• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kanker News
  • बसों में किराया एसी का, सुविधा नाॅन एसी की, यात्रियों-कंडक्टर में विवाद
--Advertisement--

बसों में किराया एसी का, सुविधा नाॅन एसी की, यात्रियों-कंडक्टर में विवाद

लंबी रूट पर चलने वाली रात्रिकालीन बस सेवाओं से यात्री आए दिन परेशान रहते हैं। गर्मी शुरू होने के बाद बसों में एसी...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 02:25 AM IST
लंबी रूट पर चलने वाली रात्रिकालीन बस सेवाओं से यात्री आए दिन परेशान रहते हैं। गर्मी शुरू होने के बाद बसों में एसी के नाम पर गीदम से रायपुर तक का किराया 490 रुपए से बढ़ाकर 540 रुपए ले रहे हैं, लेकिन इसकी सुविधा तीन घंटे ही यात्रियों को दी जाती है। इसके बाद रास्ते भर एसी बंद कर दिया जाता है। इसे लेकर कई बार बस कंडक्टर व यात्रियों के बीच बहस भी हुई है। ऐसा ही एक मामला बुधवार को सामने आया।पायल ट्रेवल्स की बस में गीदम के सौरभ पारख रायपुर जा रहे थे। कोंडागांव के पास एसी को बस कंडक्टर ने बंद कर दिया। इसके बाद कांकेर तक यात्रियों व कंडक्टर के बीच विवाद हुआ, तब जाकर फिर से एसी चालू की गई।

दैनिक भास्कर से चर्चा में सौरभ ने बताया कि एसी के नाम पर पैसे भी अधिक लिए जाते हैं, लेकिन पूरे रास्ते भर इसकी सुविधा देने से बस कंडक्टर परहेज करते हैं। बस कंडक्टर का सीधे तौर पर कहना है कि इनके मालिक एसी चलाने के लिए मना करते हैं। यदि ऐसा है तो एसी की सुविधा के नाम पर अधिक किराया क्यों लिया जाता है।

सोशल साइट्स पर लोगों ने निकाली भड़ास : एसी बसों में किराया अधिक लेकर एसी बंद रखने का मामला गुरुवार को दिनभर सोशल साइट पर भी गर्माया रहा। सोशल साइट पर बस एजेंट्स के प्रति भी लोगों ने भड़ास निकाली, तो किसी ने उपभोक्ता फोरम में जाने की बात कही।

बस कंडक्टर को समझाएंगे : पायल ट्रैवल्स के गीदम एजेंट जयसिंह साहू ने बताया कि बुधवार से ही एक बस में एसी की सुविधा शुरू की गई थी। बस कंडक्टर को समझाइश दी जाएगी कि यात्री एसी का भी किराया दे रहे हैं, इसका फायदा दें।

टाॅयलेट जाने भी नहीं रोकते गाड़ी

गीदम के राजू, मोहन, ममता, शारदा, विनोद सहित अन्य लोगों ने कहा कि कई बसों के चालक टाॅयलेट तक जाने के लिए गाड़ी नहीं रोकते। बस संचालकों की मनमानी पर लगाम लगाने विभागीय अफसरों द्वारा ध्यान दिया जाना चाहिए। यातायात प्रभारी विमलेश देवांगन ने कहा कि आरटीओ विभाग के साथ मिलकर रात्रिकालीन बसों की जांच की जाएगी। उन्हें यात्रियों को पूरी सुविधा देने समझाइश भी दी जाएगी।