कैदी जेल में सीखेगें काम ताकि बाहर निकलकर खुद का कारोबार कर सकें

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:00 AM IST

Jashpuranagar News - जिला जेल में निरूद्ध कैदियों को जिला प्रशासन और जेल प्रशासन के संयुक्त प्रयास से स्वावलंबी बनाने के लिए माली,...

Jashpur News - chhattisgarh news prisoners work in jail to work out so that they can do their own business
जिला जेल में निरूद्ध कैदियों को जिला प्रशासन और जेल प्रशासन के संयुक्त प्रयास से स्वावलंबी बनाने के लिए माली, कारपेंटर, टेलरिंग एवं प्रिटिंग व्यवसाय का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि जेल से छूटने के बाद वे समाज में सम्मान पूर्वक जीवन गुजारने के लिए अपने हुनर के मुताबिक कारोबार अपना सके।

कलेक्टर निलेशकुमार महादेव क्षीरसागर एवं पुलिस अधीक्षक शंकर लाल बघेल ने गुरुवार की सुबह औचक रूप से जिला जेल पहुंचकर वहां कैदियों के बैरक, भोजन एवं चिकित्सा आदि की व्यवस्था का मुआयना किया। कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने जिला जेल में निरूद्ध 285 कैदियों को उनके रूचि के अनुसार विभिन्न ट्रेड का प्रशिक्षण देने की बात कही। वहां उपलब्ध अतिरिक्त बैरक, भवन एवं भूमि को देखते हुए कलेक्टर ने इसका उपयोग प्रशिक्षण कार्यशाला के रूप में करने की बात कही।

उन्होंने कैदियों को माली, कारपेंटर, टेलरिंग एवं प्रिटिंग आदि का प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने जेल परिसर के रिक्त भूमि पर नर्सरी विकास के लिए आवश्यक मार्गदर्शन एवं राशि की व्यवस्था जिला पंचायत एवं उद्यानिकी विभाग की ओर से उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि कैदियों को उक्त ट्रेड के अलावा अन्य ट्रेड जैसे इलेक्ट्रिशियन, मोटर मैकेनिक आदि का प्रशिक्षण भी दिया जा सकता है ताकि कैदियों को रोजगार व्यवसाय से जोड़ा जा सके। इस दौरान कलेक्टर ने बैरकों में कैदियों से मुलाकात की और वहां की व्यवस्था के बारे में भी पूछताछ की। उन्होंने जिला जेल के बैरकों में नया टीवी सेट लगवाने के भी निर्देश दिए। कलेक्टर ने सहायक जेल अधीक्षक विजयानंद सिंह को जेल परिसर के भीतरी हिस्से में गार्डन विकसित करने के साथ ही चारों ओर फूल के पौधे लगवाने को कहा। सहायक अधीक्षक जेल श्री सिंह ने बताया कि वर्तमान में जिला जेल में 6 कैदी, 276 विचाराधीन कैदी तथा 3 सिविल कैदी हैं। कैदियों के इलाज के साथ ही यहां उनके लिए वीडियो कान्फ्रेंसिंग एवं कॉलिंग सुविधा उपलब्ध है।

जेल में कैदियों से मिलते व बैरकों का निरीक्षण करते कलेक्टर व एसपी

X
Jashpur News - chhattisgarh news prisoners work in jail to work out so that they can do their own business
COMMENT