तीन दिन के ट्रायल में चालक फेल बाईपास से ही होकर आएंगी बसें

Kanker News - सप्ताहभर पहले बस की टक्कर से पुलिस जवान की मौत के बाद व्यवस्था सुधारने के लिए आनन-फानन में आयोजित बैठक एक बार फिर...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:00 AM IST
Kanker News - chhattisgarh news bus passes through the driver fail bypass in a three day trial
सप्ताहभर पहले बस की टक्कर से पुलिस जवान की मौत के बाद व्यवस्था सुधारने के लिए आनन-फानन में आयोजित बैठक एक बार फिर खानापूर्ति साबित हुई। भास्कर ने पहले ही इसे खानापूर्ति बैठक बताया था। आदत से मजबूर बस चालकों में कोई बदलाव नहीं आया है। उन्हें शहर में निर्धारित गति से वाहन चलाकर तीन दिन का ट्रायल देना था। इसमें फेल होने के कारण अब तय किया गया है रायपुर से आने वाली बसों को बाहर से ही स्टैंड भेजा जाएगा। समझाइश के बाद भी चालकों ने अड़ियल रवैया नहीं छोड़ा तो ट्रैफिक पुलिस ने एक्शन मोड में आकर कार्रवाई शुरू कर दी। पहले दिन शुक्रवार को 41 वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई की गई जिसमें दो यात्री बस भी थी।

सप्ताहभर पूर्व लट्टीपारा में जहां बस ने पुलिस जवान को रौंदा था उसी जगह फिर से कांकेर रोडवेज की बस अनियंत्रित गति से सामने चल रही वाहन को ओवरटेक कर रही थी। पुलिस ने बस को मौके पर ही रोक एक हजार रुपए का चालान काटा और चालक का लाइसेंस तीन माह के लिए सस्पेंड करने मामला न्यायालय में पेश किया। इसके अलावा जगह जगह सवारी बैठाने प्रतिबंध के बावजूद मनीष ट्रैवल्स की बस को सवारी भरते पाए जाने पर एक हजार रुपए चालानी कार्रवाई की गई। यात्री वाहनों के अलावा अन्य वाहनों को लेकर भी अब सख्ती बरती जा रही है। पुराने बस स्टैंड में बीच सड़क पर कार खड़ी कर दूसरे वाहन वाले से बहस करने वाले कार चालक के खिलाफ एक हजार रुपए का चालान काटा गया। पहले दिन 41 वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई कर 11500 रुपए वसूले गए। कार्रवाई रविवार को भी जारी रहेगी।

सड़क पर सामान व अतिक्रमण पर कार्रवाई शून्य: हादसे के बाद चक्काजाम के बाद बेलगाम बस चालाकों पर नकेल कसने का आश्वासन दिया गया। शाम को बस ऑपरेटरों व चेंबर अॉफ कॉमर्स के साथ बैठक हुई। सामान बाहर नहीं निकालने मुनादी कराई गई। सड़क से अतिक्रमण हटाने की बात कही गई। सभी मामले में कार्रवाई शून्य रही। न चालकों में बदलाव आया और न अतिक्रमण हटाने या दुकान से बाहर सामान जमाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गई।

शहर के अंदर पुलिस ने किया था तीन दिन का ट्रायल, जिसमें बस चालक फेल

समझाइश के बाद नहीं मानने पर बस चालकों पर शुरू हुई कार्रवाई।

सीट बेल्ट व हेलमेट वालों को दिया पौधा

शनिवार को पुलिस ने जागरूकता अभियान चला घड़ी चौक पर वाहनों की जांच की। चार पहिया वाहनों में सीट बेल्ट और दो पहिया में हेलमेट लगाकर चल रहे चालकों को विभिन्न प्रकार के पौधे देकर उनका स्वागत किया गया।

जो बैठक में तय हुआ था, हो रहा उसके उलट

बैठक में तय हुआ था शहर में सीमा में वाहन 20 किमी प्रति घंटे की गति से चलेंगे। अब भी 60 से अधिक की स्पीड में शहर में वाहन दौड़ाए जा रहे हंै। प्रेशर हॉर्न पर मामला न्यायालय में पेश करना था लेकिन प्रेशर हॉर्न के साथ इमरजेंसी हॉर्न का भी खुलेआम इस्तेमाल हो रहा है। यात्री बैठाने दो स्थान को स्टापेज बनाए गए लेकिन सड़क में कहीं भी वाहन रोक सवारी बैठाई जा रही है। यात्रियों से दुर्व्यवहार पर मामला सीधे न्यायालय में पेश करना था लेकिन अब भी यात्रियों से दुर्व्यवहार जारी है, शिकायत करने उचित प्लेटफॉर्म तक नहीं है।

बस अॉपरेटरों ने टाइमिंग की कमी को हादसे का कारण बताकर बदलवाया था रूट

सप्ताहभर पहले हादसे के बाद हुई बैठक में बस ऑपरेटरों ने कहा था बसों की टाइमिंग काफी कम है। शहर के बाहर से आने से टाइमिंग खत्म हो जाती है जिसके कारण ही स्पीड बढ़ानी पड़ती है। ऑपरेटरों की मांग थी यदि रायपुर से आने वाले वाहन को शहर के अंदर से आने दिया जाए तो हादसे कम होंगे। पुलिस ने ऑपरेटरों की बात मानते शर्त रखी की तीन दिन यदि वे ट्रायल में निर्धारित गति में वाहन चलाते व स्टापेज से सवारी बैठाएंगे तो उन्हें शहर के अंदर से आने दिया जाएगा, लेकिन एेसा नहीं हुआ।

अब कार्रवाई होगी

यातायात प्रभारी केजुराम रावत ने कहा हादसे के बाद समझाइश देने के साथ बस चालकों को आदत सुधारने कहा गया था पर कोई बदलाव नहीं आया। अब कार्रवाई शुरू हो गई है। रायपुर से आ रही बसें पहले की तरह मिनी बाईपास से होते बाहर से ही आएंगी।

X
Kanker News - chhattisgarh news bus passes through the driver fail bypass in a three day trial
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना