कवर्धा

--Advertisement--

एक्सीडेंट में मां की मौत के बाद सीने से लिपट गया बंदर, अब पुलिस पालेगी मासूम बंदर को

चौकी से 200 मीटर दूर नेशनल हाईवे पर साेमवार शाम 4 बजे रोड एक्सीडेंट में एक मादा बंदर घायल हो गई।

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 11:54 AM IST
कवर्धा. सुबह मादा बंदर का अंतिम संस्कार हुआ। कवर्धा. सुबह मादा बंदर का अंतिम संस्कार हुआ।

बस्तर(छत्तीसगढ़)। दशरंगपुर चौकी से 200 मीटर दूर नेशनल हाईवे पर साेमवार शाम 4 बजे रोड एक्सीडेंट में एक मादा बंदर घायल हो गई। इसके बाद उसका बच्चा मां से लिपटा गया। अपने कान उसके सीने पर रख धड़कन सुनने की कोशिश करने लगा। इतने में कुछ कुत्ते वहां आ गए, जिसे देखकर मासूम बंदर चिल्लाने लगा। आसपास लोगों ने इसकी सूचना चौकी में दी।


चौकी प्रभारी तेजराम वर्मा और उनके स्टॉफ मौके पर पहुंचे, जहां मादा बंदर घायल थी और उसका बच्चा लिपटा हुआ था। जख्मी होने के कारण मादा बंदर चल नहीं पा रही थी। इस पर पुलिस ने संवेदना दिखाते हुए उसे इलाज के लिए चौकी ले गए।

ज्यादा चोट आने से नहीं बची जान

पशु चिकित्सक विभाग के डॉ. विनय मिश्रा को बुलवाकर मरहम पट्‌टी कराई, फिर भी उसकी जान नहीं बच सकी। चोट ज्यादा होने के देर रात उसकी मौत हो गई।

रातभर चौकी में रखा शव, सुबह किया अंतिम संस्कार

दुर्घटना से घायल हुई मादा बंदर की मौत के बाद रातभर शव को दशरंगपुर चौकी में ही रखा गया। मंगलवार सुबह 9 बजे चौकी के पास ही गड्‌ढा खोदकर पुलिसकर्मियों ने उसका अंतिम संस्कार किया। उस वक्त मृत बंदर का बच्चा भी वहां मौजूद था। चौकी प्रभारी की मानें, तो दफन के वक्त मासूम बंदर की आंखों से आंसू निकल रहे थे।

दशरंगपुर पुलिस चौकी ने ली परवरिश की जिम्मेदारी
मादा बंदर की मौत के बाद उसके मासूम बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों ने उठाई है। वे चौकी में ही रखकर उसकी देखभाल करेंगे। चाैकी प्रभारी श्री वर्मा का कहना है कि गर्मी को देखते हुए पशुओं के लिए पीने की पानी का व्यवस्था चौकी के बाहर किया गया है। इसके लिए पानी टंकी बनाई गई है, जहां बंदर, कुत्ता, गाय, भैंस आदि पानी पीते हैं।
मादा बंदर की मौत के बाद उसके मासूम बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों ने उठाई है। मादा बंदर की मौत के बाद उसके मासूम बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों ने उठाई है।
X
कवर्धा. सुबह मादा बंदर का अंतिम संस्कार हुआ।कवर्धा. सुबह मादा बंदर का अंतिम संस्कार हुआ।
मादा बंदर की मौत के बाद उसके मासूम बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों ने उठाई है।मादा बंदर की मौत के बाद उसके मासूम बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों ने उठाई है।
Click to listen..