6 साल पहले बह गई पुलिया को बनाने का प्रस्ताव अटका, अस्थायी पुल से है लोगों की जान जोखिम में

Kanker News - ग्राम साल्हेभाठ से किरगापाटी मार्ग में झुरानदी पर बनी पुलिया 2012 में आई बाढ़ में बह गई थी जो अब तक नही बन पाई है। जब से...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:00 AM IST
Kanker News - chhattisgarh news 6 years ago the proposal to make the bridge overflowed is stuck the temporary bridge is at risk of people39s lives
ग्राम साल्हेभाठ से किरगापाटी मार्ग में झुरानदी पर बनी पुलिया 2012 में आई बाढ़ में बह गई थी जो अब तक नही बन पाई है। जब से पुलिया क्षतिग्रस्त हुई है तब से इसे नए सिरे से बनाने की मांग की जा रही है। ग्रामसभा के साथ लोक सुराज, कलेक्टर जनदर्शन में भी आवेदन दे चुके हैं लेकिन नहीं बनाई गई। गांव के लोग बरसात में पुलिस को अस्थाई रूप से बनाकर जोखिम के बीच निकलते हैं।

घाट पर पाइप पुलिया बनाई थी जो बह गई। इसके बाद पंचायत व ग्रामीणों ने मिलकर छिंद पेड़ की टहनी व बांसबल्ली, बिजली पोल का जुगाड़ लगाते मिट्टी डाली जिससे आना जाना हो पा रहा था। ग्रामीणों का यह अस्थाई कार्य गत वर्ष अगस्त माह में आई बाढ़ में फिर से बेकार हो गया। ग्रामीणों के अनुसार 2012 से लेकर अब तक तीन बार अस्थाई पुलिया की मरम्मत कर चुके हैं। गत वर्ष फिर से बनाई गई यह अस्थाई पुलिया तीन माह पहले क्षतिग्रस्त हो गई है। यहां लगाए गए बांस-बल्ली सड़ रहे हैं।

पुलिया भी धंस रही है। खतरा है लेकिन मजबूरी में ग्रामीण निकल रहे हैं। हाल ही में गांव के रामेश्वरम कचलाम व महेंद्र पुलिया में गिरकर घायल हो चुके हैं। पिछले माह तीन बाइक चालक भी रात के अंधेरे में गिर चुके हैं। गत वर्ष बारिश के दौरान फिसलन की वजह से स्कूल जा रहे शिक्षक गिरकर घायल हो चुके हैं। ग्रामीणों के अनुसार आने जाने के दौरान छात्र आए दिन गिरकर चोटग्रस्त होते रहते हैं। छात्र नदी से होकर पीढ़ापाल हाईस्कूल व हायर सेकंडरी पढ़ने जाते हैं। नदी उस पार ग्राम किरगापाटी में 75 घर तथा ग्राम मर्रापी में 65 घर हैं जिनको हर काम के लिए पीढ़ापाल आना होता है। किरगापाटी के राजेंद्र कुरेटी, महेश दुग्गा ने कहा पुलिया क्षतिग्रस्त हुए 6 वर्ष हो चुके हैं लेकिन अभी तक नए सिरे से बनाने ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अभी तक चार बार ग्रामीण व पंचायत अपने स्तर पर कच्ची पुलिया बना चुकी है जो हर बार क्षतिग्रस्त हो जाती है। ग्राम साल्हेभाठ के सियाराम सलाम, किरगापाटी के विजय हिड़को, अजय हिड़को, तुलेश्वर ने कहा थोड़ी बारिश होने पर ही कच्ची पुलिया क्षतिग्रस्त हो जाती है।

6 साल पहले बही पुलिया की जगह ग्रामीणों ने तैयार की अस्थाई पुलिया।

अंतागढ़ ब्लॉक में 29, कांकेर में 5 पुलियों की जरूरत

जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 34 पुलियों को नए सिरे से बनाने की आवश्यकता है। अंतागढ़ विकासखंड में सर्वाधिक 29 पुलिया की आवश्यकता है। कांकेर विकासखंड में 5 पुलिया निर्माण की जरूरत है। मार्ग में सड़क बन गई है लेकिन नदी, नाले में पुलिया नहीं होने से ग्रामीणों को बारिश में आवागमन में दिक्कत होती है। क्षेत्र के अति संवेदनशील होने के कारण पूर्व में सड़क की स्वीकृति पुलियों को छोड़कर दी गई थी। सड़कों की स्वीकृति के बाद पुल बनाया जाना था लेकिन विभाग की उदासीनता के चलते कार्य प्रकिया में ही है।

जिले में टूट चुकी हैं पांच पुलिया, मरम्मत नहीं

जिले में 5 पुलिया क्षतिग्रस्त हैं जिसमे कांकेर विकासखंड में साल्हेभाठ-किरगापाटी पुलिया क्षतिग्रस्त है। नरहरपुर विकासखंड में डुमरपानी-थानाबोड़ी मार्ग में रपटा, बागडोंगरी-करिहापहर मार्ग में पुलिया क्षतिग्रस्त है। अंतागढ़ विकासखंड में उसेली-तुमसनार मार्ग में दो पुलिया क्षतिग्रस्त है। जिसे अब तक बनाया नहीं गया है।

प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा: कार्यपालन अिभयंता

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना विभाग के कार्यपालन अभियंता यूके कोपुलवार ने कहा किरगापाटी-साल्हेभाठ मार्ग में 50 मीटर लंबा पुल बनाने शासन को प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है। राशि स्वीकृति होने पर नए सिरे से निर्माण किया जाएगा। जहां भी पुलिया की जरूरत है उसे बनवाने प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा जाएगा।

X
Kanker News - chhattisgarh news 6 years ago the proposal to make the bridge overflowed is stuck the temporary bridge is at risk of people39s lives
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना