ऐसेबेड़ा प्राथमिक शाला भवन का गिर रहा प्लास्टर, बरामदे में बैठ पढ़ाई कर रहे बच्चे

Kanker News - कोयलीबेड़ा ब्लॉक के ग्राम एसेबेड़ा प्राथमिक शाला का भवन कंडम हो चुका है। इसके छत से आए दिन प्लास्टर गिर रहा है।...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:15 AM IST
Pankhanjur News - chhattisgarh news such plaques falling from the primary school building children sitting in the verandah
कोयलीबेड़ा ब्लॉक के ग्राम एसेबेड़ा प्राथमिक शाला का भवन कंडम हो चुका है। इसके छत से आए दिन प्लास्टर गिर रहा है। प्लास्टर गिरने से डरे हुए बच्चे शाला भवन के बरामदे में बैठकर पढ़ाई करने मजबूर हैं। लगातार बारिश होने पर बरामदे भी में पानी टपकने लगता है। प्राथमिक शाला एसेबेड़ा का शाला भवन पूरी तरह से कंडम हो चुका है। आए दिन प्लास्टर गिरने से बच्चे भयभीत रहते हैं।

शिक्षक भी बच्चों की सुरक्षा के चलते भवन के कमरों में पढ़ाना बंद कर दिए हैं। वर्तमान में भवन के बरामदे में सभी पांचों कक्षाएं लगाई जा रही हैं। यह कमरा ही पूरा स्कूल है। सारे शिक्षक और छात्रों का गुजारा इस एकमात्र बरामदे से हो रहा है। शिक्षक अजीत ठाकुर ने बताया कुछ दिनों पहले भी छत का प्लास्टर एमजीएमएल कक्ष में गिर गया। यहां कक्षा पहली तथा दूसरी की कक्षा लगती थी, लेकिन प्लास्टर रात को गिरने से कोई हादसा नहीं हुआ। दो वर्ष पूर्व भी शाला भवन में इसी तरह से प्लास्टर गिर चुका है। इस दौरान भी शाला बंद थी। छात्रों ने बताया उन्हें इस भवन में बैठने में डर लगता है।

अधिक बारिश होने पर तो सारे कमरे टपकने लगते हैं। शाला भवन का पंचायत द्वारा दो बार मरम्मत कराई जा चुकी है। एक वर्ष पूर्व भी शाला भवन की छत की मरम्मत की गई थी, लेकिन पानी टपकना बंद नहीं हुआ न ही प्लास्टर गिरना बंद हुआ। ग्रामीणों ने बताया की शाला भवन के कडंम होने की शिकायत कई बार अधिकारियों को कर चुके हैं। नए भवन की मांग कर चुके हैं, लेकिन शासन द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया।

कुछ दिन पहले एमजीएमएल कक्ष के छत से गिरा प्लास्टर।

भवन की व्यवस्था की है: प्रभारी प्रधान पाठक

प्रभारी प्रधान पाठक एस हालदार ने बताया इसकी जानकारी बीईओ के साथ पंचायत को भी दी गई है। वर्तमान में पंचायत द्वारा शाला के पास ही एक भवन की व्यवस्था की गई है। उसकी सफाई की जा रही है। कुछ दिनों में बच्चों के साथ अन्य भवन में शाला लगाई जाएगी।

विधायक आदर्श ग्राम भी रह चुका है यह गांव

एसेबेड़ा विधायक आदर्श ग्राम भी रह चुका है। पूर्व विधायक भोजराज नाग ने गांव को गोद लिया था। इस दौरान भी लोगों ने नए भवन की मांग की थी। इस दौरान भी शासन की ओर से नए भवन की स्वीकृति नहीं दी गई। कोयलीबेड़ा ब्लॉक में अधिकांश भवन कंडम हो चुके हैं। इसका मुख्य कारण घटिया निर्माण के साथ शालाओं में भवन के रख रखाव के लिए आने वाली राशि का गोल माल होना है।

X
Pankhanjur News - chhattisgarh news such plaques falling from the primary school building children sitting in the verandah
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना