• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Kanker
  • स्मार्ट कार्ड की राशि हड़पने के लिए मरीजों को धमका जबरदस्ती करवा दिया आॅपरेशन
--Advertisement--

स्मार्ट कार्ड की राशि हड़पने के लिए मरीजों को धमका जबरदस्ती करवा दिया आॅपरेशन

Kanker News - भास्कर न्यूज|कांकेर/पखांजूर परलकोट इलाके के गांव पीवी-15 के ग्रामीणों की किडनी निकालने का हल्ला होने के बाद जांच...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:30 AM IST
स्मार्ट कार्ड की राशि हड़पने के लिए मरीजों को धमका जबरदस्ती करवा दिया आॅपरेशन
भास्कर न्यूज|कांकेर/पखांजूर

परलकोट इलाके के गांव पीवी-15 के ग्रामीणों की किडनी निकालने का हल्ला होने के बाद जांच करने स्वास्थ्य विभाग का अमला गांव पहुंचा। जांच में किडनी निकालने जैसी कोई बात तो सामने नहीं आई लेकिन स्मार्ट कार्ड से रकम निकालने ग्रामीणों को दलाल द्वारा रायपुर के सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल पहुंचाने और अस्पताल द्वारा पैसे के लिए जबरदस्ती आपरेशन करने व धमकाने का खुलासा हो गया। पूरे मामले की विभाग जांच करने के साथ अस्पताल तथा उसके स्थानीय दलालों के खिलाफ कार्रवाई करने तैयारी कर रहा है।

मेडिकल विभाग की जांच के बाद पीड़ितों ने भी राहत की सांस ली है क्योंकि महिला ने पेट में लगे टांके को देख किडनी निकालने का हंगामा खड़ा कर दिया था। 17 मार्च को रायपुर निवासी एसके मंडल ने एसेबेड़ा के एक व्यक्ति के साथ मिलकर बिना किसी अनुमति के पीवी-15 में मेडिकल कैंप लगाया था। इसमें स्मार्ट कार्डधारी दस मरीजों को इलाज के लिए चिह्नांकित किया गया। मंजू विश्वास, आलोमति विश्वास, रेणुका विश्वास, कमल मंडल, शांती र|ा, नेपाल भक्त, कनक बढ़ई, सुभाष राय, पारूल साना तथा विपुल राय शामिल थी। अस्पताल के दलाल ने इन मरीजों को बताया कि उनका रायपुर में राजधानी सुपर स्पेशियलिटी हाॅस्पिटल में निशुल्क इलाज किया जाएगा। सभी को बहला फंसाकर रायपुर ले जाया गया। मंजू विश्वास को हाथ में फ्रेक्चर को देखते बोन ड्राफ्टिंग के लिए पेट में चीरा लगाया।

इसके बाद उसका प्लास्टर कर दिया गया। 22 मार्च को सभी मरीजों को वापस गांव लाकर छोड़ दिया गया। इसके बाद जब मंजू विश्वास के पेट में दर्द होने लगा तो उसने अड़ोस पड़ोस में बात बताई। पेट में लगे दस टांको को देख उसे किसी ने कह दिया गया कि उसकी किडनी निकाल ली गई है। इसके बाद महिला ने इसे लेकर हल्ला मचाना शुरू कर दिया। अन्य मरीज भी यही समझने लगे और यह बात सोशल मीडिया में फैल गई।

अस्पताल की स्मार्ट कार्ड मान्यता रद्द करने अनुशंसा: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जेएल उयके ने बताया कि पीवी 15 के सभी मरीजों की जांच की गई। किसी की किडनी नहीं निकाली गई है। राजधानी अस्पताल ने पीवी 15 में बिना अनुमति शिविर लगाया तथा मरीजों को इलाज के लिए जिले से बाहर ले जाने की सूचना तक नहीं दी। महिलाओं का जबरदस्ती आपरेशन करते उनको डराया धमकाया गया। पुरे मामले की जांच कर प्रतिवेदन उच्चाधिकारियों को भेजा जा रहा है। अस्पताल का स्मार्ट कार्ड मान्यता रद्द करने अनुशंसा की जाएगी।

ऑपरेशन के लिए मना करने पर धमकाया

मरीज कमला मंडल तथा विपुला राय के अनुसार राजधानी अस्पताल में उन्हें आॅपरेशन के लिए दबाव बनाया गया। महिलाओं के अनुसार उनके पैर में दर्द था लेकिन वे आपरेशन नहीं कराना चाहती थी। आपरेशन के लिए इंकार करने पर अस्पताल प्रबंधन उन्हें धमकाने लगा यदि वे आपरेशन नहीं कराना चाहते तो 20-20 हजार रुपए देना होगा तभी यहां से जाने दिया जाएगा। पैसे नहीं होने व अस्पताल के दबाव बनाने के कारण आखिरकार ग्रामीण महिलाएं मजबूरी में आॅपरेशन के लिए तैयार हो गई।

पखांजूर। किडनी कांड की जांच करने पीवी 15 पहुंची पुलिस।

जिले में घूमते हैं निजी अस्पतालों के दलाल

इसके पूर्व धनेलीकन्हार व कन्हारपुरी इलाके के मोतियाबिंद से पीड़ित गरीबों को पकड़ जबरदस्ती इलाज के लिए रायपुर ले जाया गया था। इसमें से दो लोगों को दिखाई देना ही बंद हो गया था। जिला अस्पताल के आसपास भी कई बार निजी अस्पताल के दलाल घूमते देखे गए हैं जो मरीजों को जबरदस्ती अस्पताल ले जाते हैं।

अस्पताल ने नियमों की उड़ाई धज्जियां







X
स्मार्ट कार्ड की राशि हड़पने के लिए मरीजों को धमका जबरदस्ती करवा दिया आॅपरेशन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..