• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kanker News
  • चंदा देने से मना किया, दुकान में घुसकर मारपीट व तोड़फोड़ की
--Advertisement--

चंदा देने से मना किया, दुकान में घुसकर मारपीट व तोड़फोड़ की

अन्नपूर्णापारा स्थित एल्युमिनियम सेक्शन दुकान में घुसकर शनिवार शाम कुछ लोगों ने जमकर उत्पात मचाया। कर्मचारियों...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:40 AM IST
अन्नपूर्णापारा स्थित एल्युमिनियम सेक्शन दुकान में घुसकर शनिवार शाम कुछ लोगों ने जमकर उत्पात मचाया। कर्मचारियों से मारपीट करते तोड़फोड़ की। दुकानदार के अनुसार उसके गल्ले में रखे 40 हजार लूट लिए। मारपीट के बाद दहशत फैलाने के लिए प्रमुख आरोपी ने खून से काउंटर पर अपना नाम गोलू लिख दिया। पुलिस ने मामले में रात में ही कुलेश्वर उर्फ गोलू को गिरफ्तार कर लिया। अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।

वारदात के वक्त मौजूद वर्कर अरबाज खान निवासी नरहरपुर ने बताया कि 31 मार्च की शाम 7 बजे दुकान मालिक सफीक खान क्रिकेट खेलने गया था। दुकान में वह अकेला था। पड़ोसी दुकान के कर्मचारी से बात कर रहा था। इसी दौरान कुलेश्वर उर्फ गोलू साथियों के साथ पहुंचा और मालिक को पूछने लगा। आरोपी ने कहा रोज चंदा मांग रहे हैं फिर भी नहीं दे रहे हो। इसके बाद गाली गलौच करने लगा। मना करने पर तोड़फोड़ शुरू कर दी। कांच की सीट तोड़ते सामान को बाहर फेंक दिया। राड से वर्कर की पिटाई की जिससे उसके बाएं हाथ में चोटें आई है। उत्पात मचाने के बाद आरोपी गोलू ने अपने हाथ से निकल रहे खून से काउंटर पर अपना नाम लिख वर्कर को धमकाया कि आज तो इतना ही किए हैं। यदि हमसे उलझोगे तो तुम्हें जान से मार देंगे। पुलिस ने तोड़फोड़ व मारपीट करने का मामला दर्ज किया है।

कांकेर। चंदा को लेकर अन्नपूर्णापारा दुकान में की गई तोड़फोड़।

केस में लूट नहीं की दर्ज उल्टे आरोपियों को छोड़ा

एफआईआर लिखाने पहुंचे पीड़ित वर्कर व उसके मालिक शफीक खान के अनुसार घटना के दौरान गल्ले में 40 हजार रुपए रखे हुए थे। तोड़ फोड़ करने के दौरान आरोपी ने निकाल लिया। वर्कर ने इसकी जानकारी पुलिस को दी भी लेकिन पुलिस ने एफआईआर में नहीं लिखा। पुलिस कहती रही पहले इसे प्रूफ करेंगे। वर्कर के अनुसार मारपीट करने वालों में गोलू समेत चार लोगों को पुलिस ने थाने लाया था। तीन को वह नहीं पहचानता लेकिन वे घटना में शामिल थे। नहीं पहचानने पर पुलिस उन्हें छोड़ दिया। पीड़ित के अनुसार घटना के दौरान 6 से अधिक लोग मौजूद थे।