बेकार की बैठकी बुढ़ापे को न्योता, यही असफलता की वजह: संभव राम

Jashpuranagar News - गम्हरिया स्थित अघोर आश्रम में शिवलिंग व महाविभूति स्थल स्थापना दिवस का धूमधाम से समापन हुआ। समापन अवसर पर हुई...

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 02:25 AM IST
Jashpur News - chhattisgarh news invitation for old age meeting old age the reason for the failure possible ram
गम्हरिया स्थित अघोर आश्रम में शिवलिंग व महाविभूति स्थल स्थापना दिवस का धूमधाम से समापन हुआ। समापन अवसर पर हुई गोष्ठी में संस्था प्रमुख गुरुपद संभव राम बाबा ने कहा कि संस्कार, संस्कृति और चरित्र को बचाए रखें। चरित्र यदि बचा है तो हर एक ताकत से आप संघर्ष कर सकते हैं। उन्होंने देश की स्थिति पर भी चिंता जताई और कहा कि विषम परिस्थिति में महापुरुषों के आदर्शों का अनुकरण ही नवजीवन दे सकता है।

सोमवार को महाविभूति स्थापना दिवस पर अखंड संकीर्तन अघोरानांम परोमंत्र के जाप व परिक्रमा का समापन सुबह 9 बजे हुआ। लगातार 24 घंटे तक श्रद्धालु वाद्ययंत्रों के साथ संकीर्तन करते हुए परिक्रमा करते देखे गए। संकीर्तन के समापन के बाद भी दर्शन के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं को महाविभूति स्थल पर कतार लगाए देखा गया। बड़ी संख्या में देश भर से आए स्वयं सेवकेां ने श्रमदान भी किया। गम्हरिया में त्रिकोणिय मंदिर में मां काली की प्रतिमा भी स्थापित है, जिसमें दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। अखंड संकीर्तन एंव गोष्ठी के समापन के बाद भजन कीर्तन का दौर चला, जिसमें विभिन्न राज्यों से आए श्रद्धालुओं ने भजन की प्रस्तुति दी।

महाविभूति स्थल पर समापन अवसर पर भक्तों से गुरुपद संभव बाबा ने ये कहा


प्रवचन देते गुरुपद बाबा संभव राम

प्रवचन सुनते श्रद्धालु।

शिविर में 1600 मरीजों का इलाज

गम्हरिया में इस मौके पर दो दिवसीय स्वास्थ्य शिविर लगाया गया था। शिविर में लगभग 30 चिकित्सकों ने मरीजों का फ्री इलाज किया। शिविर में शनिवार शाम तक 16 सौ मरीजों का इलाज हो चुका था, वहीं विभिन्न रोगों के विशेषज्ञों से मरीज लगातार मिलने पहुंच रहे थे। शिविर में जहां हृदय रोग, गुदा रोग, दंत चिकित्सक सहित महानगरों से आए विशेषज्ञों का मरीजों ने लाभ लिया वहीं होम्योपैथी चिकित्सा व आयुर्वेद के प्रति लोगों का अधिक आकर्षण देखा गया। होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ. आशीष कुमार, अनिल कुमार सिंह ने बताया कि चिकित्सा के क्षेत्र में सभी पद्धतियों का अपने स्थान पर विशेष महत्व होता है। यह अच्छी बात है कि मरीज होम्योपैथ के प्रति अधिक आकर्षित हो रहे हैं। ऐलोपेथी के साथ एक्युप्रेशर, एक्युपंचर विशेषज्ञों का भी मरीजों ने बड़ी संख्या में लाभ लिया।

X
Jashpur News - chhattisgarh news invitation for old age meeting old age the reason for the failure possible ram
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना