Hindi News »Chhatisgarh »Kanker» शादी के लिए बुक हुए ज्यादातर छोटे वाहनों के पास तो टैक्सी परमिट ही नहीं, मालवाहक में ढोए जा रहे बाराती

शादी के लिए बुक हुए ज्यादातर छोटे वाहनों के पास तो टैक्सी परमिट ही नहीं, मालवाहक में ढोए जा रहे बाराती

बाराती वाहनों के लगातार दुर्घटना होने व इसे रोकने यातायात पुलिस द्वारा चालानी कार्रवाई करने के बावजूद इस खराब...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:05 AM IST

शादी के लिए बुक हुए ज्यादातर छोटे वाहनों के पास तो टैक्सी परमिट ही नहीं, मालवाहक में ढोए जा रहे बाराती
बाराती वाहनों के लगातार दुर्घटना होने व इसे रोकने यातायात पुलिस द्वारा चालानी कार्रवाई करने के बावजूद इस खराब परंपरा पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। बाराती अब भी जान जोखिम में डाल माल वाहनों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके साथ ही शादी का सीजन होने के कारण यात्री बस व टैक्सी चालक भी नियमों का ताक में रख वाहन चला रहे हैं जिससे दुर्घटनाएं हो रही है।

यातायात पुलिस दावा कर रही है कि मालवाहन में सवार बारातियों को पकड़ा जा रहा है। कार्रवाई भी की जा रही है लेकिन हकीकत यह है कि मालवाहन में सवार बाराती पुलिस के नाक के नीचे से नियमों को ठेंगा दिखा गुजर रहे हैं। वह भी दिन दहाड़े। रोकने में पुलिस नाकाम नजर आ रही है। अप्रैल माह में शहर से ऐसे सैकड़ों वाहन गुजरे लेकिन पुलिस एकमात्र बारात ले जा रहे पिकअप के खिलाफ ही कार्रवाई कर पाई। मालवाहन के अलावा शादी के सीजन में यात्री वाहन भी बेलगाम हो गए हैं। बिना परमिट बड़ी वाहनों में बारात ले जाई जा रही है। छोटे छोटे निजी वाहन बिना टैक्सी परमिट के सवारी बैठा नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। बारात के लिए बुक किए जाने वाले अधिकांश छोटे वाहनों के पास टैक्सी परमिट है ही नहीं।

थाने के सामने से बिना किसी खौफ के बारातियों को लेकर गुजरता मालवाहक।

पुलिस को चकमा देने चालकों की ये है रणनीति

शहर के बीच से बारात लेकर गुजर रहे ट्रैक्टर व मालवाहक के चालक अंदरूनी मार्ग से होते हुए वे शहर के आउटर में पहुंचते हैं। पहले तो पूरी कोशिश होती है कि कोई चौक या पुलिस थाना मार्ग में न पड़े और वे शहर पार कर जाए। इसके लिए ऐसे मार्गो का चयन करते हैं। यदि पुलिस थाना या चौक से गुजरना भी हुआ तो सामने एक रेकी करते बाइक चलती है जो चौक चौराहों व पुलिस थाना के सामने से गुजर चालकों को वहां की जानकारी देते हैं। चौक या थाना के सामने पुलिस के सिपाही नहीं होने पर मोबाइल से मैसेज भेज वाहन को पार कराते हैं। ऐसा खास कर दोपहर में किया जाता है जब जवान यहां नहीं होते हैं। वैसे माल वाहन में बाराती ढोए जाने पर दो हजार रुपए का ही जुर्माना होता था लेकिन लगातार हो रहे हादसों को देखते यातायात पुलिस स्पेशल अभियान चला वाहनों को जब्त करने कार्रवाई शुरू की थी।

क्या है नियम?

यातायात पुलिस के अनुसार मालवाहक वाहन में सवारी बैठाने की अनुमति ही नहीं है। इसी तरह बिना टैक्सी परमिट वाले निजी वाहन कार, स्कार्पियों, बोलेरो, कमांडर, जीप में भी सवारी बैठाना नियम शर्ताें का उल्लंघन है।

अभियान चलाया जाएगा

यातायात प्रभारी केजुराम रावत ने बताया माल वाहन में बराती ले जाने वाले चालकों के खिलाफ जांच पड़ताल जारी है। इस माह यातायात जागरूकता सप्ताह होने के कारण एकमात्र माल वाहन पर कार्रवाई की गई है।

अप्रैल माह में हुए बड़े हादसे

6 अप्रैल: बेवरती में सवारी बैठाकर ले जा रहा आटो पलटा, उसमें सवार तीन घायल।

12 अप्रैल: हाहालद्दी में शराब के नशे टैक्सी चालक ने कार को मारी टक्कर। 2 की मौत व 15 घायल।

14 अप्रैल: अंतागढ़ दुग्गापराली के निकट बारातियों से भरी ट्रैक्टर पलटने से 24 बाराती घायल।

15 अप्रैल: कोरर के कर्रा के निकट बारातियों से भरी पिकअप पलटी, 30 बाराती घायल।

18 अप्रैल: नरहरपुर के निकट कोचवाही में पिकअप पलटने से उसमें सवार 6 घायल।

19 अप्रैल: चारामा के निकट मरकाटोला में बाराती बोलेरो दुर्घटनाग्रस्त होने से 5 बाराती घायल।

21 अप्रैल: तेलगरा के पास पिकअप वाहन दुर्घटनाग्रस्त, इसमें सवार तीन घायल।

25 अप्रैल: लखनपुरी में चलती यात्री बस से छात्रा को उतारने के दौरान हुआ हादसा, छात्रा की मौत।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kanker

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×