कवर्धा

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • नहीं बनी सड़क, 35 के बजाए 80 किमी घूम कर जाना पड़ रहा कवर्धा
--Advertisement--

नहीं बनी सड़क, 35 के बजाए 80 किमी घूम कर जाना पड़ रहा कवर्धा

नवागांव कला छिरहा मेनरोड से कठौतिया बदुआकापा होते हुए कवर्धा जिला को जोड़ने वाली मात्र 7 किलोमीटर सड़क नहीं बन पाई...

Danik Bhaskar

May 31, 2018, 02:35 AM IST
नवागांव कला छिरहा मेनरोड से कठौतिया बदुआकापा होते हुए कवर्धा जिला को जोड़ने वाली मात्र 7 किलोमीटर सड़क नहीं बन पाई है। इस कारण क्षेत्रवासी परेशान हैं। उन्हें छिरहा से कवर्धा जाने के लिए 35 किलोमीटर के बजाय दाढ़ी उमरिया होते हुए 80 किलोमीटर का फासला तय करना पड़ रहा है। जिससे समय एवं पैसा दोनों बर्बाद हो रहा है।

गांव वालों ने बताया कि छिरहा से कवर्धा जाने के लिए बस किराया लगभग 30 रुपए है। वहीं छिरहा से दाढ़ी उमरिया होते हुए कवर्धा का किराया 80 रुपए हो जाता है। इसके साथ ही 2घंटे के बजाय 5 घंटा भी लगता है। जबकि छिरहा से कठौतिया होते हुए बदुआकापा धौराबंद कवर्धा तक 7 किलोमीटर लंबी सड़क बनाने के लिए लोगों ने लोक सुराज, जनसमस्या निवारण शिविर व अन्य माध्यमों से कई बार जिले के अधिकारियों को आवेदन दे चुके हैं। लेकिन आज तक समस्या दूर करने कोई पहल नहीं हो सका है। मुख्यमंत्री डाॅ रमन सिंह के 2007 के सुराज अभियान में छिरहा आने पर लोगों ने बेमेतरा एवं कवर्धा जिला को जोड़ने के लिए हाफ नदी पर पुल बनाने की मांग की थी।

छिरहा. नवागांव कला छिरहा मेनरोड से कठौतिया सड़क खराब हो गई है।

बारिश होने पर कवर्धा से टूट जाता है संपर्क

गांव वालों की मांग पर डाॅ. सिंह ने हाफ नदी पर पुल की सौगात दे दी है। लेकिन 10 साल बाद भी सड़क नहीं बन पाई है। सड़क के बिना करोड़ों की राशि से बने पुल का लाभ लोगों को नहीं मिल पा रहा है। सड़क नहीं होने के कारण बारिश के दिनों में ग्रामीणों का संपर्क कवर्धा जिला से पूरी तरह टूट जाता है।

मंत्री से अधिकारियों तक गुहार लगा चुके हैं लोग

नवागांवकला के ग्रामीणों में अमोक शक्ति सिंह, सुमेर सिंह, विपिन सिंह, संतोष जायसवाल, खीरू चौहान, मनसाराम पटेल, रामराज सिंह, नेमीचंद पटेल आदि ग्रामीणों ने मंत्री सहित अधिकारियों से कई बार सड़क बनाने की गुहार लगा चुके हैं, लेकिन आज तक कोई ठोस पहल नहीं किया जा सका है।

परिजन का इलाज, दवाई व जरूरी सामानों के लिए पैदल जाते हैं लोग

कठौतिया पंचायत के आश्रित ग्राम बदुआकापा के ग्रामीणों में रामनारायण साहू, संजय पटेल, राजाराम चंद्राकर, लोचन साहू, रामू साहू, राजकुमार निषाद, अघनू निषाद आदि लोगो ने बताया कि हम लोग अपने परिजनों का इलाज के लिए खाट एवं अन्य जरुरी दवाई व सामानों के लिए पैदल ही जाते हैं। यही हाल नवागावकला का है। जहां सालो से नवागांवकला से छिरहा तक रोड नहीं है।

गर्मी में भी सड़क के गड्‌ढ़ों में जगह-जगह भरा गंदा पानी, फैला कीचड़

यहां की सड़क में जगह जगह गड्‌ढ़े हैं, जहां पूरे गांव का गंदा पानी भरा रहता है और सड़कों पर भी बहते रहता है। लोग भीषण गर्मी में भी कीचड़ की समस्या झेल रहे हैं। गांव की समस्या आज भी ज्यों की त्यों बनी हुई है।

सड़क निर्माण के लिए एस्टीमेट भेजा स्वीकृति के बाद शुरू होगा काम


Click to listen..