बैशाख शुक्ल पूर्णिमा आज, तिल दान करने पर मिलेगा विशेष पुण्य

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:05 AM IST

Jashpuranagar News - मेष: सुख, संपत्ति, एश्वर्य की प्राप्ति, माता-पिता से सुख, कार्यों में सफलता। वृषभ: दिखावे में खर्च, अनावश्यक कार्य,...

Jashpur News - chhattisgarh news baishakh shukla full moon today special charity will be available on sesame donation
मेष: सुख, संपत्ति, एश्वर्य की प्राप्ति, माता-पिता से सुख, कार्यों में सफलता।

वृषभ: दिखावे में खर्च, अनावश्यक कार्य, लाभ की कमी, समस्याएं अधिक।

मिथुन: आय वृद्धि, वैभव एवं संपन्नता मिलेगी, नई नौकरी की चाहत पूरी होगी।

कर्क: भाग्य कार्य को बढ़ाएगा, नए मित्र, संसाधनों की प्राप्ति, प्रेम में सफलता।

सिंह: कार्य की अधिकता, नए संपर्क होंगे, आय में वृद्धि, मित्रों से मदद।

कन्या: नुकसान की आशंका, संभलकर रहें, कानूनी उलझनें संभव।

तुला: वैवाहिक प्रस्ताव, प्रेम में सफलता, धन प्राप्ति सुगम, नए मित्र, कार्य होंगे।

वृश्चिक: शारीरिक कमजोरी, शत्रु गुप्त प्रहार कर सकते, व्यय की अधिकता।

धनु: नौकरी में लाभ, संतान सुख, आय वृद्धि, कार्य स्थल पर सुखमय माहौल।

मकर: कार्य की अधिकता, व्यय, तनाव, कानूनी मामलों में सफलता।

कुंभ: भाई-बहन से सुख, कार्य स्थल पर पराक्रम दिखाएं, आय अच्छी।

मीन: धन लाभ, कार्य का विस्तार, आय बेहतर, मित्र से सहयोग, मदद करें।

इसी दिन हुआ था बुद्ध का जन्म

भास्कर न्यूज | जशपुरनगर

वैशाख शुक्ल पूर्णिमा 18 मई को है। यह पूर्णिमा पूरे दिन रहेगी। इसी दिन बुद्ध का अवतार भी हुआ था। पूर्णिमा पर चंद्रमा, यम और शक्राग्नि देवों की साक्षी रहेगी। ज्योतिषी इस दिन तिल का महत्व बताते हैं।

भगवान विष्णु का पूजन करने की परंपरा है। पंडित गौरीशंकर मिश्रा के अनुसार 18 मई शनिवार के दिन आ रही पूर्णिमा पर विशाखा नक्षत्र, वरियान योग और तुला राशि पर चंद्रमा रहेंगे। धर्म शास्त्रीय मतानुसार पूरे वैशाख में यदि कोई धर्म-कर्म नहीं किया है तो इस दिन शास्त्रीय पद्धति से भगवान विष्णु का पंचोपचार पूजन तथा सुगंधित पदार्थों से पूजन करने से भगवान की कृपा मिलती है। पंचागीय गणना अनुसार पूर्णिमा तिथि के स्वामी चंद्रमा, शनिवार के यम तथा विशाखा के स्वामी शक्राग्नि है। पौराणिक मान्यता के अनुसार वैशाख पूर्णिमा सभी में श्रेष्ठ मानी गई है। श्री मिश्रा ने बताया कि इस दिन पके अन्न(भात), स्वर्ण और तिल से भरे बारह घड़े के दान का महत्व है। तिल से स्नान, तिल से हवन, तिल के भरे पात्र का दान, तिल के तेल भरे दीपदान, तिल से पितरों का तर्पण, और शहद सहित तिल दान करने का महत्व भी है।

X
Jashpur News - chhattisgarh news baishakh shukla full moon today special charity will be available on sesame donation
COMMENT