हुई बोहनी तीन दिन में आया मात्र 457 क्विं. धान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिले में सबसे अधिक खरीदी के लिए मशहूर कोतबा के धान खरीदी केन्द्र में पसरा सन्नाटा

भास्कर न्यूज | कोतबा

1 नवंबर से धान खरीदी शुरू हो गई है मगर जिले में सबसे अधिक खरीदी होने वाले कोतबा केंद्र में धान की आवक बहुत कम है। हालात यह है कि समर्थन मूल्य में खरीदी के 27 दिन बाद केंद्र में बोहनी हुई है। तीन दिनों की खरीदी में कोतबा उपार्जन केंद्र ने अब तक 457 क्विंटल खरीदी ही हो पाई है। कुछ किसान जहां अभी धान काटने में लगे है तो वहीं कुछ को चुनाव परिणाम का इंतजार है। विधानसभा चुनाव में किसानों को रिझाने के लिए राजनैतिक पार्टियों ने तरह-तरह के वादे और दावे किए हैं, जिसके बाद से किसान असमंजस की स्थिति में नजर आ रहे हैं। एक ओर जहां कांग्रेस ने अपनी चुनावी घोषणा में उनकी सरकार बनने पर 25 सौ रुपए धान का समर्थन मूल्य और किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया है तो वहीं जोगी कांग्रेस ने भी चुनावी घोषणा पत्र में शपथ पत्र के साथ उनकी सरकार बनने पर धान का समर्थन मूल्य 25 सौ रुपए देने का लोकलुभावन वादा किया है। इन्हीं सब वायदे और दावों को लेकर किसान असमंजस की स्थिति में है और अभी खरीदी केंद्रों का रुख करने से गुरेज कर रहे हैं। किसान ज्योति यादव, मुंचु राम साहू और गोविंद राम यादव का कहना है कि हम अगर अभी धान भेजते हैं तो बैंक में कर्ज की राशि काट ली जाएगी और पुराने रेट पर धान की कीमत मिलेगी। इसलिए हमें चुनाव परिणाम का इंतजार है परिणाम आने के बाद ही धान बेचेंगे।

अभी बेचकर क्यों कटवाएं ऋण की राशि
किसान अगनू राम श्रीवास ने कहा- धान तो हमने काट लिया है पर खरीदी केन्द्र में इसकी बिक्री अब नई सरकार के बनने के बाद ही करेंगे, क्योंकि हमने ऋण लेकर फसल लगाई है। अगर कांग्रेस की सरकार बनती है तो उन्होंने ऋण माफी का वादा किया है। अगर हम अभी धान बेचेंगे तो पहले ऋण की राशि काटी जाएगी। उसके बाद खाते में राशि भुगतान किया जाएगा। हम जान बूझकर यह गलती क्यों करें।

दस बारह दिन रुक ही जाने में क्या हर्ज है
किसान धवर साय ने कहा- हम धान बेचने के लिए नई सरकार के बनने का इंतजार कर रहे हैं। क्योंकि कांग्रेस ने वादा किया है कि किसानों की धान 25 सौ रुपए क्विंटल में खरीदेगी। अभी अगर हम धान बेचते हैं तो हमें 1750 रुपए प्रति क्विंटल और 300 रुपए बोनस मिलेगा। दस बारह दिन बाद बेचेंगे तो अगर कांग्रेस की सरकार बनेगी तो सीधे-सीधे प्रति क्विंटल 500 रुपए का मुनाफा होगा। बीजेपी की सरकार बनेगी तो जो मूल्य अभी मिल रहा वह तो मिलेगा ही। नुकसान कहां होना है। तो दस बारह दिन रूक जाने मेें क्या हर्ज है।

सहायक पंजीयक ने किसानों से कहा- धान अच्छी तरह से धान सूखाकर लाएं

भास्कर न्यूज | अंकिरा

बुधवार को सहायक पंजीयक जीएस शर्मा एवं अपेक्स बैंक के नोडल अधिकारी अरविंद शुक्ला ने धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण किया,जहां खरीदी केन्द्रों में किसानों द्वारा लाए गए धान की क्वालिटी एवं नमी की जांच की। किसानों को बदरा मुक्त एवं मानक के अनुसार सूखे धान लाने की समझाइश दी।

साथ ही खरीदी केन्द्र में किसी प्रकार की असुविधा एवं परेशानी सहित खरीदी संबंधी आवश्यक तथ्यों को पूछा, वहीं खरीदी केन्द्र में बारदाने की उपलब्धता की जानकारी ली। कार्यालयों से खरीदी भंडारण, किसानों को भुगतान एवं परिवहन की जानकारी ली। साथ ही निरीक्षण पंजी में लिखित में उल्लेख करते हुए फड़ प्रभारियों को जरूरी निर्देश दिए। श्री शर्मा एवं श्री शुक्ला दुलदुला, तपकरा, भगोरा होते हुए लगभग 3 बजे कोनपारा पहुंचे, जहां खरीदी केन्द्र में आठ दस किसान धान लाए हुए थे। उस दौरान फड़ प्रभारी संजीव पांडेय, सहायक डमरूधर एवं अन्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...