दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 06:46 AM IST

Kanker News - जिले के बहुचर्चित दुर्गूकोंदल दुष्कर्म मामले में कोर्ट ने पांच आरोपियों को सजा सुनाई। जिसमें अपराध की प्रवृत्ति...

Kanker News - chhattisgarh news 5 accused of torture imprisonment till death
जिले के बहुचर्चित दुर्गूकोंदल दुष्कर्म मामले में कोर्ट ने पांच आरोपियों को सजा सुनाई। जिसमें अपराध की प्रवृत्ति को देखते हुए जज ने पांचों आरोपियों को अलग-अलग कई धाराओं में मृत्यु तक कैद की सजा सुनाई। इसके साथ ही जुर्माना भी लगाया। सभी आरोपी पीड़ित महिला के ट्रांसपोर्टर पति की हत्या करने पहुंचे थे।

विवाद भी परिवहन संघ में ट्रक नहीं लगाने को लेकर था। पति के नहीं मिलने पर हत्या करने पहुंचे भाड़े के दो आरोपियों ने महिला से दुष्कर्म किया था। जिसके बाद मामला खुलने में साजिशकर्ता समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

घटना दो साल पहले मार्च 2017 की है। दुर्गूकोंदल का एक ट्रांसपोर्टर हाहालद्दी परिवहन संघ में पदाधिकारी था। दुर्गूकोंदल के ही कृष्णा जैन का ट्रक संघ में नहीं लग पा रहा था। जिससे वह नाराज था और उस पदाधिकारी को जिम्मेदार मान रहा था। इसलिए उसने साथी बी व्यंकटेश व चंद्र विजय जैन के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची। इसके लिए ताड़ोकी के एड़ानार निवासी गजेंद्र सूर्यवंशी व हंसराज जैन को सुपारी दी। 21 मार्च 2017 की रात दोनों कृष्णा जैन के घर शराब पी कर हत्या करने ट्रांसपोर्टर के घर पहुंचे। वह घर पर नहीं था। जिससे उसकी प|ी को चाकू की नोक से अगवाकर अपने साथ जंगल ले गए। घर में मौजूद अन्य लोगों को बंद कर दिया। जंगल में महिला से दुष्कर्म करने लगे। जब ट्रांसपोर्टर घर पहुंचा तो उसे इसका पता चला। ट्रांसपोर्टर साथियों के साथ जब प|ी को तलाशते जंगल पहुंचा तो आरोपी महिला को छोड़ फरार हो गए। महिला की शिकायत पर दुर्गूकोंदल पुलिस ने आरोपियों की तलाश शुरू की थी। घटना के 31 दिन बाद आरोपी पकड़ में आए। जिसके बाद हत्या की साजिश व दुष्कर्म के मामले का खुलासा हुआ। पुलिस ने सभी 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर मामला कोर्ट में पेश की।

9 धाराओं में दी गई सजा

मामला एट्रोसिटी विशेष न्यायाधीश हेमंत सराफ के कोर्ट में पेश किया गया। सरकारी वकील दीपक मंडल ने बताया कि पांचों आरोपियों को धारा 376 घ के तहत मृत्यु तक कैद में रखने व पांच हजार रुपए अर्थदंड तथा 3 (2,5) में आजीवन व पांच हजार रुपए, 395 में 10 वर्ष व एक हजार, 294 में 15 दिन, 506 में 6 माह व पांच सौ, 323 में 6 माह व सौ रूपए, 120 बी में आजीवन कारावास व एक हजार, 458 में 7 साल व एक हजार तथा 342 में 6 माह व पांच सौ रुपए की सजा सुनाई गई है।

X
Kanker News - chhattisgarh news 5 accused of torture imprisonment till death
COMMENT