Hindi News »Chhatisgarh »Kanker» 11 महीने में 60% ही सिलेंडर बंटे, अब 1 महीने में 40% और बांट पाना असंभव

11 महीने में 60% ही सिलेंडर बंटे, अब 1 महीने में 40% और बांट पाना असंभव

उज्ज्वला योजना के तहत जिले को इस सत्र में 36649 गैस कनेक्शन वितरण का लक्ष्य मिला था। जिले में योजना के तहत गैस वितरण का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:05 AM IST

11 महीने में 60% ही सिलेंडर बंटे, अब 1 महीने में 40% और बांट पाना असंभव
उज्ज्वला योजना के तहत जिले को इस सत्र में 36649 गैस कनेक्शन वितरण का लक्ष्य मिला था। जिले में योजना के तहत गैस वितरण का काम बेहद सुस्त गति से चल रहा है। 11 माह में विभाग मात्र 60 प्रतिशत गैस कनेक्शनों का ही वितरण कर पाया है। मात्र एक महीने में शेष 40 प्रतिशत कनेक्शनों का वितरण कर पाना असंभव है।

जिले में अप्रैल 2017 से लेकर फरवरी 2018 तक 11 माह में 22154 गैस कनेक्शनों का ही वितरण हो पाया। सत्र समाप्त होने में मात्र एक माह शेष है जबकि जिला लक्ष्य से अभी 14495 कदम दूर है। सत्र 2016-17 में जिले को 39,900 गैस कनेक्शन वितरण का लक्ष्य मिला था जिसे मार्च तक सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया था। सत्र 2017-18 में लक्ष्य घटाकर 36,649 किया गया इसके बावजूद लक्ष्य के अनुरूप गैस कनेक्शनों का वितरण नहीं हो पाना विभागीय लापरवाही को दर्शाता है।

हर गांव से मिल रही शिकायत: खाद्य विभाग की लापरवाही के चलते उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शनों का वितरण नहीं हो पा रहा है।

ठेल्काबोड़ में एक ही परिवार को उज्जवला के तहत बांटे दो कनेक्शन।

लकड़ी के भरोसे चल रहा काम

ग्राम सिंगारभाठ में 100 महिलाओं को गैस चूल्हा मिलना था लेकिन 55 को ही मिल पाया। गांव की प्यारी नाग, तुलेश सलाम, गणपत सलाम, शिवकुमार यादव ने कहा गैस कनेक्शन के लिए आवेदन लगाए 9 माह से ज्यादा समय हो चुका है। मजबूरी में लकड़ी के भरोसे चूल्हा जलाना पड़ रहा है। सरपंच इंदु ठाकुर ने कहा गांव में खूटापारा व राईसमिल पारा में किसी को भी गैस चूल्हा नहीं मिल पाया है।

अगले सत्र में वितरण

प्रभारी खाद्य अधिकारी महेंद्र पाढ़ी ने कहा जिनको मार्च माह तक योजना के तहत गैस कनेक्शन वितरण नहीं हो पाएगा उन्हें अगले सत्र में वितरण किया जाएगा। योजना के तहत जिनका नाम 2011 के आर्थिक, सामाजिक जनगणना सूची में है उन्हें ही गैस कनेक्शन वितरण करना है।

फैक्ट फाइल

36649लक्ष्य

2215411 माह में वितरण

14495शेष लक्ष्य

योजना में किन्हें गैस कनेक्शन मिलना है

उज्जवला योजना के तहत उन महिलाओँ को गैस कनेक्शन प्रदाय किया जाना है जिनके नाम अब तक कोई गैस कनेक्शन नहीं है। मात्र 200 पंजीयन शुल्क में गैस कनेक्शन के अलावा सिलेंडर तथा चूल्हा भी प्रदान किया जाता है।

वितरण में लापरवाही, एक को बांट दिए दो कनेक्शन

विभाग उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन वितरण में भारी लापरवाही कर रहा है। इसका उदाहरण शहर से लगे ग्राम ठेल्काबोड़ में देखने को मिला। यहां बहुत से अपात्र परिवारों को गैस कनेक्शन बांट दिया गया। ठेलकाबोड़ में ही 10 ऐसे परिवार हैं जिनके घर पहले से गैस कनेक्शन था लेकिन उन्हें फिर से योजना के तहत गैस कनेक्शन प्रदान कर दिया गया। कुछ ग्रामीणों ने आपत्ति भी की, शिकायत की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। गांव की रेखा सिन्हा को 15 दिन पहले दूसरा गैस कनेक्शन प्राप्त हुआ है जबकि उसके पति के नाम पहले से कनेक्शन है। रेखा सिन्हा ने स्वीकार करते कहा पहले वाला कनेक्शन पति के नाम लिया था। पंचायत में आवेदन करने पर योजना के तहत दूसरा गैस चूल्हा, सिलेंडर मिल गया है। गांव के शोरी परिवार को दो गैस कनेक्शन मिल गए। परमिला शोरी ने सफाई में कहा उसके नाम से गैस कनेक्शन अभी मिला है। परिवार में एक गैस सिलेंडर पहले मिला था जो बड़ी बहू के नाम से है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Kanker News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 11 महीने में 60% ही सिलेंडर बंटे, अब 1 महीने में 40% और बांट पाना असंभव
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Kanker

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×